वध के लिये मवेशियों की ख़रीद-फ़रोख़्त पर पाबंदी, केरल सीएम ने फ़ेसबुक पर जताया विरोध - Zee News हिन्दी

नई दिल्ली: सरकार ने वध के लिये पशु बाजारों में मवेशियों की खरीद-फरोख्त पर प्रतिबंध लगा दिया है जिससे निर्यात एवं मांस तथा चमड़ा कारोबार प्रभावित होने की संभावना है. सरकार ने जीवों से जुड़ी क्रूर परंपराओं पर भी प्रतिबंध लगाया है जिसमें उनके सींग रंगना तथा उन पर आभूषण या सजावट के सामान लगाना शामिल है. पर्यावरण मंत्रालय ने पशु क्रूरता निरोधक अधिनियम के तहत सख्त 'पशु क्रूरता निरोधक (पशुधन बाजार नियमन) नियम, 2017' को अधिसूचित किया है. केन्द्रीय पर्यावरण मंत्री हषर्वर्धन ने शुक्रवार (26 मई) को कहा कि नये नियम बहुत 'स्पष्ट' हैं और इसका उद्देश्य पशु बाजारों तथा मवेशियों ...

छात्रों ने यूनिवर्सिटी के सामने पकाकर खाया बीफ, पशुओं की खरीद पर बैन का किया विरोध - Oneindia Hindi

त्रिवेंद्रम। केंद्र सरकार के वध के लिए पशु बाजारों में मवेशियों की खरीद-फरोख्त पर प्रतिबंध लगाने के कानून के खिलाफ केरल में भारी प्रदर्शन देखने को मिल रहा है। वामपंथी छात्र संगठन स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया (एसएफआई) ने इस कानून के विरोध में शनिवार को त्रिवेंद्रम में विश्वविद्यालयों और कॉलेजों के सामने बीफ पकाकर खाया। SFI, protest, cattle, slaughter, ban, beef, Kerala, cow,. केरल में जगह-जगह इस कानून को लेकर प्रदर्शन किए गए। कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया (एम) भी इस मामले पर तीखा विरोध जता रही है। पार्टी का कहना है कि ये कानून ना सिर्फ ये लोगों की खाने-पीने की आजादी में हस्तक्षेप है ...

हत्या के लिए गाय-भैंस के खरीद-फरोख्त पर रोक - Deshvani (कटूपहास) (प्रेस विज्ञप्ति) (पंजीकरण) (ब्लॉग)

नई दिल्ली। मवेशियों की बिक्री या खरीद अब आसान नहीं रहा। अब इसके लिए घोषणा पत्र देना होगा। घोषणा पत्र में बताना होगा कि मवेशी की बिक्री हत्या के लिए नहीं की जा रही है। केन्द्र सरकार ने मांस कारोबार के लिये गाय और भैंस की हत्या और बिक्री पर रोक लगा दी है। पर्यावरण मंत्रालय की जारी हुई अधिसूचना के अनुसार अब कोई भी मवेशी को मारने के मकसद से उसे बेच नहीं सकता। मवेशी को बेचने से पहले उसे एक घोषणापत्र भी देना होगा। पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के पशु क्रूरता निवारण (पशुधन बाजार नियमन) 2017 के नाम से जारी राजपत्र में कहा गया है कि अब किसी भी मवेशी को तबतक ...

पशु खरीद फरोख्‍त : केंद्र के फैसले का कई राज्यों ने किया कड़ा विरोध - Nai Dunia

नई दिल्ली। वध के लिए पशु बाजार से मवेशियों की खरीद-बिक्री पर प्रतिबंध संबंधी केंद्र सरकार के फैसले का केरल, पुडुचेरी और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों ने विरोध किया है। यही नहीं, केरल के कई हिस्सों में तो फैसले के विरोध में शनिवार को 'बीफ फेस्ट' (गोमांस भोज) का आयोजन भी किया गया। केरल के मुख्यमंत्री (सीएम) पिनाराई विजयन ने फैसले को वापस लेने के लिए प्रधानमंत्री (पीएम) नरेंद्र मोदी को एक पत्र भी लिखा है। विजयन ने दो पेज के पत्र में प्रधानमंत्री से इस मामले में हस्तक्षेप करने का अनुरोध किया है। उन्होंने कहा है कि केंद्र का फैसला देश के संघीय ढांचे में राज्यों के अधिकारों ...

