क्यों है मैरिटल रेप को अपराध में लाने की जरूरत, रुकेगा वैवाहिक बलात्कार? - दैनिक जागरण

दिल्ली हाई कोर्ट में केंद्र सरकार ने कहा, "मैरिटल रेप को अपराध नहीं करार दिया जा सकता है क्योंकि ऐसा करने से विवाह की संस्था अस्थिर हो सकती है। नई दिल्ली, [स्पेशल डेस्क]। मैरिटल रेप को अपराध की श्रेणी में लाया जाए या नहीं इस बात पर एक बार फिर से बहस छिड़ गई है। उसकी वजह है दिल्ली हाईकोर्ट की तरफ से वैवाहिक बलात्कार को अपराध की श्रेणी में रखने से संबंधित एक संगठन की याचिका की सुनवाई पर अपनी सहमति देना। लेकिन, दिल्ली हाईकोर्ट में केंद्र सरकार ने कहा, "मैरिटल रेप को अपराध नहीं करार दिया जा सकता है क्योंकि ऐसा करने से विवाह की संस्था अस्थिर हो सकती है। पतियों को सताने के ...

मैरिटल रेप को संज्ञेय अपराध के तौर पर लाने के लिए दिल्ली हाईकोर्ट में जंग जारी - Bharat Khabar

नई दिल्ली। देश में फिर वैवाहिक बलात्कार को अपराध की श्रेणी में लाने की जंग दिल्ली हाईकोर्ट के दरवाजे पर जारी है। लगातार दूसरे दिन इस प्रकरण पर सुनवाई के बाद कोर्ट ने बहस के लिए 4 सितंबर की तारीख तय की है। इस मामले में दिल्ली हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका डाली गई है। इस मामले को एक घटना बताकर अब एक महिला कोर्ट की दहलीज पर आ पहुंची है। जहां पर याचिकाकर्ता की ओर से वकील कोलिन गोंजाल्विस ने वैवाहिक बलात्कार की खिलाफत करते हुए उसे अपराध की श्रेणी में डालने की वकालत की है। हांलाकि इस मामले में केन्द्र सरकार अपना हलफनामा दाखिल करते हुए साफ कहा है कि अगर वैवाहिक ...

मैरिटल रेप को लेकर सुषमा स्वराज के पति के ट्वीट पर कविता कृष्णन का पलटवार - Bharat Khabar

नई दिल्ली। इन दिनों देश में एक बार फिर एक विवादित बात को लेकर बहस छिड़ चुकी है। ये बात है हाल में दिल्ली हाईकोर्ट में दायर हुई एक याचिका को लेकर ये याचिका है देश में वैवाहिक बलात्कार को कानूनी जामा पहनाकर इसमें सजा का प्रावधान लाने के लिए, हांलाकि इस मामले में सुप्रीम और देश की संसद कई बार साफ कह चुकी है, कि देश में अगर इसे कानूनी जामा पहनाकर इसमें सजा का प्रावधान लाया गया तो विवाह का अस्तित्व ही समाप्त हो जायेगा। हाल में सुप्रीम कोर्ट ने इस बारे में दाखिल एक याचिका की सुनवाई करते हुए उसे खारिज किया था। इस प्रकरण में कोर्ट ने तल्ख टिप्पणी देते हुए साफ किया कि ...

सुषमा स्वराज के पति ने कहा- भारत में नहीं होता है मैरिटल रेप, छिड़ी बहस - Nai Dunia

नई दिल्ली। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के पति स्वराज कौशल ने मैरिटल रेप के बारे में एक ट्वीट किया, जिसकी सुनवाई दिल्ली हाई कोर्ट में हो रही है। उन्होंने एक आर्टिकल भी शेयर किया, जिसमें कहा गया था कि मैरिटल रेप को क्रिमिनेलाइज करने से फैमिली सिस्टम तनाव में आ जाएगा। गौरतलब है कि मंगलवार को ही दिल्ली हाई कोर्ट ने औरतों की सुरक्षा के लिए बनाए गए कानूनों के दुरुपयोग और मैरिटल रेप को अपराध घोषित करने संबंधित कई याचिकाओं के खिलाफ 'मेन वेलफेयर ट्रस्ट' नामक एनजीओ की याचिका पर सुनवाई की है। इसके बाद अपने ट्वीट में सुप्रीम कोर्ट के वकील और मिजोरम के पूर्व गवर्नर कौशल ने ...

