This RSS feed URL is deprecated

'57000 सैनिकों की दोबारा होगी तैनाती, सशस्त्र बलों में सुधार के पीछे डोकलाम विवाद नहीं' - Zee News हिन्दी

नई दिल्ली: भारतीय सेना में सुधार को लागू करने के लिए सरकार ने लेफ्टिनेंट जनरल डी. बी. शेकतकर (सेवानिवृत्त) समिति की सिफारिशों के पहले बैच की 65 सिफारिशों को स्वीकार कर लिया है, जिसके तहत 57,000 सैन्य कर्मियों की विभिन्न जरूरी कामों के लिए दोबारा तैनाती होगी. केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली रक्षा मंत्रालय भी संभाल रहे हैं. उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में यह फैसला किया गया कि इन सिफारिशों को साल 2019 के अंत तक लागू कर दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि रक्षा मंत्रालय ने इस पर मंगलवार (29 अगस्त) को फैसला किया था, जिसे मंत्रिमंडल ने बुधवार (30 अगस्त) को मंजूरी दे दी. जेटली ने कहा, "यह आजादी के बाद भारतीय सेना में किया गया सबसे बड़ा सुधार है ...और अधिक »

सेना में बढ़ेंगे 57000 लड़ाकू जवान, 65 सुधारों को मंजूरी - Business Standard Hindi

Ads by Google. सेना में सुधार. ▻ लड़ाकू और गैर लड़ाकू सैनिकों की संख्या का अनुपात 1:1.5 ▻ इस अनुपात को 1:1 या इससे भी बेहतर बनाने का प्रस्ताव ▻ सेना में 38,000 अधिकारी और 11 लाख जवान ▻ सिफारिशें लागू होने से बचेंगे सालाना 25,000 करोड़ रुपये. सेना में इस समय प्रशासनिक और आपूर्ति शृंखला जैसे कामों में लगे सैनिकों की संख्या लड़ाकू सैनिकों से ज्यादा है। रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने लड़ाकू सैनिकों की संख्या बढ़ाने के लिए बुधवार को 65 सुधारों को लागू करने की मंजूरी दे दी। इसका मकसद प्रशासनिक और युद्ध अभियानों में मदद पहुंचाने वाली इकाइयों में सैनिकों की संख्या को कम करके उन्हें युद्ध के लिए तैयार करना है। रक्षा मंत्रालय ने कहा कि इन सुधारों को 31 दिसंबर, 2019 तक ...और अधिक »

सेना की मारक क्षमता बढ़ाने के लिए मोदी सरकार उठाने जा रही है ये 10 कदम - NDTV Khabar

आजादी के बाद सेना में सबसे बड़ा सुधार करते हुए सेना में पुर्नसंतुलन स्थापित करने के उद्देश्य से 57,000 जवानों को दोबारा नियुक्त किया जाएगा. ख़बर न्यूज़ डेस्क, Updated: 31 अगस्त, 2017 10:51 AM. 391 Shares. ईमेल करें. टिप्पणियां. सेना की मारक क्षमता बढ़ाने के लिए मोदी सरकार उठाने जा रही है ये 10 कदम. खास बातें. रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने दी जानकारी; शेटकर समिति की 65 सिफारिशें की गई मंजूर; सेना की मारक क्षमता बढ़ाने पर जोर. नई दिल्ली: भविष्य में भारतीय सेना की चुनौतियों को देखते हुए केंद्र सरकार ने इसमें अब तक के सबसे बड़े सुधार को मंजूरी दे दी है. आजादी के बाद सेना में सबसे बड़ा सुधार करते हुए सेना में पुर्नसंतुलन स्थापित करने के उद्देश्य से 57,000 जवानों को दोबारा ...और अधिक »

भारतीय सेना में किया जाएगा बड़ा सुधार, 57 हजार सैन्यकर्मियों की दोबारा होगी तैनाती - India.com हिंदी

