केंद्र ने माना- नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मृत्यु 1945 में विमान दुर्घटना के दौरान हुई - Jansatta

नेताजी की मौत से जुड़े विवाद के बीच सरकार ने कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस का 1945 में एक विमान दुर्घटना में निधन हो गया था। Author जनसत्ता नई दिल्ली/ कोलकाता | June 1, 2017 03:18 am. 0. Shares. Facebook · Twitter · Google Plus · Whatsapp. नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 120वीं जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्‍हें श्रद्धांजलि दी। नेताजी की मौत से जुड़े विवाद के बीच सरकार ने कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस का 1945 में एक विमान दुर्घटना में निधन हो गया था। वहीं नेताजी के परपोते और भाजपा नेता चंद्र बोस ने नेताजी के निधन पर केंद्र सरकार के बयान को खारिज करते हुए उनके लापता होने के पीछे के ...

केंद्र ने आरटीआई के जवाब में कहा- नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत विमान हादसे में ही हुई थी - दैनिक भास्कर

नई दिल्ली| केंद्र सरकार ने एक आरटीआई का जवाब देते हुए कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत 1945 में ताइवान में हुए एक प्लेन हादसे में हुई थी। केंद्रीय गृहमंत्रालय द्वारा आरटीआई के जवाब पर नेताजी सुभाष चंद्र बोस के परिवार ने नाराजगी जताई है। सुभाष चंद्र बोस के परपोते और बंगाल भाजपा उपाध्यक्ष चंद्र बोस ने कहा है कि आखिर कैसे सरकार बिना किसी ठोस सबूतों के मौत का दावा कर सकती है। उन्होंने कहा, 'मैं इस पूरे मामले को पीएम नरेंद्र मोदी के पास ले जाऊंगा। उन्होंने ही 70 साल बाद फाइल को सार्वजनिक किया था। बोस का कहना है कि पीएम के साथ हुई बैठक में उन्होंने मौत के रहस्य का हल ...

सरकार ने खत्म किया रहस्य, सुभाष चंद्र बोस की मौत प्लेन क्रैश में ही हुई, नेताजी के रिश्तेदार हुए नाराज़ - News State

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत को लेकर बीजेपी और केंद्र की मोदी सरकार ने पर्दा उठाने का दावा किया था। साथ ही उनकी मौत से जुड़े सभी तर्कों को खारिज भी किया था। लेकिन उनकी मौत की गुत्थी पर 70 सालों के पर्दे को हटाते हुए सरकार ने कहा है कि उनकी मौत ताइवान में हुए प्लेन क्रैश में हुई। सरकार ने एक आरटीआई के जवाब में कहा है कि 18 अगस्त 1945 को नेताजी की मौत ताइवान में हुए प्लेन क्रैश में हुई थी। सयक सेन नाम के एक व्यक्ति ने आरटीआई के तहत सरकार से नेताजी की मौत पर सवाल पूछा था। जिसके जवाब में गृह मंत्रालय ने कहा है कि शहनवाज कमिटी की रिपोर्ट, जस्टिस जी.डी. खोसला कमिशन, और ...

बोस की मृत्यु 1945 में हुई : सरकार - नवभारत टाइम्स

(यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।) भाषा | Updated: May 31, 2017, 09:45PM IST. नयी दिल्ली, 31 मई :भाषा: नेताजी की मौत से जुड़े विवाद के बीच सरकार ने आज कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस का 1945 में एक विमान दुर्घटना में निधन हो गया था। कोलकाता के एक निवासी द्वारा सूचना के अधिकार के तहत मांगी गई जानकारी के जवाब में गृह मंत्रालय ने कहा कि नेताजी की मौत की जांच करने वाली विभिन्न समितियों की रिपोर्ट पर विचार करने के बाद सरकार इस नतीजे पर पहुंची है। बहुत से लोगों का मानना था कि नेताजी इस हादसे में बच गये थे। मंत्रालय ने ...

