कतर ने व्यापार प्रतिबंधों को लेकर WTO में शिकायत की - Patrika

कतर सरकार ने सऊदी अरब के नेतृत्व में अरब देशों द्वारा लगाए गए व्यापार प्रतिबंधों के खिलाफ विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) में शिकायत दर्ज कराई है। दोहा। कतर सरकार ने सऊदी अरब के नेतृत्व में अरब देशों द्वारा लगाए गए व्यापार प्रतिबंधों के खिलाफ विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) में शिकायत दर्ज कराई है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, कतर ने सोमवार को यह शिकायत दर्ज कराई। सऊदी अरब, बहरीन, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) और मिस्र ने कतर पर आतंकवाद का वित्तपोषण करने और अन्य देशों के आंतरिक मामलों में दखलअंदाजी करने का आरोप लगाते हुए उससे अपने संबंध समाप्त कर लिए थे। सऊदी अरब ...

अरब देशों से बातचीत के लिए कतर ने 'टेढ़ी की उंगली' - अमर उजाला

पड़ोसी अरब देशों की पाबंदियां झेल रहे कतर ने अब उन्हें बातचीत की मेज पर लाने के लिए उंगली टेढ़ी की है। खबर है कि कतर ने विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) में आधिकारिक शिकायत करके इस व्यापारिक बहिष्कार को चुनौती दी है। अब इस विवाद का हल निकालने की कोशिश डब्ल्यूटीओ की प्रक्रिया के तहत की जाएगी। इसका मतलब ये है कि सऊदी अरब, बहरीन और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) को कतर के साथ बातचीत की मेज पर आना होगा। जबकि इससे पहले इन देशों ने किसी भी तरह की बातचीत के लिए 13 शर्तें रखी थीं। लेकिन डब्ल्यूटीओ की सामान्य प्रक्रिया से अगर 60 दिनों के भीतर कोई हल नहीं निकला तो यह विवाद ...

कतर ने व्यापार प्रतिबंधों को लेकर डब्ल्यूटीओ में शिकायत की - Bulletin of India Hindi

दोहा, कतर सरकार ने सऊदी अरब के नेतृत्व में अरब देशों द्वारा लगाए गए व्यापार प्रतिबंधों के खिलाफ विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) में शिकायत दर्ज कराई है। समाचार एजेंसी सिन्हुआ के मुताबिक, कतर ने सोमवार को यह शिकायत दर्ज कराई। सऊदी अरब, बहरीन, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) और मिस्र ने कतर पर आतंकवाद का वित्तपोषण करने और अन्य देशों के आंतरिक मामलों में दखलअंदाजी करने का आरोप लगाते हुए उससे अपने संबंध समाप्त कर लिए थे। सऊदी अरब, यूएई, मिस्र और बहरीन ने पिछले महीने कतर को 13 मांगों की एक सूची सौंपी थी, जिसमें अल-जजीरा टीवी स्टेशन बंद करने, आतंकवाद का वित्तपोषण रोकने और ...

अरब देशों से बातचीत के लिए क़तर ने 'टेढ़ी की उंगली' - BBC हिंदी

पड़ोसी अरब देशों की पाबंदियां झेल रहे क़तर ने अब उन्हें बातचीत की मेज़ पर लाने के लिए उंगली टेढ़ी की है. ख़बर है कि क़तर ने विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) में आधिकारिक शिकायत करके इस व्यापारिक बहिष्कार को चुनौती दी है. अब इस विवाद का हल निकालने की कोशिश डब्ल्यूटीओ की प्रक्रिया के तहत की जाएगी. इसका मतलब ये है कि सऊदी अरब, बहरीन और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) को क़तर के साथ बातचीत की मेज़ पर आना होगा. जबकि इससे पहले इन देशों ने किसी भी तरह की बातचीत के लिए 13 शर्तें रखी थीं. लेकिन डब्ल्यूटीओ की सामान्य प्रक्रिया से अगर 60 दिनों के भीतर कोई हल नहीं निकला तो यह विवाद ...