'रमज़ान पर जानवर की ख़रीद-फरोख़्त पर रोक सही नहीं' - BBC हिंदी

केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने प्रधानमंत्री मोदी से गुज़ारिश की है कि वो मवेशियों के व्यवसाय पर लगाए गए नए नियमों को वापस लें. विजयन का कहना है कि इससे मांस खाने वाले लोग तो प्रभावित होंगे ही, साथ ही इसका असर राज्यों के अधिकार, गणतांत्रिक व्यवस्था और अनेकता के मूल्यों पर भी पड़ेगा. कड़े शब्दों में लिखे गए एक पत्र में उन्होंने मोदी से कहा है कि "केरल समेत दक्षिण भारत के कई राज्यों में मांस खाने वाले लोगों की संख्या शाकाहारी लोगों से अधिक है." वो लिखते हैं, "असम, बिहार, छत्तीसगढ़, गोवा, जम्मू कश्मीर, झारखंड, महाराष्ट्र, ओडिशा और पश्चिम बंगाल भी ऐसे ही ...

नये नियमों से मवेशी बाजार विनियमन की कमी दूर होगी - नवभारत टाइम्स

(यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।) भाषा | Updated: May 27, 2017, 07:50PM IST. नयी दिल्ली, 27 मई :: पशुओं की सुरक्षा के लिए काम करने वाली एक संस्था का कहना है कि मवेशी बाजार विनियमन के लिए पहले कोई प्रक्रिया नहीं थी, लेकिन पशु-वध पर नये नियमों से यह कमी पूरी होगी। देशभर के मवेशी बाजारों पर अध्ययन करने वाली संस्था एनिमल इक्वालिटी ने इन बाजारों में मवेशियों के साथ होने वाली विभत्स क्रूरता का भी पर्दाफाश किया है। केन्द्रीय पर्यावरण और वन मंत्रालय ने पशु क्रूरता निषेध अधिनियम, 1960 के तहत 25 मई को पशुओं के प्रति ...

सरकार को लोगों के खाने-पीने की पसंद पर बंदिशें थोपने का कोई हक नहीं : नारायणसामी - Instant ख़बर

नई दिल्ली: पुडुचेरी के मुख्यमंत्री वी नारायणसामी ने वध के लिए मवेशियों की बिक्री पर पाबंदी लगाने की अधिसूचना जारी करने पर केंद्र सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि सरकार को लोगों के खाने-पीने की पसंद पर बंदिशें थोपने का कोई हक नहीं है. उन्होंने केंद्र से मांग की कि वह वध के लिए मवेशियों की बिक्री प्रतिबंधित करने वाली अधिसूचना रद्द करे. उन्होंने पाबंदी लगाने के केंद्र के फैसले को ''निरंकुशतावादी और लोगों के खाने-पीने की पसंद के अधिकारों के हनन'' का स्पष्ट मामला करार दिया. नारायणसामी ने यहां पत्रकारों को बताया कि केंद्र की मोदी सरकार लोगों पर अपने फैसले ''थोप'' ...

मवेशियों पर रोक को लेकर केरल सरकार नाराज, पीएम को लिखेगी पत्र - Bharat Khabar

केरल। देश में कत्लखानों के लिए पशु बाजार में मवेशियों की खरीद या ब्रिकी को लेकर रोक लगाने पर केरल सरकार पीएम के फैसले से नाराज़ है। इस के लिए केरल सरकार पीएम को खत लिखेगी। बता दें कि इस मामले में केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन पीएमो को खत लिख सकते हैं। मवेशियों और बूचड़खानों पर राज्य सरकार मौजूदा नियमों में खत का जवाब मिलने पर ही कोई बदलाव करेगी। वहीं केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने केंद्र के इस फैसले को किसानों के हित में बताया है। मेनका ने कहा कि सरकार ने पहले से ही मौजूदा कानून का समर्थन किया है। किसान होंगे प्रभावित. सीएम विजयन का कहना है कि अगर आज ...