एक RTI पर मोदी सरकार ने वही जवाब दिया, जिसके लिए नेहरू पर शक किया गया था - The Lallantop

नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने ऐसी ज़िंदगी जी जिसने लाख किस्से जने. लेकिन सबसे ज़्यादा किंवदंतियां रहीं उनकी मौत के बारे में. कोई कहता है कि 1945 में हुई एक विमान दुर्घटना में उनका देहांत हो गया था तो कोई कहता है कि वो उसमें बच गए थे और अयोध्या में गुमनामी बाबा नाम से रहते थे. फिर कुछ लोग कहते हैं कि गुमनामी बाबा दरअसल कप्तान बाबा थे जो एक दशक के बाद गुमनामी बाबा बन कर लौटे थे. सरकार पर दबाव था कि इन मतों पर अपनी राय साफ करे. अब जाकर भारत सरकार ने साफ-साफ कह दिया है कि उसके मुताबिक नेताजी का देहांत 18 अगस्त 1945 को हुई विमान दुर्घटना में ही हो गया था. आरटीआई आवेदन का ...

केंद्र सरकार ने खोला राज... ऐसे हुई थी सुभाष चंद्र बोस की मौत। - NewsToINDIA

भारतीय इतिहास के प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस जिनकी मौत एक पहेली बन कर रह गई थी, केंद्र सरकार ने इस राज से पर्दा उठा दिया है। नई दिल्ली, 31 मई :सुभाष चंद्र बोस,जिन्होंने भारत को आजाद करने के लिए आजाद हिन्द फौज का गठन किया और अपनी जान की भी परवाह नहीं की। लेकिन देश के लिए उनकी ये कुर्बानी आजाद भारत में महज एक राजनीतिक मुद्दा बनकर रह गया है। नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत को लेकर पिछले 70 सालों से रहस्य बना हुआ था लेकिन, इसे लेकर अब तस्वीर साफ होती दिख रही है। सरकार ने एक आरटीआई के जवाब में इस राज पर से पर्दा उठाया है। आरटीआई के जवाब के अनुसार 18 अगस्त ...

आरटीआई पर केंद्र का जवाब, 1945 के विमान हादसे में हुई थी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत - Oneindia Hindi

नई दिल्ली। नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत को लेकर तमाम तरह के दावों और बातों को दरकिनार करते हुए केंद्र सरकार ने एक आरटीआई का जवाब देते हुए कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत साल 1945 में ताइवान में हुए एक विमान हादसे में हुई थी। RTI, subhash chandra bose, baba, बाबा, सुभाष चंद्र बोस, आरटीआई. सायक सेन नाम के शख्स ने मार्च में एक आरटीआई दायर कर गृह मंत्रालय से पूछा था कि नेताजी की मौत कब हुई। इसके जवाब में मंत्रालय ने नेताजी की मौत 1945 के विमान हादसे में होना बताई है। हालांकि केंद्र की तरफ से दिए गए इस जवाब पर विवाद भी शुरू हो गया है। बोस के परिवार और विपक्ष के कई दलों ने ...

चुनाव से ठीक पहले BJP ज्वाइन करने वाले नेता जी के पोते अब मोदी सरकार से नाराज हैं - इंडिया संवाद

केंद्र की मोदी सरकार ने एक आरटीआई के जवाब में अब साफ़ कर दिया है कि नेता जी सुभाष चंद्र बोस की मौत 18 अगस्त 1945 को ताइवान में हुए प्लेन क्रैश में हुई थी। चुनाव से ठीक पहले BJP ज्वाइन करने वाले नेता जी के पोते अब मोदी सरकार से. 31 May 07:18 2017. Share: AddThis Sharing Buttons. Share to Facebook Share to Twitter Share to WhatsApp Share to Google+ Share to LinkedIn Share to Reddit. 0 comments 0 share. इंडिया संवाद ब्यूरो. नई दिल्ली : केंद्र की मोदी सरकार ने एक आरटीआई के जवाब में अब साफ़ कर दिया है कि नेता जी सुभाष चंद्र बोस की मौत 18 अगस्त 1945 को ताइवान में हुए प्लेन क्रैश में हुई थी। सयक सेन नाम के एक आदमी ने ...