मैरिटल रेप पर बहस को तैयार HC, अपराध बनाने की अर्जी पर 4 सितंबर को सुनवाई - inKhabar

नई दिल्ली : दिल्ली उच्च न्यायालय मैरिटल रेप को अपराध की श्रेणी में रखने से संबंधित एक संगठन की याचिका पर सुनवाई को तैयार हो गया है. कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीत मित्तल और न्यायमूर्ति सी हरिशंकर की पीठ ने फोरम टू इंगेज मैन (एफईएम) के हस्तक्षेप करने वाले आवेदन को विचारार्थ स्वीकार कर लिया. अब इस अर्जी पर 4 सितंबर को बहस होगी. इससे पहले केंद्र सरकार ने दिल्ली हाईकोर्ट में हलफनामा देकर कहा है कि मैरिटल रेप को अपराध नहीं घोषित किया जाना चाहिए. क्योंकि ऐसा करने से विवाह संस्था की नींव हिल जाएगी. सरकार इससे पहले भी कह चुकी है कि भारत जैसे परंपरावादी विकासशील देश में ...

'शादी के बाद पति को नहीं मिल जाता रेप करने का अधिकार' - Oneindia Hindi

नई दिल्ली। दिल्ली हाईकोर्ट में मैरिटल रेप मामले की सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता के वकील ने कहा कि शादी के बाद पति को इस बात का अधिकार नहीं मिल जाता कि वो पत्नी का बलात्कार करे। एक शादीशुदा महिला का भी अपने शरीर पर वही अधिकार होता है, जो अविवाहित का। वकील कॉलिन गोंजाल्विस ने कहा बुधवार को बहस के दौरान कहा कि पति की मांग पर यौन संबंध का हक मिल जाए यह शादी का मतलब नहीं है। शादी को इस लाइसेंस की तरह नहीं देखा जा सकता है कि कोई अपनी पत्नी के साथ जबर्दस्ती सेक्स करे। 'शादी के बाद पति को नहीं मिल जाता रेप करने का अधिकार'. कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश गीता मित्तल और ...

मैरिटल रेप का मामला - नवभारत टाइम्स

केंद्र सरकार ने दिल्ली हाईकोर्ट में हलफनामा देकर कहा है कि मैरिटल रेप (विवाह संबंध के अंतर्गत होने वाले बलात्कार) को अपराध नहीं घोषित किया जाना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से विवाह संस्था की नींव हिल जाएगी। सरकार इससे पहले भी कह चुकी है कि भारत जैसे परंपरावादी विकासशील देश में मैरिटल रेप की अवधारणा को मान्यता देना इसकी सदियों पुरानी संस्कृति के खिलाफ जाएगा। बेशक विवाह संस्था हमारी ही नहीं, दुनिया की हर संस्कृति का अहम हिस्सा है लेकिन हजारों साल लंबी जीवन यात्रा में यह संस्था कई बड़े बदलावों से गुजरी है। यह कहना कि विवाह संबंधों में अपवाद स्वरूप आई किसी ...

वैवाहिक बलात्कार को अपराध बनाने की अर्जी पर सुनवाई को तैयार हाईकोर्ट - Zee News हिन्दी

हालांकि केंद्र ने याचिकाओं का विरोध करते हुए कहा कि वैवाहिक दुष्कर्म को अपराध की श्रेणी में नहीं रखा जा सकता क्योंकि ऐसा होने से विवाह की संस्था की बुनियाद ही हिल सकती है और यह पतियों के उत्पीड़न का आसान उपाय बन सकता है. अंतिम अपडेट: गुरुवार अगस्त 31, 2017 - 08:51 AM IST. कमेंट देखें |. वैवाहिक बलात्कार को अपराध बनाने की अर्जी पर सुनवाई को तैयार हाईकोर्ट. एक विवाहित महिला को अविवाहित महिला की तरह ही अपने शरीर पर पूरे नियंत्रण का समान अधिकार है. (फाइल फोटो). नई दिल्ली: दिल्ली उच्च न्यायालय ने वैवाहिक बलात्कार को अपराध की श्रेणी में रखने से संबंधित एक संगठन की ...

