This RSS feed URL is deprecated

मुठभेड़ स्थलों पर पथराव के लिए जाकर 'खुदकुशी' कर रहे युवा : जम्मू कश्मीर DGP - एनडीटीवी खबर

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर पुलिस कहा है कि कश्मीर घाटी में मुठभेड़ स्थलों पर सुरक्षा बलों पर पथराव करने के लिए जाकर युवा आत्महत्या कर रहे हैं और उसने उनसे इस प्रकार की गतिविधियों से दूर रहने की अपील की. पुलिस महानिदेशक एसपी वैद ने यहां संवाददाताओं से कहा, 'मुठभेड़ में सुरक्षा बल एवं पुलिस भी खुद को गोलियों से बचाने के लिए बुलेटप्रूफ वाहन या किसी मकान का सहारा लेती है मुठभेड़ स्थलों पर जा कर युवा आत्महत्या कर रहे हैं.'उन्होंने युवाओं से मुठभेड़ स्थलों पर नहीं आने की अपील करते हुए कहा कि घाटी में शांति के विरोधी तत्व अपने लघुकालीन राजनीतिक हितों को साधने के लिए उन्हें ...और अधिक »

खास रिपोर्ट : पाकिस्तान से कंट्रोल हो रहे जम्मू-कश्मीर के पत्थरबाज, जरिया बन रहा है व्हाट्सअप - एनडीटीवी खबर

नई दिल्ली: कश्मीर में पत्थरबाजी की घटनाओं को लेकर नया खुलासा होने से सुरक्षाबलों के कान खड़े हुए गए हैं. खुफिया विभाग के हवाले से पता चला है कि अब सीमा पार से बैठे आका आतंकियों की ही तरह पत्थरबाजों को व्हाट्सअप के जरिए संचालित कर रहे हैं. बात यहीं नहीं खत्म होती खबर तो ये भी है कि अब व्हाट्सअप जैसे सोशल ग्रुपों पर कश्मीर की पत्थरबाजी की ऑनलाइन और लाइव रिपोर्टिंग की जा रही है. इन सबकी मॉनिटरिंग सीमा पार से हो रहा है. केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी इसकी पुष्टि की. उन्होंने लोकसभा में कहा कि कश्मीर में मुठभेड़ के दौरान सुरक्षाबलों पर होने वाली पत्थरबाजी ...और अधिक »

जम्मू-कश्मीर डीजीपी: पत्थरबाज़ कश्मीरी युवा कर कर रहे हैं आत्महत्या - India.com हिंदी

जम्मू कश्मीर पुलिस ने आज कहा कि कश्मीर घाटी में मुठभेड़ स्थलों पर सुरक्षाबलों पर पथराव करने के लिए जा कर युवा आत्महत्या कर रहे हैं। पुलिस ने इन कश्मीरी युवाओं से इस प्रकार की गतिविधियों से दूर रहने की अपील की। पुलिस महानिदेशक एस पी वैद ने यहां संवाददाताओं से कहा, 'मुठभेड़ में सुरक्षा बल एवं पुलिस भी खुद को गोलियों से बचाने के लिए बुलेटप्रूफ वाहन या किसी मकान का सहारा लेती है। मुठभेड़ स्थलों पर जा कर युवा आत्महत्या कर रहे हैं।' उन्होंने युवाओं से मुठभेड़ स्थलों पर नहीं आने की अपील करते हुए कहा कि घाटी में शांति के विरोधी तत्व अपने लघुकालीन राजनीतिक हितों को ...और अधिक »

सोशल मीडिया के जरिए कश्मीरी युवाओं को उकसा रहा है पाकिस्तान : केन्द्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह - एनडीटीवी खबर

नई दिल्ली: केन्द्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह का कहना है कि पाकिस्तानी एजेंसियां सोशल मीडिया पर गलत प्रचार के माध्यम से कश्मीर में युवाओं को उकसा रही हैं. प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्य मंत्री जितेंद्र सिंह ने सिविल सोसायटी और जम्मू-कश्मीर सरकार से कहा कि वे युवाओं का परिचय वास्तविकता से कराएं, ताकि वे कुछ लोगों के झूठे प्रचार के उकसावे में ना आएं. केंद्रीय मंत्री ने संवाददाताओं से कहा, 'पाकिस्तानी एजेंसियां सोशल मीडिया पर झूठे प्रचार के माध्यम से कश्मीर घाटी के युवाओं को उकसाने के लिए कर रहे हैं. मैं यहां के युवाओं से अपील करता हूं कि वे ऐसे दुष्प्रचार ...और अधिक »

JK: सोपोर में नमाज के बाद पत्थरबाजी, पुलिसकर्मी समेत 3 घायल - आज तक

जम्मू एवं कश्मीर में हालाता सुधरने का नाम नहीं ले रहे हैं. शुक्रवार को नमाज के बाद सोपोर में पत्थरबाजी की गई, जिसमें एक पुलिसकर्मी समेत तीन लोग घायल हो गए. इससे पहले सोमवार को जम्मू एवं कश्मीर के बडगाम में आतंकवादियों को बचाने के लिए गांव वालों ने सुरक्षा बलों पर जमकर पत्थर बरसाए थे. शुक्रवार को लोकसभा में गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी जम्मू एवं कश्मीर में पत्थरबाजी पर गंभीर चिंता जाहिर की थी. उन्होंने कहा कि इन घटनाओं के पीछे पाकिस्तान का हाथ है. पाक सोशल मीडिया के जरिए भीड़ को सुरक्षा बलों पर पत्थर बरसाने के लिए उकसा रहा है. उन्होंने लोगों से अपील की कि वे ...और अधिक »

