सुर्खियां

जीएम फसल पर अदालत करेगी सुनवाई - Business Standard Hindi

जीएम फसल पर अदालत करेगी सुनवाईBusiness Standard Hindiउच्चतम न्यायालय ने आज स्पष्ट किया कि यदि सरकार जीन संवर्धित सरसों की फसल की व्यावसायिक खेती की अनुमति देने का फैसला करती है तो वह इसे चुनौती देने वाली जनहित याचिका पर सुनवाई करेगा। प्रधान न्यायाधीश जगदीश सिंह खेहड़ और न्यायमूर्ति धनंजय वाईचंद्रचूड़ के पीठ ने यह टिप्पणी उस वक्त की जब केंद्र की ओर से अतिरिक्त सोलिसिटर जनरल पी एस नरसिम्हा ने कहा कि सरकार एक-डेढ़ महीने के भीतर इसके व्यावसायिक इस्तेमाल के बारे में नीतिगत निर्णय लेगी। इस पर पीठ ने कहा, 'हम इस मामले को सितंबर के दूसरे सप्ताह के लिए सूचीबद्ध कर रहे हैं। यदि आपका फैसला जीन संवर्धित सरसों की खेती की ...और अधिक »

केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि जल्द लेंगे सरसों की जीएम फसल पर फैसला - Patrika;

केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि जल्द लेंगे सरसों की जीएम फसल पर फैसला - Patrika

Patrikaकेंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि जल्द लेंगे सरसों की जीएम फसल पर फैसलाPatrikaमुख्य न्यायाधीश जे एस खेहर और न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड की पीठ ने अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल पी एस नरसिम्हा को बताया कि अगर सरकार जीएम सरसों की फसल के पक्ष में फैसला लेती है, तो अदालत व्यापारिक लेनदेन को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई करना चाहेगी। नई दिल्ली: केंद्र ने सोमवार को सुप्रीम कोर्ट से कहा है कि वह एक डेढ़ महीने में फैसला लेगा कि क्या देश में आनुवांशिक रूप से संशोधित (जीएम) सरसों की फसल के व्यापारिक लेनदेन को अनुमति दी जाए। मुख्य न्यायाधीश जे एस खेहर और न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड की पीठ ने अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल पी एस नरसिम्हा को बताया कि अगर ...और अधिक »

जीएम फसलों पर सितंबर में आ सकता है सुप्रीम कोर्ट का फैसला - दैनिक जागरण;

जीएम फसलों पर सितंबर में आ सकता है सुप्रीम कोर्ट का फैसला - दैनिक जागरण

दैनिक जागरणजीएम फसलों पर सितंबर में आ सकता है सुप्रीम कोर्ट का फैसलादैनिक जागरणजीएम फसलों के विभिन्न पहलुओं पर विचार कर रही है और जीएम फसलों के व्यवसायिक प्रयोग पर सुझाव मांगे हैं। नई दिल्ली, जेएनएन। जेनिटिकली मॉडिफाइड (जीएम) सरसों के उत्पादन मामले में सुप्रीम कोर्ट की ओर से आगामी सितंबर माह में फैसला आ सकता है। केंद्र सरकार की ओर से आज मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट में कहा गया कि उसकी ओर से जीएम फसलों के उत्पादन पर सितंबर माह में निर्णय ले लिया जाएगा। मामले में मुख्य न्यायाधीश जेएस खेहर की पीठ के समक्ष अतिरिक्त सालिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि सरकार जीएम फसलों के विभिन्न पहलुओं पर विचार कर रही है और जीएम फसलों के व्यवसायिक ...और अधिक »

केन्द्र ने न्यायालय से कहा: जीएम सरसों की फसल के बारे में हम नीतिगत निर्णय लेंगे - Bhasha-PTI

केन्द्र ने न्यायालय से कहा: जीएम सरसों की फसल के बारे में हम नीतिगत निर्णय लेंगेBhasha-PTIनयी दिल्ली, 31 जुलाई (भाषा) केन्द्र ने आज उच्चतम न्यायालय को सूचित किया कि वह डेढ़ महीने के भीतर यह निर्णय ले लेगा कि क्या देश में आनुवांशिक संवर्धित (जीएम) सरसों की फसल के व्यावसायिक उपयोग की अनुमति दी जाये। प्रधान न्यायाधीश जगदीश सिंह खेहर और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ की पीठ ने अतिरिक्त सालिसिटर जनरल पी एस नरसिम्हा से कहा कि यदि सरकार जीएम सरसों के पक्ष में निर्णय लेती है तो न्यायालय इसके व्यावसायिक दोहन को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई करेगा। पीठ ने कहा कि चूंकि देश में सरसों की बुआई का सत्र अक्तूबर के महीने में शुरू होता है, इसलिए जीएम ...और अधिक »

GM सरसों के कमर्शल यूज़ का मामला : केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, हम सितंबर में लेंगे फैसला - NDTV Khabar

GM सरसों के कमर्शल यूज़ का मामला : केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, हम सितंबर में लेंगे फैसलाNDTV Khabarसरकार ने कहा है कि अगर सितंबर तक सरकार इस पर फैसला नहीं ले पाई तो फिर यह फैसला अगले साल होगा. Reported by: आशीष भार्गव, Edited by: पूजा प्रसाद, Updated: 31 जुलाई, 2017 1:54 PM. Share. ईमेल करें. टिप्पणियां. GM सरसों के कमर्शल यूज़ का मामला : केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट से कहा, हम सितंबर में लेगें फैसला (File Pic). नई दिल्ली: जीएस सरसों के कर्मशल इस्तेमाल को लेकर केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि सितंबर के अंत तक यह फैसला होगा कि GM सरसों का व्यावसायिक इस्तेमाल होगा या नहीं. सरकार ने कहा है कि अगर सितंबर तक सरकार इस पर फैसला नहीं ले पाई तो फिर यह फैसला अगले साल होगा. बता दें कि ...और अधिक »

आनुवंशिक रूप से रूपांतरित सरसों के बीज को व्यावसायिक तौर पर जारी करने का विरोध - नवभारत टाइम्स

आनुवंशिक रूप से रूपांतरित सरसों के बीज को व्यावसायिक तौर पर जारी करने का विरोधनवभारत टाइम्स(यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।) भाषा | Updated: Jul 30, 2017, 02:00PM IST. height:250px. नयी दिल्ली, 30 जुलाई भाषा आनुवंशिक रूप से रूपांतरित फसलों का विरोध करने वाले कार्यकर्ताओं के एक गठबंधन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मांग की है कि वे यह सुनिश्चित करें कि आनुवांशिक रूप से रूपांतरित जीएम सरसों के व्यावसायिक उत्पादन को पूरी तरह से खारिज कर दिया जाए। जीएम फ्री इंडिया कोअलिशन ने आशंका जताई कि जीएम सरसों फसल के कुछ शर्तों के साथ व्यावसायिक रोपण की इजाजत दे दी जा सकती है और कहा कि देश बीटी कपास के मामले ...और अधिक »