This RSS feed URL is deprecated

गुजरात में 300 से अधिक दलितों ने विजय दशमी के दिन बौद्ध धर्म अपनाया - NDTV Khabar

गुजरात बौद्ध एकेडमी के सचिव रमेश बांकर ने बताया कि अहमदाबाद संगठन द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में करीब 200 दलितों ने बौद्ध धर्म में दीक्षा ली. इनमें 50 महिलाएं भी शामिल हैं. भाषा, Updated: 1 अक्टूबर, 2017 12:21 AM. Share. ईमेल करें. टिप्पणियां. गुजरात में 300 से अधिक दलितों ने विजय दशमी के दिन बौद्ध धर्म अपनाया. प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर. अहमदाबाद: 'अशोक विजय दशमी' के मौके पर अहमदाबाद और वड़ोदरा में शनिवार को 300 से अधिक दलितों ने बौद्ध धर्म अपना लिया. समझा जाता है कि इसी दिन मौर्य शासक सम्राट अशोक ने अहिंसा का संकल्प लिया था और बौद्ध धर्म अपना लिया था. गुजरात बौद्ध एकेडमी के ...और अधिक »

गुजरात: 300 से ज्यादा दलितों ने अपनाया बौद्ध धर्म - नवभारत टाइम्स

अहमदाबाद अशोक विजय दशमी के मौके पर अहमदाबाद और वडोदरा में शनिवार को 300 से अधिक दलितों ने बौद्ध धर्म अपना लिया। समझा जाता है कि इसी दिन मौर्य शासक सम्राट अशोक ने अहिंसा का संकल्प लिया था और बौद्ध धर्म अपना लिया था। टॉप कॉमेंट. ये दलित उत्पीड़ित थे, दमनकारी ताकतौं ने इनका शोषण किया. मजबूरन इन्हैं बोद्ध धर्म की शरण में जाना पड़ा. इन्हें अभिब्यक्ति की आजादी मिल गई हिन्दुस्तान में. NP Joshi. सभी कॉमेंट्स देखैं. कॉमेंट लिखें. गुजरात बौद्ध अकैडमी के सचिव रमेश बांकर ने बताया कि यहां संगठन द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में करीब 200 दलितों ने बौद्ध धर्म में दीक्षा ली।और अधिक »

25000 दलितों ने किया धर्म परिवर्तन, दशहरे के दिन अपनाया बौद्ध धर्म - Patrika

दशहरे के पर्व के दिन कानपुर देहात के पुखरायां कस्बे में 25000 हजार दलित समाज के लोगों ने धर्म परिवर्तन कर बौद्ध धर्म अपनाया लिया। कानपुर. दशहरे के पर्व के दिन कानपुर देहात के पुखरायां कस्बे में 25000 हजार दलित समाज के लोगों ने धर्म परिवर्तन कर बौद्ध धर्म अपनाया लिया। इस मौके पर लोगों ने पहले विधि-विधान से पूजा-अर्चना की और बौद्ध बन गए। इसके पूरे कस्बे में जुलूस निकाला। राष्ट्रीय दलित पैंथर के प्रदेश अध्यक्ष धनीराम पैंथर ने बताया कि सम्राट अशोक ने विजयदशमी के दिन ही बौद्ध धर्म अपनाया था और डॉ. भीम राव अम्बेडकर ने भी बौद्ध की दिक्षा गृहण कर ली थी। धर्म परिवर्तन करने के सवाल ...और अधिक »

गुजरात में 300 से ज्यादा दलितों ने बौद्ध धर्म अपनाया, बाबा साहेब अंबेडकर ने भी इसी दिन ली थी दीक्षा - News State

नई दिल्ली: गुजरात के अहमदाबाद और वडोदरा में शनिवार को 300 से भी ज्यादा दलितों ने बौद्ध धर्म को स्वीकार कर लिया। सभी लोगों ने अशोक विजय दशमी और धम्म चक्र परिवर्तन दिवस के दिन बौद्ध धर्म को अपनाया है। सम्राट अशोक के कलिंग युद्ध जीतने के दसवें दिन मनाए जाने के कारण इसे 'अशोक विजयदशमी' कहा जाता है। इसी दिन सम्राट अशोक ने अहिंसा का संकल्प लेकर बौद्ध धर्म की दीक्षा ली थी। गुजरात बौद्ध अकादमी के सचिव रमेश बांकर ने कहा, 'संगठन द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में करीब 200 दलितों ने बौद्ध धर्म में दीक्षा ली, इनमें 50 महिलाएं भी शामिल हैं। कुशीनगर, उत्तर प्रदेश के बौद्ध धर्म के ...और अधिक »