मुठभेड़ में आम नागरिकों की मौत पर बोले जम्‍मू-कश्‍मीर के DGP- उस जगह पर आकर खुदकुशी कर रहे हैं युवा - Jansatta

इससे पहले सेना प्रमुख जनरल रावत भी ये कह चुके हैं कि एनकाउटंर के दौरान सेना के काम में दखल देने वाले लोगों को आतंकियों के जमीनी कार्यकर्ता माना जाएगा। Author जनसत्ता ऑनलाइन March 30, 2017 12:45 PM. 1.1K. Shares. Share · Next. X. जम्मू-कश्मीर में प्रदर्शनकारियों और पत्थर फेंकने वाले लोगों पर पैलेट गन के इस्तेमाल पर लंबे समय से सवाल उठ रहे हैं। जम्मू कश्मीर में सेना के ऑपरेशन के दौरान पत्थर मारने वाले स्थानीय लोगों को सुरक्षा बल अब और सहन करने के मूड़ में नहीं दिख रहा है। सेना के कई बड़े अधिकारी और राज्य की मुख्यमंत्री पहले भी कई बार सेना के ऑपरेशन के दौरान स्थानीय लोगों से दूर ...और अधिक »

कश्मीरी युवाओं को JK DGP की सलाह- गोली नहीं देखती कि सामने कौन है - Nai Dunia

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक एसपी वैद्य ने गुरुवार को सेना के एनकाउंटर के दौरान पत्थरबाजी करने वाले युवाओ से अपील की है वो ऐसा ना करें। उन्होंने कहा कि कश्मीर में पिछले दिनों ऐसा देखने को मिला है जब आतंकवादियो से एनकाउंटर के समय लोगों ने घटना वाले स्थान पर इकठ्ठा होकर पत्थरबाजी शुरू कर दी। अभी हाल ही में बडगाम के चाडूरा में इस तरह की घटना में तीन युवक मारे गए थे। मारे गए कश्मीरी युवाओं की घटना पर कहा कि गोली यह नहीं देखती है कि सामने कौन आ रहा है और किसे वो मारने जा रही है। उन्होंने राज्य के युवाओं से अपील करते हुए कहा कि युवा लड़के एनकाउंटर के वक्त घर ...और अधिक »

खुलासाः कश्मीर में मुठभेड़ शुरू होते ही सक्रिय हो जाते हैं 300 व्हाट्सऐप ग्रुप - अमर उजाला

घाटी में मुठभेड़ स्थल पर पथराव की घटनाओं को सरहद पार की साजिश करार देते हुए राज्य पुलिस महानिदेशक एसपी वैद ने कहा कि मुठभेड़ शुरू होते ही 300 व्हाट्सऐप ग्रुप अचानक सक्रिय हो जाते हैं। हर ग्रुप में 250 से ज्यादा सदस्य हैं। इन्हें मुठभेड़ स्थल पर जाकर आतंकियाें को भगाने के लिए सुरक्षा बलों पर पत्थर बरसाने को उकसाया जाता है। फेसबुक जैसी सोशल नेटवर्किंग साइटों पर भी युवाआें को ऐसे ही उकसाया जा रहा है। विज्ञापन. डीजीपी ने मीडिया से बातचीत में कहा, युवाआें का मुठभेड़ स्थल पर जाकर पत्थर बरसाना आत्महत्या करने जैसा है। आतंकियों के खिलाफ अभियान के दौरान सुरक्षा बल भी ...और अधिक »

पाकिस्तान से नजर रखी जा रही है कश्मीर में पत्थरबाजी पर - Webdunia Hindi

श्रीनगर। कश्मीर में पत्थरबाजी की घटनाओं को लेकर कश्मीर पुलिस परेशानी के आलम में इसलिए है क्योंकि व्हाट्सअप ग्रुपों के माध्यमों से अब कश्मीर की पत्थरबाजी की ऑन लाइन और लाइव रिपोर्टिंग होने से सीमा पार बैठे आका आतंकियों की ही तरह अब पत्थरबाजों को भी व्हाट्सअप से कंट्रोल कर उनकी पत्थरबाजी को संचालित करने लगे हैं। कश्मीर में सुरक्षा बलों पर स्थानीय नागरिकों द्वारा की जाने वाली पत्थरबाजी के पीछे पुलिस ने पाकिस्तान का हाथ होने का शक जताया है। हाल ही में श्रीनगर में दर्ज किए गए एक मामले में जम्मू कश्मीर पुलिस ने आरोप लगाया है कि पत्थरबाजी के लिए कई व्हाट्सएप ...और अधिक »

कश्मीरी युवकों को डीजीपी ने दी सलाह- एनकाउंटर के दौरान घर में रहें, गोलियां किसी को नहीं पहचानतीं - News State

जम्मू कश्मीर के डीजीपी ने कहा कि बंदूक से निकली गोली यह नहीं देखती कि वह किसे लगेगी। नौजवानों को घर पर रहना चाहिए, एनकाउंटर वाले इलाकों में नहीं आना चाहिए। News State Bureau | Updated On : March 30, 2017 03:39 PM. J&K युवकों को DGP की सलाह- गोलियां किसी को नहीं पहचानतीं. नई दिल्ली: जम्मू कश्मीर के डीजीपी एसपी वेद ने एनकाउंटर के दौरान युवाओं को घर से बाहर न निकलने की नसीहत दी है। उन्होंने कहा है कि तमाम कोशिशों के बाद भी हम मुठभेड़ में मारे जाने वाले नागरिकों की संख्या रोकने में सफल नहीं हो पा रहे हैं। मुठभेड़ के दौरान हुए नागरिकों के मौत को लेकर मीडिया से बातचीत के ...और अधिक »