RTI में केंद्र का जवाब विमान हादसे में हुई नेताजी बोस की मृत्यु - News Track

नई दिल्ली/ कोलकाता : नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत को लेकर जारी संशय को खत्म कर केंद्र सरकार ने एक RTI के जवाब में बताया कि नेताजी की मौत विमान हादसे में हुई थी. जबकि इस जवाब से नेताजी का परिवार खुश नहीं है. नेताजी के पोते चंद्र कुमार बोस ने कहा कि यह काफी गैर जिम्मेदाराना है, केंद्र सरकार इस तरह का जवाब कैसे दे सकती है, जबकि मामला अभी भी सुलझा नहीं है. उल्लेखनीय है कि यह आरटीआई सायक सेन नामक व्यक्ति ने दायर की थी, जिसके जवाब में गृह मंत्रालय ने स्पष्ट तौर पर कहा है कि नेताजी की मौत 18 अगस्त 1945 को हुई थी.साथ ही जवाब में यह भी कहा गया है कि भारत सरकार की ओर से ...

सरकार ने खोला रहस्य, विमान हादसे में गई थी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जान - नवभारत टाइम्स

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत कैसे और कब हुई, यह सवाल पिछले 70 सालों से रहस्य बना हुआ था लेकिन सरकार ने एक आरटीआई के जवाब में इस राज पर से पर्दा उठाया है। आरटीआई के जवाब के अनुसार 18 अगस्त 1945 को नेताजी की मौत ताइवान में हुए प्लेन क्रैश में हुई थी। सयक सेन नाम के एक आदमी ने आरटीआई के तहत यह सवाल पूछा था। जवाब में गृह मंत्रालय ने कहा है कि शहनवाज कमिटी की रिपोर्ट, जस्टिस जी.डी. खोसला कमिशन, और जस्टिस मुखर्जी कमिशन की जांच से सरकार इस निष्कर्ष पर पहुंची है कि नेताजी की मौत एक विमान दुर्घटना में 1945 में हुई थी। RTI का जवाब. सायक सेन ने आरटीआई में सरकार से गुमनामीबाबा ...

मोदी सरकार ने किया स्वीकार, नेताजी की मौत प्लेन क्रैश में हुई - EenaduIndia Hindi

नई दिल्ली। स्वतंत्रता सेनानी सुभाष चंद्र बोस के निधन पर विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। एक आरटीआई के जवाब में मोदी सरकार ने माना कि नेताजी की मृत्यु हवाई दुर्घटना (प्लेन क्रैश) में ही हुई थी। जवाब सामने आते ही बोस के परिवार वालों ने इसे नकार दिया है। उन्होंने पीएम मोदी से पूरे मामले में दखल देने की अपील की है। गृह मंत्रालय के द्वारा दिए गए जवाब में कहा गया है कि शाहनवाज कमेटी, जस्टिस जीडी खोसला कमीशन और जस्टिस मुखर्जी कमिशन की रिपोर्ट पर विचार करने के बाद यह निष्कर्ष निकलता है कि नेताजी की मृत्यु 18 अगस्त 1945 को प्लेन क्रैश में हुई थी। नेताजी के पोते चंद्र कुमार ...