गुजरात चुनाव से पहले 300 से अधिक दलितों ने अपनाया बौद्ध धर्म - Oneindia Hindi

नई दिल्ली। गुजरात में इसी साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने हैं उससे पहले दलितों के धर्मांतरण का मामला सामने आया है। अशोक विजय दशमी' के मौके पर अहमदाबाद और वड़ोदरा में 300 से अधिक दलितों ने बौद्ध धर्म अपना लिया। ऐसा कहा जाता है कि इसी दिन मौर्य शासक सम्राट अशोक ने अहिंसा का संकल्प लिया था और बौद्ध धर्म अपना लिया था। गुजरात बौद्ध एकेडमी के सचिव रमेश बांकर ने बताया कि संगठन की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में करीब 200 दलितों ने बौद्ध धर्म में दीक्षा ली। इन दलितों में 50 महिलाएं भी शामिल हैं। गुजरात चुनाव से पहले 300 से अधिक दलितों ने अपनाया बौद्ध धर्म. बांकर ने ...और अधिक »

गुजरात के 300 से भी अधिक दलितों ने अपनाया बौद्ध धर्म - Oneindia Hindi

अहमदाबाद। विजयादशमी के शुभ अवसर पर शनिवार को गुजरात के अहमदाबाद और वडोदरा में 300 से भी अधिक दलित लोगों ने बौद्ध धर्म अपना लिया है। आपको बता दें कि इसी दिन मौर्य शासक सम्राट अशोक ने भी अहिंसा का संकल्प लिया था और उन्होंने बौद्ध धर्म अपना लिया था। इनमें करीब 200 लोगों ने अहमदाबाद में बौद्ध धर्म की दीक्षा ली, जबकि लगभग 100 लोगों ने वडोदरा में बौद्ध धर्म की दीक्षा ली। अहमदाबाद में गुजरात बौद्ध अकेडमी के सचिव रमेश बांकर ने बताया कि करीब 200 दलितों ने संगठन द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में बौद्ध धर्म अपनाया। गुजरात के 300 से भी अधिक दलितों ने अपनाया बौद्ध धर्म ...और अधिक »

गुजरात में 300 से अधिक दलितों ने अपनाया बौद्ध धर्म - News18 इंडिया

अशोक विजय दशमी के मौके पर अहमदाबाद और वड़ोदरा में रविवार को 300 से अधिक दलितों ने बौद्ध धर्म अपना लिया. समझा जाता है कि इसी दिन मौर्य शासक सम्राट अशोक ने अहिंसा का संकल्प लिया था और बौद्ध धर्म अपना लिया था. गुजरात बौद्ध एकेडमी के सचिव रमेश बांकर ने बताया कि यहां संगठन द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में करीब 200 दलितों ने बौद्ध धर्म में दीक्षा ली. इनमें 50 महिलाएं भी शामिल हैं. बांकर ने बताया कि कुशीनगर (उत्तर प्रदेश) के बौद्ध धर्म के प्रमुख ने दीक्षा दी. भगवान बुद्ध ने परिनिर्वाण प्राप्त करने के लिए कुशीनगर में ही अपने शरीर का त्याग किया था. कार्यक्रम के संयोजक ...और अधिक »

गुजरात में 300 दलितों ने बौद्ध धर्म अपनाया - दैनिक जागरण

अहमदाबाद, प्रेट्र। अहमदाबाद और वडोदरा में शनिवार को विजयादशमी के अवसर पर 300 से अधिक दलितों ने बौद्ध धर्म अपनाया। गुजरात बुद्धिस्ट एकेडमी के सचिव रमेश बांकेर ने बताया कि उनके संगठन की ओर से यहां आयोजित एक कार्यक्रम में करीब 200 दलितों ने बौद्ध धर्म अपनाया। इनमें करीब 50 महिलाएं थीं। दलित समुदाय के लोग विजयादशमी के मौके पर बौद्ध धर्म अपनाने को तरजीह देते हैं। दरअसल, 1956 में इसी दिन बाबा साहेब भीमराव अंबेडकर ने नागपुर में एक समारोह में लाखों दलितों के साथ बौद्ध धर्म अपनाया था। बाबा साहेब अंबेडकर ने विजयादशमी का दिन इसलिए चुना था क्योंकि इसी दिन सम्राट अशोक ने ...और अधिक »

25 हजार हिन्दुओ ने किया हिन्दू धर्म को गुडबाय,बुद्ध की शरण में पहुचे - News Attack

उत्तर प्रदेश व गुजरात में हजारो हिन्दुओ ने बौद्ध धर्म को स्वीकार कर लिया,मनुवादी मीडिया में नहीं दिखी खबर. कानपुर. दशहरे के दिन एक तरफ रावण के पुतला दहन की तैयारी चल रही थी तो दूसरी तरफ हिन्दूओ का एक बड़ा समूह छुआ -छूत के भेदभाव वाले हिन्दू धर्म को तिलांजलि देकर भगवान बुद्ध की शरण को स्वीकार कर रहा था . कानपुर देहात के पुखरायां कस्बे में ही विजय दशमी के दिन 25000 हजार हिन्दू दलित समाज के लोगों ने विधि-विधान से पूजा-अर्चना करते हुए धर्म परिवर्तन कर भगवान बुद्ध की शरण में पहुच गए .धर्म परिवर्तन से पूर्व दलित हिन्दुओ ने पूरे इलाके में ढोल नगाड़े के साथ वृहद् बुद्धमय जुलूस ...और अधिक »