चार अरब देश शर्त के साथ क़तर से बातचीत करने को तैयार - News Track

दुबई: क़तर के साथ अपने रिश्तों को पूरी तरह खत्म करने पर चार अरब देशों ने कहा है कि हम फिर से रिश्तों को बनाये रखने के लिए बातचीत करने को तैयार है. किन्तु उसके लिए कतर उनकी मांगों को लेकर गंभीरता दिखाए तो बात हो सकती है. वे सशर्त क़तर से बात करने के दौरान अपने रिश्तों को फिर से कायम कर सकते है. कतर आतंकवाद और अतिवाद को समर्थन ना करे तो हमे क़तर के साथ सम्बन्ध रखने में कोई परेशानी नहीं है. बता दे कि हरीन, सऊदी अरब, मिस्र और संयुक्त अरब अमीरात ने क़तर से अपने सरे सम्बन्ध तोड़ लिए थे, जिसम मुख्य रूप से कारण क़तर द्वारा आतंकवाद और अतिवाद का समर्थन किया जाना है. जिसमे पांच जून को ...

4 अरब देशों ने कतर से बातचीत के लिए रखी ये शर्त - पंजाब केसरी

दुबईः कतर से सभी तरह के संबंध खत्म कर लेने वाले चार अरब देश उससे सशर्त बातचीत के लिए तैयार हैं। उनका कहना है कि अगर कतर उनकी मांगों को लेकर गंभीरता दिखाए तो बात हो सकती है। बहरीन की राजधानी मनामा में बहरीन, सऊदी अरब, मिस्र और संयुक्त अरब अमीरात के विदेश मंत्रियों ने रविवार को इस मसले पर चर्चा की। सऊदी अरब के नेतृत्व में इन देशों ने गत पांच जून को खाड़ी देश कतर से सभी प्रकार के संबंध तोड़ लिए थे। उनका आरोप है कि ईरान के साथ मिलकर कतर आतंकी समूहों की मदद कर रहा है। कतर ने इन आरोपों से इन्कार किया है। पश्चिमी देशों के समर्थन और कुवैत के कूटनीतिक प्रयास से भी विवाद का हल नहीं ...

4 अरब देश शर्तों के साथ कतर से बातचीत करने के लिए सहमत - दैनिक भास्कर

चार अरब देशों ने कुछ शर्तों के साथ कतर के साथ बातचीत करने पर सहमति जताई है। 4 अरब देश शर्तों के साथ कतर से बातचीत करने के लिए सहमत, international news. दुबई.चार अरब देशों ने कुछ शर्तों के साथ कतर के साथ बातचीत करने पर सहमति जताई है। विदेश मंत्री ने सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और मिस्र के अपने समकक्षों के साथ बैठक के बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में शर्तों के साथ कतर से बातचीत के लिए समहत होने की जानकारी दी है। बहरीन के विदेश मंत्री खालिद बिन अहमद अल खलीफा ने कहा कि कतर अगर आतंकवादियों को दी जाने वाली धनराशि पर पूरी तरह रोक लगाने, दूसरे देशों के विदेशी मामलों में हस्तक्षेप नहीं करने ...

कतर से सभी रिश्तें तोड़ चुके 4 अरब देश अब बातचीत को तैयार, पर रखी एक शर्त - Medhaj News

कतर से सभी प्रकार के रिश्ते तोड़ चुके चार अरब देश सशर्त उसके साथ बातचीत के लिए तैयार हो गए है। इन देशों का कहना है कि अगर कतर उनकी मांगों को लेकर गंभीरता दिखाता है तो बातचीत संभंव है। रविवार को बहरीन की राजधानी मनामा में बहरीन, सऊदी अरब, मिस्त्र और संयुक्त अरब अमीरात के विदेश मंत्रियों ने इस मुद्दे पर चर्चा की। बीती पांच जून को सऊदी अरब के नेतृत्व में इन देशों ने खाड़ी देश कतर से सभी प्रकार के संबंध तोड़ लिए थे। इन देशों का आरोप था कि ईरान के साथ मिलकर कतर आतंकी समूहों की मदद कर रहा है। वहीं कतर ने इन आरोपों को गलत बताया था। पश्चिमी देशों के समर्थन और कुवैत के कूटनीतिक ...

अरब देश कतर से वार्ता को राजी - Naya India

दुबई। चार अरब देशों ने कुछ शर्तों के साथ कतर के साथ बातचीत करने पर राजी हो गए हैं। उल्लेखनीय है कि सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, बहरीन और मिस्र ने कतर पर आतंकवादियों का साथ देने का आरोप लगाकर उनके साथ राजनयिक तथा व्यापारिक संबंध तोड़ लिए थे। बहरीन के विदेश मंत्री खालिद बिन अहमद अल खलीफा ने कहा कि कतर अगर आतंकवादियों को दी जाने वाली धनराशि पर पूरी तरह रोक लगाने, दूसरे देशों के विदेशी मामलों में हस्तक्षेप नहीं करने के अलावा 13 मांगों का समुचित जवाब देने को तैयार होगा तो चारों अरब देश उनके साथ बातचीत के लिए सहमत हैं। विदेश मंत्री ने सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात तथा ...