'शादी नहीं देती पति को रेप करने का लाइसेंस' - नवभारत टाइम्स

दिल्ली हाई कोर्ट में वैवाहिक बलात्कार (मैरिटल रेप) मामले की सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता के वकील ने कहा कि शादी के बाद पति को इस बात का लाइसेंस नहीं मिल जाता कि वह पत्नी का रेप करे। शादीशुदा महिला का भी अपने शरीर पर वही अधिकार होता है, जो एक अविवाहित महिला का होता है। याचिकाकर्ता की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता कॉलिन गोंजाल्विस ने बुधवार को कहा कि शादी का मतलब ये नहीं है कि पति की डिमांड पर उसे यौन संबंध का अधिकार मिल जाए। शादी के लाइसेंस को इस तरह नहीं देखा जा सकता कि पति को इस बात के लिए लाइसेंस मिल गया है कि वह पत्नी के साथ जबरन सेक्स संबंध बनाए।

सुषमा स्वराज के पति ने मैरिटल रेप पर किया ट्वीट, कविता कृष्णन ने दिया ये जवाब - Jansatta

स्वराज कौशल ने कुछ ट्वीट में वैवाहिक बलात्कार के खिलाफ विचार रखे हैं। उन्होंने ट्वीट करके लिखा है वैवाहिक बलात्कार जैसी कोई चीज नहीं है। हमारे घर पुलिस स्टेशन नहीं बनने चाहिए। Author जनसत्ता August 31, 2017 10:56 am. 278. Shares. Share. Next. कविता कृष्णन CPIML पोलित ब्यूरो की सदस्य हैं। (Source-Express photo). दिल्ली हाई कोर्ट ने वैवाहिक बलात्कार को अपराध की श्रेणी में रखने से संबंधित संगठन की याचिका पर सुनवाई करने के लिए बुधवार को सहमति जता दी।वैवाहिक बलात्कार पहले भी नारीवादियों के लिए प्रमुख मुद्दा रहा है। इधर कम्युनिस्ट लीडर कविता कृष्णन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के पति ...

मैरिटल रेप पर बहस में याचिकाकर्ता ने नेपाल दिया उदाहरण, अलगी सुनवाई 4 सितंबर को - पंजाब केसरी

नई दिल्लीः दिल्ली हाई कोर्ट मैरिटल रेप को अपराध की श्रेणी में शामिल करने को लेकर लगाई गई जनहित याचिका पर सुनवाई कर रहा है। इस मामले में दिल्ली हाई कोर्ट अब 4 सितंबर को दोबारा सुनवाई करेगा। याचिकाकर्ता की तरफ से पेश हुए वकील कोलिन गोंजाल्विस ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि शादी का यह मतलब नहीं है कि औरतों को दास बना दिया जाए। साथ ही तर्क दिया कि नेपाल जैसे देश में भी सुप्रीम कोर्ट ने 2001 में यह साफ कर दिया था कि अगर शादी के बाद कोई व्यक्ति अपनी बीवी का बलात्कार करता है तो यह उस महिला की स्वतंत्रता का हनन है। इस मामले में याचिकाकर्ता ने कोर्ट को कई यूरोपियन देशों ...

मैरिटल रेप पर बहस को तैयार हाई कोर्ट, अगली सुनवाई 4 सितंबर को - आज तक

मैरिटल रेप को अपराध की श्रेणी में शामिल करने को लेकर दिल्ली हाई कोर्ट में बुधवार को लगातार दूसरे दिन भी सुनवाई जारी रही. इस मामले में याचिकाकर्ता की तरफ से पेश हुए वकील कोलिन गोंजाल्विस ने अपना पक्ष रखते हुए कहा कि शादी का यह मतलब नहीं है कि औरतों को दास बना दिया जाए. नेपाल जैसे देश में भी सुप्रीम कोर्ट ने 2001 में यह साफ कर दिया था कि अगर शादी के बाद कोई व्यक्ति अपनी बीवी का बलात्कार करता है तो यह उस महिला की स्वतंत्रता का हनन है. इस मामले में याचिकाकर्ता ने कोर्ट को कई यूरोपियन देशों के सुप्रीम कोर्ट के आदेश भी मेरिटल रेप पर पढ कर सुनाए जिसमें यूएस कोर्ट से लेकर ...