'अगर गाय से प्रेम है तो उसे राष्ट्रीय पशु घोषित कर दीजिए' - Outlook Publishing (पंजीकरण)

“पिछले दिनों केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय ने एक नोटिफिकेशन जारी किया। इसके तहत गाय, बैल, सांड, बधिया बैल, बछड़े, बछिया, भैंस और ऊंट की मांस के लिए खरीद-फरोख्त पर पाबंदी लगाई गई है। इस पर कई राजनीतिक दलों की प्रतिक्रियाएं आनी शुरू हो गई है।” इसे भी पढ़ें. प्रेम पर पहरा: लव जिहाद के नाम पर युवा वाहिनी ने की प्रेमी युगल की पिटाई · साठ प्रतिशत लोग डेट में अपने फोन पर ज्यादा ध्यान देते हैं: अध्ययन · मैं मुंबई नौकरी मिलने की उम्मीद में आया था - इम्तियाज. केंद्र सरकार द्वारा पशु बाजारों में मांस के लिए गाय और गोवंश सहित भैंस और ऊंट की खरीद-फरोख्त पर पाबंदी लगाई गई। इस नोटिफिकेशन पर ...

केरल सरकार ने स्लाॅटर हाउस को लेकर PMO को लिखा पत्र, मछली सेवन हो सकता है प्रतिबंधित - News Track

केरल। मवेशियों के विक्रय और स्लाटर हाउसेस को बंद करने को लेकर केरल सरकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखने की तैयारी की है। इस मामले में केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई ने पीएमओ को पत्र खिलने का संकेत दिया है। इस मामले में यह जानकारी सामने आई है कि जब केंद्र सरकार द्वारा कोई समाधान बताया जाएगा या कोई उत्तर मिलेगा तो फिर ही राज्य सरकार कार्रवाई करेगी। केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने केंद्र के निर्णय को किसानों के हित में होने की जानकारी दी। मुख्यमंत्री विजयन ने कहा कि मवेशियों को मारने को लेकर राज्य सरकार प्रतिबंध लगाने जा रही है। मगर इससे तो लोगों के ...

केरल सीएम का मोदी सरकार पर निशाना, कहा- गाय-भैंस के बाद मछली पर भी लगा सकती है बैन - Outlook Publishing (पंजीकरण)

“देशभर के पशु बाजारों में मवेशियों की खरीद या बिक्री पर केंद्र सरकार के रोक के फैसले पर केरल सरकार ने भाजपा सरकार पर निशाना साधा है। केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने कहा कि वह इस मसले पर पीएमओ को खत लिख सकते हैं।” मवेशियों को मारने या बिक्री पर पाबंदी लगाने मामले पर केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने कहा कि मवेशियों और बूचड़खानों पर राज्य सरकार मौजूदा नियमों में खत का जवाब मिलने पर ही कोई बदलाव करेगी। सीएम विजयन का कहना है कि अगर आज मवेशियों को मारने पर पाबंदी लगा दी जा रही है, तो कल मछली खाने पर भी रोक लगा दी जाएगी। केंद्र के नए नियम से गरीब, दलित और ...

'आज गाय-भैंस पर तो कल मछली पर पाबंदी लगाएगी मोदी सरकार' - आज तक

देश में किसी भी पशु बाजार में कत्लखानों के लिए मवेशियों की खरीद या बिक्री पर रोक लगाने के फैसले के खिलाफ केरल सरकार पीएम मोदी को खत लिखेगी. सूत्रों से पता चला है कि केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन इस मसले पर पीएमओ को खत लिख सकते हैं. मवेशियों और बूचड़खानों पर राज्य सरकार मौजूदा नियमों में खत का जवाब मिलने पर ही कोई बदलाव करेगी. वहीं केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने केंद्र के इस फैसले को किसानों के हित में बताया है. मेनका ने कहा, सरकार ने पहले से ही मौजूदा कानून का समर्थन किया है. गरीब-किसान होंगे प्रभावित: CM सीएम विजयन का कहना है कि अगर आज मवेशियों को ...