कतर को राहत, चार अरब देश शर्तों के साथ कतर से बातचीत के लिए तैयार - Patrika

अरब देशों ने कुछ शर्तों के साथ बातचीत करने पर सहमति जतायी है। इसके अलावा 13 सवालों के जवाब देने मांगे हैं। दुबई: खाड़ी देशों में राजनयिक संकट झेल रहे कतर से चार अरब देशों ने कुछ शर्तों के साथ बातचीत करने पर सहमति जतायी है। बहरीन के विदेश मंत्री खालिद बिन अहमद अल खलीफा ने कहा कि कतर अगर आतंकवादियों को दी जाने वाली धनराशि पर पूरी तरह रोक लगाने, दूसरे देशों के विदेशी मामलों में हस्तक्षेप नहीं करने के अलावा 13 मांगों का समुचित जवाब देने को तैयार होगा तो चारों अरब देश उनके साथ बातचीत के लिए सहमत हैं। विदेश मंत्री ने दिया सहयोग का न्यौता. विदेश मंत्री ने सऊदी अरब, ...

क़तर पर किसी नरमी के मूड में नहीं हैं अरब देश - BBC हिंदी

क़तर का राजनयिक बहिष्कार करने वाले चार अरब देश अपनी मांगों पर अड़े हुए हैं और सख़्त बयान देते हुए उन्होंने कहा है कि पड़ोसी देश को उनकी 13 मांगों पर जवाब देना ही होगा. इन देशों ने कहा है कि इसके बाद ही वे संवाद के लिए राज़ी होंगे. सऊदी अरब, बहरीन, मिस्र और यूएई ने 5 जून को क़तर पर चरमपंथ को बढ़ावा देने का आरोप लगाते हुए संबंध तोड़ लिए थे. क़तर ने इन आरोपों और पाबंदियां हटाने के लिए अरब देशों की शर्तों को ख़ारिज़ कर दिया था. इन शर्तों में क़तर के समाचार ब्रॉडकास्टर अल-जज़ीरा को बंद करना और ईरान से संबंधों को कम करना शामिल है. पढ़ें: क़तर को मिल रही है आज़ादी से बोलने की सज़ा ...

सऊदी अरब समेत चार देशों ने कतर से 13 सूत्रीय मांगें पूरी करने की बात दोहराई - चाइना रेडियो इंटरनेशनल

सऊदी अरब, मिस्र, यूएई और बहरीन चार देशों ने 30 जुलाई को बयान जारी कर दोहराया कि कतर को 13 सूत्रीय मांगें पूरी करनी चाहिये। इसके बाद ही चारों देश उसके साथ वार्ता करेंगे। उस दिन चार देशों के विदेश मंत्रियों ने बहरीन में सलाह मशविरे की बैठक की। बैठक के बाद हुई संयुक्त प्रेस वार्ता में बहरीन के विदेश मंत्री खलिद अल खलीफ़ा ने कहा कि चार देशों द्वारा कतर से आतंकवाद का समर्थन बंद करने की मांग की है साथ ही ये भी बताया कि कतर पर लगाया गया प्रतिबंध अंतरराष्ट्रीय कानूनों के अनुरूप है। चारों देश इस पक्ष पर कायम रहेंगे। सऊदी अरब के विदेश मंत्री अदल अल ज़ुबैर ने कहा कि सऊदी अरब कतर ...

मांगें पूरी होने पर अरब के चार मुल्क कतर से बातचीत को तैयार - Zee News हिन्दी

दुबई: कतर से संबंध तोड़ने वाले अरब जगत के चार देशों ने इस राजनयिक संकट पर चर्चा करने के लिए रविवार (30 जुलाई) को बैठक की. उन्होंने कई मांगों की एक सूची के अनुपालन पर जोर दिया, जबकि अब इस खाड़ी देश के खिलाफ और अधिक दंडात्मक उपाय थोपे जाने से दूर रहे. कतर से पांच जून को राजनयिक और परिवहन संबंध तोड़े जाने के बाद सउदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात, मिस्र और बहरीन के विदेश मंत्रियों की यह दूसरी बैठक थी. उन्होंने रविवार (30 जुलाई) को बहरीन की राजधानी मनामा में बैठक की. गौरतलब है कि इन देशों ने कतर पर चरमपंथ का समर्थन करने और अन्य अरब मुल्कों के मामलों में दखलंदाजी का आरोप लगाया था. वहीं ...