WIFE से जबरन यौन रिश्ता अपराध: फिलीपींस का फैसला उद्धृत किया - bhopal Samachar

नई दिल्ली। वैवाहिक रेप को अपराध की श्रेणी में शामिल करने की मांग करनेवाली याचिकाओं पर सुनवाई के दौरान आज दिल्ली हाईकोर्ट की कार्यकारी चीफ जस्टिस गीता मित्तल ने फिलीपींस के सुप्रीम कोर्ट के एक फैसले को उद्धृत किया, जिसमें कहा गया है कि विवाह के बाद भी जबरन बनाया गया यौन संबंध अपराध है। हाईकोर्ट ने इस मामले पर अगली सुनवाई 4 सितंबर के लिए टाल दी है। सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता के वकील कॉलिन गोंजाल्वेस ने नेपाल सुप्रीम कोर्ट के 2001 के एक फैसले का उदाहरण दिया और कहा कि यह कहना कि कोई पति अपनी पत्नी का रेप कर सकता है तो ये महिला के स्वतंत्र अस्तित्व को नकारना ...

देश में वैवाहिक बलात्कार को लेकर पूर्व महिला आयोग अध्यक्ष ममता शर्मा के साथ आर-पार - Bharat Khabar

नई दिल्ली। भारत विविधताओं का देश है, संविधान में सभी को समान अधिकार और समान न्याय व्यवस्था का अधिकार प्राप्त है। ऐसे में किसी के साथ किसी तरह का न्याय होने की कोई संभावना नहीं है। भारत में इस न्याय प्रक्रिया के तहत महिला और पुरूष दोनों को ही समान अधिकार प्राप्त है । महिलों के अधिकारों और उनकी सुऱक्षा के लिए कोर्ट और कानून दोनों ही काफी संजीदा है। हाल के दिनों में महिलाओं के खिलाफ होने वाली हिंसा आदि के मामले में कोर्ट ने कई कानूनों में संसोधन भी किए हैं। इसके साथ ही न्यायिक प्रक्रिया को भी काफी सहज बनाया है। आज कल देश में एक नये विषय और एक नये कानून की ...

क्या है मैरिटियल रेप, जानिए क्यों चल रहा है विवाद - Sanjeevni Today

नई दिल्ली। आज दिल्ली HC में मैरिटियल रेप पर सुनवाई होगी, यह याचिका एक गैर सरकारी संगठन ने दाखिल किया है। केंद्र सरकार ने दिल्ली हाईकोर्ट के समक्ष कहा कि वैवाहिक बलात्कार को दंडनीय अपराध नहीं बनाया जा सकता क्योंकि ऐसा करना विवाह की संस्था के लिए ख़तरनाक साबित होगा। यह एक ऐसा चलन बन सकता है, जो पतियों को प्रताड़ित करने का आसान जरिया बन सकता है। याचिकाकर्ता की गुजारिश है कि मैरिटियल रेप को आपराधिक मामला ना बनाया जाये, यह गैर सरकारी संगठन पुरुषों का प्रतिनिधित्व करता है और इसका मानना है कि लिंग आधारित कानूनों का दुरुपयोग हो रहा है और इसके खिलाफ संगठन ...