खुलासा : मोदी सरकार ने बताया, कैसे हुई थी 'नेताजी' की मौत! - Special Coverage News

नई दिल्ली : नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत को कैसे हुआ यह बड़ा सवाल है, लेकिन उनीक मौत को लेकर तस्वीर अब साफ होती दिख रही है। एक आरटीआई आवेदन का जवाब देते हुए भारत सरकार ने बताया है कि नेताजी की मौत विमान हादसे में हुई थी। गृह मंत्रालय ने बाबत जवाब दिया कि शाह नवाज कमेटी, जस्टिस जी डी खोसला कमिशन और जस्टिस मुखर्जी कमिशन आफ इंक्वायरी के रिपोर्टों के अनुसार केंद्र सरकार इस निष्कर्ष पर पहुंची है कि नेताजी की मौत 18 अगस्त 1945 को प्लेन क्रैश में हुई थी।

विवाद खत्म, प्लेन क्रैश में हुई थी नेताजी की मौत - Khabar NonStop

netaji नई दिल्ली। RTI के जवाब में केंद्र सरकार ने कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत प्लेन क्रैश में हुई थी। गृह मंत्रालय ने पहली बार कहा कि 1945 में ताइवान में हुई प्लेन क्रैश में नेताजी की मौत हो गई थी। गृह मंत्रालय ने यह भी कहा कि नेताजी को लेकर गुमनामी बाबा की बातें महज अफवाह है। हालांकि गृह मंत्रालय के जवाब से नेताजी के परिजन नाखुश हैं। उन्होंने सरकार से माफी की मांग की है। 18 अगस्त 1945 को हुई थी मौत. सायक सेन ने नेताजी की मौत को लेकर RTI दायर की थी। गृह मंत्रालय ने इसका जवाब दिया और कहा कि नेताजी की मौत प्लेन क्रैश में ही हुई थी। उनकी मौत 18 अगस्त 1945 को हुई थी।

अगर ये जानकारी पुख्ता है तो अब इस दुनिया में नहीं हैं नेताजी - दैनिक जागरण

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के अंतिम दिनों को लेकर तमाम तरह की जानकारियां सामने आती रही हैं। लेकिन केंद्र सरकार की जानकारी के मुताबिक नेताजी अब इस दुनिया में नहीं हैं। नई दिल्ली [स्पेशल डेस्क] । 'तुम मुझे खून दो, मैं तुम्हे आजादी दूंगा' और दिल्ली चलो के स्लोगन को पढ़ने के बाद ये बताने की जरूरत नहीं है कि हम भारत की आजादी के किस नायक की बात कर रहे हैं। देश की आजादी की लड़ाई में लाखों लोगों ने अपनी जवानी खपा दी। देश की आजादी का मकसद ही उनके जीवन का सपना था। उन महान सपूतों में से एक थे सुभाष चंद्र बोस जिन्हें लोग प्यार से नेताजी के नाम से बुलाते थे। नेताजी अब इस ...

सुभाषचंद्र बोस के मामले में पोते ने पीएम से हस्‍तक्षेप का किया अनुरोध - दैनिक जागरण

एक आरटीआई में पूछे गए सवाल के जवाब में केंद्र सरकार ने कहा है कि एक विमान दुर्घटना में नेताजी मारे गए थे। इस जवाब पर परिवार वालों ने आपत्ति जताई है। कोलकाता, एएनआइ। नेताजी सुभाष चंद्र बोस पर एक आरटीआई आवेदन का जवाब देते हुए केंद्र सरकार ने पहली बार स्‍वीकार किया है कि 1945 में एक विमान हादसे में उनकी ताइवान में मौत हो गई। वहीं इस जवाब पर नाखुशी जताते हुए नेताजी के पोते चंद्र कुमार बोस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस मामले में हस्‍तक्षेप करने का आह्वान किया है। साथ ही अधिकारियों को फर्जी रिपोर्ट देने से मना करने को भी कहा है। चंद्र कुमार बोस ने कहा कि मामला इतना ...