नई दिल्ली| भारतीय सेना में सुधार को लागू करने के लिए सरकार ने लेफ्टिनेंट जनरल डी. बी. शेकतकर (सेवानिवृत्त) समिति की सिफारिशों के पहले बैच की 65 सिफारिशों को स्वीकार कर लिया है, जिसके तहत 57,000 सैन्य कर्मियों की विभिन्न जरूरी कार्यो के लिए दोबारा तैनाती होगी. केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली रक्षा मंत्रालय भी संभाल रहे हैं. उन्होंने कहा कि केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में यह फैसला किया गया कि इन सिफारिशों को साल 2019 के अंत तक लागू कर दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि रक्षा मंत्रालय ने इस पर मंगलवार को फैसला किया था, जिसे मंत्रिमंडल ने बुधवार को मंजूरी दे दी. जेटली ने कहा कि यह आजादी के बाद भारतीय सेना में किया गया सबसे बड़ा सुधार है और इसे सेना के ...और अधिक »

बड़े सुधारों से सेना की मारक क्षमता बढ़ाएगी सरकार - नवभारत टाइम्स

नई दिल्ली डोकलाम विवाद खत्म होने के तुरंत बाद भारतीय सेना की जंगी तैयारियों को बेहतर करने की दिशा में सरकार ने एक बड़ा फैसला किया है। भारतीय सेना में एक बड़े सुधार के तहत नॉन ऑपरेशनल जिम्मेदारियों में तैनात 57 हजार अफसरों और सैनिकों की नए सिरे से तैनाती होगी और उन्हें ऑपरेशनल भूमिकाओं में लगाया जाएगा। इसके अलावा सेना में सिविलियनों को उन भूमिकाओं में लगाया जाएगा, जिन्हें निभाने के लिए सैनिकों की जरूरत नहीं है। ब्रिटिश शासन के जमाने से चली आ रही कुछ ऐसी सैन्य संस्थाओं को खत्म किया जाएगा, जिनकी जरूरत आज के दौर में नहीं मानी जा रही है। सशस्त्र बलों की जंगी क्षमता बढ़ाने और रक्षा खर्चों को नए सिरे से बैलेंस करने के लिए मनोहर पर्रिकर के ...और अधिक »

सेना में जल्द होंगे बड़े बदलाव, 57 हजार सैनिकों को फिर मिलेगी तैनाती: जेटली - अमर उजाला

सेना की युद्धक क्षमता बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार 57 हजार सैन्य अधिकारियों, जेसीओ एवं अन्य कर्मियों को फिर से तैनाती देने जा रही है। सैन्य सुधार पर गठित शेकातकर समिति की सिफारिश को मानते हुए यह फैसला किया गया है। युद्धक क्षमता बढ़ाने के अलावा समिति को रक्षा खर्च में संतुलन कायम करने के लिए भी सुझाव देना था। इसके लिए समिति ने संसाधनों के बेहतर इस्तेमाल की अनुशंसा की है। इन सिफारिशों पर 31 दिसंबर, 2019 से अमल किया जाएगा। रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार को यहां केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक के बाद बताया कि आजादी के बाद यह पहला मौका है जब सेना में अत्यंत दूरगामी प्रभाव वाली बड़ी सुधार प्रक्रिया शुरू की गई है। जब उनसे यह पूछा गया कि कहीं यह कदम दोकलम विवाद ...और अधिक »

सेना में सुधार शुरू, सैन्य क्षमता बढ़ाने पर जोर - दैनिक जागरण

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। ऐसे समय जब दो अहम पड़ोसी देशों पाकिस्तान और चीन के साथ सैन्य तनाव लगातार बढ़ रहे हैं, भारत ने अपनी सेना में बड़े सुधारों की प्रक्रिया तेज कर दी है। एक तरफ भारतीय सेना के लिए आवश्यक अस्त्र-शस्त्र की खरीदारी की प्रक्रिया को तेज की गई है तो दूसरी तरफ से सेना के अनावश्यक व अप्रासांगिक हो चुके विभागों को बंद किया जा रहा है। एक ही तरह के काम में लगे तमाम विभागों को एक साथ मिलाया जा रहा है। इससे तकरीबन 57 हजार अधिकारियों, जेसीओ और ओआर को ज्यादा उपयोगी कामों में लगाया जा सकेगा। रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने इसके लिए लेफ्टिनेंट जनरल (रिटायर) डॉ. डीबी शेखाटकर समिति की कई सिफारिशों को लागू करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है ...और अधिक »