वैवाहिक बलात्कार: दिल्ली उच्च न्यायालय में केंद्र की तरफ से सोशल मीडिया पर बड़ी बहस फैली हुई है - Dainik Kiran

वैवाहिक बलात्कार: भारत सरकार की एक वैवाहिक बलात्कार को एक आपराधिक अपमान बनाने के खिलाफ सोशल मीडिया पर बहस फैल गई है। By. दिपाली सोनवणे. -. August 30, 2017. 0. 16. Share on Facebook · Tweet on Twitter. वैवाहिक बलात्कार: भारत सरकार की वैवाहिक बलात्कार को एक आपराधिक अपमान बनाने के खिलाफ सोशल मीडिया पर बहस फैल गई है। मंगलवार को, केंद्र सरकार ने दिल्ली उच्च न्यायालय के समक्ष प्रस्तुत करते हुए कहा कि वैवाहिक बलात्कार किसी भी प्रतिमा में परिभाषित नहीं है, जबकि बलात्कार आईपीसी की धारा 375 के तहत परिभाषित किया गया है। यह कहा गया है, “वैवाहिक बलात्कार को परिभाषित करना समाज की ...

अब अपनी पत्नी का बलात्कार करने के 5 'सरकारी' कारण - आईचौक

ऐसे तो महिलाओं के कंवारे रहने में ही भलाई है, क्योंकि शादी के बाहर ही रेप को रेप माना जाता है, और कोई अदालत तब आपके सही या गलत होने का सुबूत भी नहीं मांगती. 1494. समाज. | 5-मिनट में पढ़ें | 30-08-2017. पारुल चंद्रा. पारुल चंद्रा · @parulchandraa. 2.59k. Total Shares. Share. इस देश के कितने आदमी सेक्स के बाद अपनी पत्नी से पूछते होंगे कि क्या वो संतुष्ट हुई? मर्दों के लिए सेक्स सिर्फ खुद को संतुष्ट करने का साधन है. औरतों को भी सदियों से यही समझाया गया है कि पति तो परमेश्वर है, पति को संतुष्ट करना, उसकी इच्छाओं की पूर्ति करना ही पत्नी का सबसे बड़ा धर्म है. औरत का न कहना, उसका मन न होना या ...

'पति उत्पीड़न का हथियार बन जाएगा वैवाहिक दुष्कर्म को अपराध घोषित करना' - Zee News हिन्दी

केंद्र सरकार ने कहा है, "अगर पति द्वारा पत्नी के साथ किए जाने वाले सभी यौन संबंधों को वैवाहिक दुष्कर्म की तरह माना जाने लगेगा तो वैवाहिक दुष्कर्म का फैसला सिर्फ और सिर्फ पत्नी के बयान पर निर्भर होकर रह जाएगा.'' अंतिम अपडेट: बुधवार अगस्त 30, 2017 - 04:13 PM IST. कमेंट देखें |. 'पति उत्पीड़न का हथियार बन जाएगा वैवाहिक दुष्कर्म को अपराध घोषित करना&. केंद्र सरकार ने कहा कि किसी भी कानून में वैवाहिक दुष्कर्म को परिभाषित नहीं किया गया है. (फाइल फोटो). नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने मंगलवार (29 अगस्त) को दिल्ली उच्च न्यायालय से कहा कि 'वैवाहिक दुष्कर्म' (मैरिटल रेप) को अपराध घोषित ...

वैवाहिक बलात्कार पर कानून बनाने को लेकर शुरू हुई नई बहस - पर्दाफाश

नई दिल्ली। बलात्कार—बलात्कार होता है। जिसका सीधा मतलब किसी की मर्जी के खिलाफ जाकर जबरन और ताकत के बल पर शारीरिक संबन्ध बनाने से होना चाहिए। समाज का एक ऐसा तबका है जो पति पत्नी के ​बीच बिना मर्जी के बनाए जाने वाले शारीरिक संबन्ध को वैवाहिक बलात्कार का रूप देकर अपराध की श्रेणी में लाने की मांग कर रहा है। वहीं दूसरा तबका इसे विवाह जैसी संस्था पर हमले की तरह देख रहा है। मंगलवार को केन्द्र सरकार की ओर से दिल्ली हाईकोर्ट के समक्ष वैवाहिक बलात्कार पर पेश किए गए एक हलफनामे में कहा गया है कि वैवाहिक बलात्कार को कहीं भी परिभाषित नहीं किया गया है। इसका जिक्र बलात्कार ...