गोरक्षा पर सरकार सख्त: जारी किया नोटिफिकेशन, पशु कत्ल पर लगेगी रोकथाम - Janprahari Express (कटूपहास) (प्रेस विज्ञप्ति) (ब्लॉग)

नई दिल्ली। देश में गोरक्षा को लेकर केन्द्र सरकार ने एक बड़ा कदम उठाया है। इस संबंध में केन्द्र सरकार के पर्यावरण मंत्रालय ने द प्रीवेंशन ऑफ क्रुएलिटी टु एनिमल्स (रेगुलेशन ऑफ लाइव स्टॉक मार्केट्स) नियम 2017 को नोटिफाई कर दिया है। इस नोटिफिकेशन के बाद अब मवेशी बाजार में जानवरों की खरीद-बिक्री को रेगुलेट करने के साथ ही मवेशियों के खिलाफ कू्ररता रोकना है। इस नियम के तहत अब मवेशी की धार्मिक उद्देश्य से बलि भी नहीं दी जा सकेगी। नियम के अनुसार मवेशी को बाजार में खरीदने या बेचने वाले को यह सुनिश्चित करना होगा कि मवेशी को बाजार में कत्ल करने के उद्देश्य से तो बेचा या ...

हत्या के लिए मवेशियों के खरीद-फरोख्त पर बैन - देशबन्धु

केन्द्र सरकार ने मांस कारोबार के लिये गाय और भैंस की हत्या और बिक्री पर रोक लगा दी है... एजेंसी. May 27,2017 12:24. Share: AddThis Sharing Buttons. Share to Facebook Share to WhatsApp Share to Twitter Share to Google+ Share to LinkedIn. हत्या के लिए मवेशियों के खरीद-फरोख्त पर बैन. Ban on the purchase of cattle. नयी दिल्ली। केन्द्र सरकार ने मांस कारोबार के लिये गाय और भैंस की हत्या और बिक्री पर रोक लगा दी है। पर्यावरण मंत्रालय की कल जारी हुई अधिसूचना के अनुसार अब कोई भी मवेशी को मारने के मकसद से उसे बेच नहीं सकता और मवेशी को बेचने से पहले उसे एक घोषणापत्र भी देना होगा। पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन ...

मोदी सरकार का बड़ा कदम, बूचडख़ाने के लिए मवेशियों की खरीद-बिक्री पर रोक - पंजाब केसरी

नई दिल्ली: मवेशियों को लेकर केंद्र सरकार ने एक बड़ा और अहम कदम उठाया है। केंद्र सरकार ने देशभर के पशु बाजारों में हत्या के लिए मवेशियों की बिक्री पर प्रतिबंध लगा दिया है। सरकार ने जारी की अधिसूचना केंद्र सरकार ने गौरक्षा को लेकर बनाए गए नए कानून की अधिसूचना जारी कर दी है। इसके तहत पशु बाजारों से मवेशियों की खरीद करने वालों को लिखित में यह वादा करना होगा कि इनका इस्तेमाल खेती के काम में किया जाएगा, न कि मारने के लिए. इन मवेशियों में गाय, बैल, सांड, बधिया बैल, बछड़े, बछिया, भैंस और ऊंट शामिल हैं। माना जा रहा है कि सरकार के इस कदम से मीट और लेदर के एक्सपोर्ट और ट्रेडिंग ...