सेना में होगा सुधार: जेटली बोले, 57000 सैनिकों की होगी दोबारा तैनाती - Hindustan हिंदी

बदलती तकनीक और जरूरतों के मद्देनजर केंद्र सरकार ने सेना में बड़े सुधार करने का फैसला लिया है। केंद्र सरकार ने इसको मंजूरी दी है। इसके तहत 57 हजार अफसरों और जवानों को दूसरी भूमिकाओं में तैनात किया जाएगा। ये अभी तक जिन कार्यो में तैनात थे अब तकनीक आदि के चलते उनमें बड़ा बदलाव आ चुका है। दूसरे, सेना अब संख्या बल की बजाय नई प्रौद्यौगिकी पर फोकस बढ़ा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में बुधवार को हुई केंद्रीय मंत्रिमंडल की बैठक में इस प्रस्ताव पर मुहर लगी। बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत में वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि इन कार्मिकों को मौजूदा जरूरत के हिसाब से नई भूमिका में तैनात किया जाएगा। शेतकर समिति की सिफारिशें मानी जेटली ने कहा कि ...और अधिक »

क्या अब जल्द ही भारतीय सेना में बड़े स्तर पर सुधार की उम्मीद की जा सकती है? - सत्याग्रह

लगभग 12 लाख सैन्यकर्मियों वाली भारतीय सेना में अब बड़े स्तर पर सुधार की उम्मीद बंधी है. द टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने सेनाओं में व्यापक स्तर पर सुधार की अनुशंसा करने वाली शेकतकर समिति की 65 सिफारिशों को मान लिया है. इन्हें लागू करने के लिए पहले चरण की प्रक्रिया भी शुरू हो रही है. सूत्रों के मुताबिक सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल डीबी शेकतकर की अध्यक्षता में बनी समिति ने दिसंबर 2016 में पेश की गई रिपोर्ट में सेनाओं में सुधार के लिए कुल 120 सिफारिशें की थीं. इनमें से 99 सिफारिशाें को सेनाओं के पास भेजा गया था. ताकि वे इन्हें लागू करने की योजना बनाकर सरकार को दे सकें. इन्हीं में से 65 को लागू करने के लिए अभी मंज़ूरी दी गई है ...और अधिक »

सेना में बड़ा फेरबदल: 57000 जवानों, अफसरों की नए सिरे से तैनाती करेगी नरेंद्र मोदी सरकार - Jansatta

शेकटकर कमेटी ने भारतीय सेना में बदलाव के 99 सुझाव दिए थे जिसमें से 65 सुझावों को नरेंद्र मोदी सरकार ने स्वीकार कर लिया है। Author जनसत्ता ऑनलाइन August 31, 2017 13:37 pm. 2.6K. Shares. Share. Next. रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार (30 अगस्त) को सेना में फेरबदल की घोषणा की। (FILE Photo). डोकलाम विवाद सुलझने के चंद रोज बाद ही नरेंद्र मोदी सरकार ने भारतीय सेना की मारक क्षमता बढ़ाने के लिए बड़े बदलाव के घोषणा की है। केंद्र सरकार ने करीब 57 हजार भारतीय अफसरों और सैनिकों को संसाधनों के बेहतर इस्तेमाल के मद्देनजर की तैनाती में फेरबदल किया गया है। रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार (30 अगस्त) को इसकी घोषणा करते हुए संभवतः आजादी के बाद पहली बार भारतीय सेना में इतना बड़ा ...और अधिक »