'1945 में विमान हादसे से हुई नेताजी की मौत', सरकार के इस जवाब से बोस के परिजन नाराज - Medhaj News

एक RTI के जवाब में केंद्र सरकार ने यह जवाब दिया है कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत विमान हादसे से हुई है। हालांकि, सरकार के इस जवाब से नेताजी के परिवारवाले खुश नहीं है। नेता जी के पोते चंद्र कुमार बोस ने कहा है कि सरकार का यह व्यवहार काफी गैर जिम्मेदाराना है, केंद्र सरकार इस तरह का जवाब कैसे दे सकती है, जबकि मामला अभी तक सुलझा नहीं है। दरअसल, सूचना के अधिकार(RTI) के तहत मांगी गई जानकारी में गृह मंत्रालय ने जवाब दिया है कि, “नेता जी की मौत से जुड़ी 37 फाइलें जारी की थी, सहनवाज कमेटी, जस्टिस जीडी खोसला कमीशन और जस्टिस मुखर्जी कमीशन की रिपोर्ट देखने के बाद सरकार इस ...

सरकार ने पहली बार माना; विमान हादसे में हुई थी नेताजी की मौत, चंद्र बोस बोले- माफी मांगे केंद्र - Zee News हिन्दी

नई दिल्ली : केंद्र सरकार ने पहली बार कहा है कि नेताजी सुभाषचंद्र बोस की मृत्यु एक विमान दुर्घटना में 1945 में ताइवान में हुई थी. नेताजी के परिजन केंद्र सरकार के इस जवाब से नाखुश हैं. नेताजी के परपोते और बंगाल भाजपा के नेता चंद्र कुमार बोस ने कहा कि गृह मंत्रालय को इस मामले में माफी मांगनी चाहिए. यह आरटीआई आवेदन सायक सेन नामक शख्स ने दायर की थी जिसके जवाब में गृह मंत्रालय ने जवाब भेजा है. आरटीआई में पूछे गए सवाल के जवाब में साफ तौर पर कहा गया है कि नेताजी की मौत 18 अगस्त 1945 को हुई थी. केंद्रीय गृह मंत्रालय ने जवाब में कहा है, शहनवाज कमेटी, जस्टिस जीडी खोसला कमीशन ...

केंद्र सरकार ने किया साफ, 1945 के विमान हादसे में हो गई थी नेताजी की मौत - Nai Dunia

नई दिल्ली। नेताजी सुभाष चंद्र बोस के निधन को लेकर हमेशा से ही सवाल उठते रहे हैं। लेकिन इस बार केंद्र सरकार ने लिखित में कह दिया है कि नेताजी की मौत 1945 के विमान हादसे में हो गई थी। खबरों के अनुसार एक आरटीआई के तहत मांगी गई जानकारी में गृह मंत्रालय ने यह बात कही है। अपने जवाब में सरकार ने कहा है कि शहनवाज कमेटी, जस्टिस जीडी खोसला कमीशन और मुखर्जी कमीशन की दी हुई रिपोर्ट्स को बाद यह निष्कर्ष निकला है कि नेताजी ताइवान में हुए 1945 के विमान हादसे में मारे गए थे। इसके बाद नेताजी के परिजन सरकार के इस जवाब से खुश नहीं है। उनके परपोते चंद्रा बोस के अनुसार यह गैर ...

केंद्र ने किया साफ- विमान हादसे में हुई थी नेताजी की मौत, परिवार नाराज - आज तक

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की मौत को लेकर तस्वीर अब साफ होती दिख रही है. एक आरटीआई आवेदन का जवाब देते हुए भारत सरकार ने बताया है कि नेताजी की मौत विमान हादसे में हुई थी. RTI में दिए गए जवाब से नेताजी का परिवार खुश नहीं है. नेताजी के पोते चंद्र कुमार बोस ने कहा कि यह काफी गैर जिम्मेदाराना है, केंद्र सरकार इस तरह का जवाब कैसे दे सकती है, जबकि मामला अभी भी सुलझा नहीं है. यह आरटीआई सायक सेन नामक व्यक्ति ने दायर की थी, जिसके जवाब में गृह मंत्रालय ने अपना जवाब भेजा है. RTI के जवाब में साफ तौर पर कहा गया है कि नेताजी की मौत 18 अगस्त 1945 को हुई थी. जवाब में कहा गया है कि भारत सरकार ...