मोदी सरकार का कड़ा फैसला, वध के लिए पशुओं की खरीद-फरोख्त पर पाबंदी - Webdunia Hindi

नई दिल्ली। केंद्र में मोदी सरकार ने वध के लिए पशु बाजारों में मवेशियों की खरीद-फरोख्त पर प्रतिबंध लगा दिया है। पर्यावरण मंत्रालय ने पशु क्रूरता निरोधक अधिनियम के तहत सख्त पशु क्रूरता निरोधक (पशुधन बाजार नियमन) नियम, 2017 को अधिसूचित किया है। अधिसूचना के मुताबिक, पशु बाजार समिति के सदस्य सचिव को यह सुनिश्चित करना होगा कि कोई भी शख्स बाजार में अवयस्क पशु को बिक्री के लिए न लेकर आए। किसी भी शख्स को पशु बाजार में मवेशी को लाने की इजाजत नहीं होगी, जबतक कि वहां पहुंचने पर वह पशु के मालिक द्वारा हस्ताक्षरित यह लिखित घोषणा-पत्र न दे दे, जिसमें मवेशी के मालिक का नाम ...

गौ-वंश के बूचड़खाने में नहीं भेजने से महंगी होंगी आपके काम की ये चीजें - Nai Dunia

नई दिल्ली। पर्यावरण मंत्रालय ने पशु बाजार में जानवरों के कत्ल करने के मकसद से बेचे जाने पर प्रतिबंध लगा दिया है। यह नियम पूरे देश में लागू होगा। इस श्रेणी में गाय, बैल, भैंस, ऊंट, सांड, बछिया, बछड़े आदि को शामिल किया गया है। इसके साथ ही अब मवेशियों को खरीदने वालों को एक घोषणा-पत्र देना होगा, जिसमें यह सुनिश्चित किया जाएगा कि बेचे जाने वाले जानवरों का कत्ल नहीं किया जाएगा। इस कदम को मोदी सरकार की गायों को बचाने की भावनात्मक कवायद के रूप में भी देखा जा रहा है। इस फैसले को अमल में लाने के लिए 3 महीने का वक्त दिया गया है। मगर, देश में मांस के लिए केवल 30 फीसद मवेशियों ...

सरकार का बड़ा फैसला, जानवरों की खरीद-फरोख्त पर लगाई रोक - Hari Boomi (कटूपहास) (प्रेस विज्ञप्ति)

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने गौ-हत्या को रोकने के लिए एक बड़ा कदम उठाया है। सरकार ने पशु बजारों में मवेशियों की खरीद-परोख्त पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। पर्यावरण मंत्रालय ने पशु पर हो रहे क्रूरता को लेकर पशु क्रूरता निरोधक अधिनियम के तहत सख्त पशु क्रूरता निरोधक नियम, 2017 को जारी किया है। इंडियन एक्सप्रेस, के मुताबिक पर्यावरण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने शुक्रवार को बताया कि अब देश के अंदर किसी भी पशु बाजार से मवेशियों की खरीद-बिक्री पर रोक लगा दी गई है। कहा कि इस अधिसूचना के अंतरगर्त गाय, सांड़, भैंस, बैल, बछड़े, ऊंट जैसे जानवर आते हैं। पर्यावरण मंत्री हर्षवर्धन ने यह भी साफ ...

हत्या के लिए गाय-भैंस की खरीद-फरोख्त पर केन्द्र सरकार ने लगाई रोक - Patrika

केन्द्र सरकार ने मांस कारोबार के लिए गाय और भैंस की हत्या और बिक्री पर रोक लगा दी है। पर्यावरण मंत्रालय की की ओर से जारी हुई अधिसूचना के अनुसार अब कोई भी मवेशी को मारने के मकसद से उसे बेच नहीं सकता और मवेशी को बेचने से पहले उसे एक घोषणा-पत्र भी देना होगा। नई दिल्ली. केन्द्र सरकार ने मांस कारोबार के लिए गाय और भैंस की हत्या और बिक्री पर रोक लगा दी है। पर्यावरण मंत्रालय की की ओर से जारी हुई अधिसूचना के अनुसार अब कोई भी मवेशी को मारने के मकसद से उसे बेच नहीं सकता और मवेशी को बेचने से पहले उसे एक घोषणा-पत्र भी देना होगा। पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के पशु ...