बंद बेअसर,खुली रहीं दुकानें - Nai Dunia

जीएसटी के कठिन प्रावधानों के खिलाफ चेंबर ऑफ कॉमर्स ने 30 जून को प्रदेश बंद का आह्वान किया था, लेकिन शहर में बंद बेअसर रहा। गोलबाजार, सदरबाजार समेत अन्य प्रमुख बाजार खुले रहे। जीएसटी का चेंबर ऑफ कॉमर्स के बैनर तले व्यापारियों ने विरोध करने का एलान किया था। कठिन प्रावधानों को लचीला करने चेंबर ने 11 सूत्रीय मांगे रखी है। इन्हीं मांगों के अनुरूप जीएसटी लागू करने की मांग की है। लिहाजा जीएसटी लागू हो इसके पहले विरोध करने के चलते शुक्रवार को प्रदेश व्यापी बंद का एलान कर दिया था। बंद के दौरान व्यापारिक प्रतिष्ठानों को बंद रखकर एक दिन व्यापार ठप कर विरोध प्रदर्शन का ...

जीएसटी के विरोध में कांग्रेस के आह्वान पर भाजपाईयों भी बंद रखी दुकान - Nai Dunia

देश की अप्रत्यक्ष कर प्रणाली में ऐतिहासिक बदलाव लाने वाले समान बस्तु व सेवा कर (जीएसटी)को लागू करने से पूर्व व्यापारियों ने विरोध कर अपने प्रतिष्ठान बंद रखे। जिला व्यापार महासंघ के आव्हान पर दी गई बंद की कोल का असर शहर में व्यापक रूप से दिखाई दिया। व्यापारियों ने सुबह से ही अपने प्रतिष्ठान बंद रखे। सबसे चौकाने वाली बात तो यह सामने आई की जिस केन्द्र की भाजपा सरकार ने जीएसटी लागू करने का निर्णय लिया है। उसी पार्टी के नेताओं ने जीएसटी लागू करने के विरोध में अपनी दुकानें बंद रखी। विजयपुर, कराहल, वीरपुर, बड़ौदा में भी जीएसटी लागू करने के विरोध में व्यवसाइयों ने दुकानें ...

जीएसटी के विरोध में कपड़ा व्यापारियों ने बंद रखीं दुकानें - दैनिक जागरण

जीएसटी को लेकर शुक्रवार को कपड़ा व्यापारियों ने पूरा दिन दुकानें बंद कर केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। हालांकि बंद का आह्वान क्लोथ मरचेंट एसोसिएशन ने पहले ही कर रखा था, लेकिन इसके बावजूद शुक्रवार को बंद से पहले एसोसिएशन ने बैठक की। एसोसिएशन के प्रधान प्रवीन बांसल ने बैठक को संबोधित करते कहा कि सभी कपड़ा व्यापारी जीएसटी द्वारा टैक्स को कठिन बनाए जाने के खिलाफ हैं और सभी बिना किसी दवाब के अपनी दुकानें पूरी तरह से बंद रखेंगे। एसोसिएशन प्रधान के इस अह्वान के बाद सभी कपड़ा कारोबारियों ने तुरंत अपने-अपने जानकार व्यापारी को संदेश देना शुरू कर दिया। शहर के कुछ ...

जीएसटी के विरोध में बिखरे व्यापारी - अमर उजाला

माल एवं सेवा कर (जीएसटी) के विरोध में शुक्रवार को कई व्यापारी संगठनों ने दुकानें बंद रखीं, जबकि शहर में अधिकांश स्थानों पर व्यावसायिक प्रतिष्ठान आम दिनों की तरह खुले। जीएसटी का विरोध कर रहे उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल और उद्योग व्यापार मंडल ने मेघदूत चौराहे के पास जीएसटी की खामियों का पुतला फूंक गुस्से का इजहार किया। व्यापारी संगठनों ने जीएसटी की खामियों को दूर करने के लिए केंद्रीय वित्तमंत्री अरुण जेटली को संबोधित ज्ञापन कलक्ट्रेट में एसीएम को सौंपा। शहर में खंदक बाजार, घंटाघर, हापुड़ रोड, वैली बाजार, आबूलेन, खैरनगर और सर्राफा बाजार आदि में ...

दोपहर तक बंद रहा बाजार - अमर उजाला

जीएसटी के विरोध में शुक्रवार को इलाहाबाद के प्रमुख बाजार और थोक मंडियां बंद रहीं। इस बंदी के चलते करोड़ों रुपये का कारोबार प्रभावित हुआ है। बंदी का आलम यह रहा कि शहर के बड़े मॉल भी दोपहर तक बंद रहे। इस दौरान व्यापारिक संगठनों द्वारा शहर के तमाम चौराहों पर जीएसटी की खामियों के विरोध में धरना प्रदर्शन किया गया। प्रयाग व्यापार मंडल की ओर से चौक घंटाघर में सभा कर जीएसटी की खामियों को गिनाया। इसके बाद व्यापारियों ने जीएसटी की खामियों की शवयात्रा निकाल कर कोतवाली के सामने पुतला दहन कर अपनी नाराजगी जाहिर की। जीएसटी की खामियों को लेकर प्रयाग व्यापार मंडल ने ...

एक जुलाई से लागू हो रही जीएसटी कर प्रणाली का व्यापारियों ने किया विरोध - अमर उजाला

व्यापार मंडल अमरोहा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश संयुक्त उद्योग व्यापार मंडल ने एक जुलाई से लागू होने जा रही जीएसटी कर प्रणाली में व्यापारी हितों के खिलाफ लागू किए जा रहे नियमों के विरोध में कलक्ट्रेट में प्रदर्शन किया। व्यापार संगठनों ने व्यापारी हित को ध्यान में रखते हुए जीएसटी में संशोधन की आवाज उठाते हुए वित्तमंत्री भारत सरकार को संबोधित ज्ञापन डीएम को सौंपा। व्यापार मंडल अमरोहा के आह्वान पर नगर के व्यापारी बिजनौर रोड स्थित व्यापारी नेता सलाउ्ददीन मंसूरी के प्रतिष्ठान पर एकत्र हुए। प्रांतीय संगठन के उपाध्यक्ष व नगर इकाई के अध्यक्ष मोहम्मद इब्राहीम मंसूरी ने ...

जीएसटी का विरोध - अमर उजाला

नैनीताल। भारतीय उद्योग व्यापार मंडल के आह्वान पर जीएसटी के विरोध में भारत बंद का नैनीताल में कोई असर नहीं दिखा। यहां रोज ही तरह व्यापारिक प्रतिष्ठान खुले रहे। अलबत्ता उद्योग एवं व्यापार मंडल के पदाधिकारियों ने डीएम दीपेंद्र कुमार चौधरी के माध्यम से प्रधानमंत्री को संबोधित एक ज्ञापन सौंपा। व्यापारियों ने कहा कि अन्य राज्यों की तरह उत्तराखंड में भी अंपजीकृत व्यापार सीमा बीस लाख की जानी चाहिए। कहा कि ऑनलाइन रिटर्न भरने की बाध्यता खत्म होनी चाहिए। कहा कि माह में तीन रिटर्न भरने की जगह त्रिमासिक रिटर्न व्यवस्था हो। ज्ञापन सौंपने वालों में व्यापार मंडल ...

भारत बंद रहा बेअसर, तीन दिन बाद खुले बाजार - अमर उजाला

भारतीय उद्योग व्यापार मंडल की ओर से आहूत भारत बंद शहर में बेअसर रहा, लेकिन ग्रामीण इलाकों में असर दिखा। कपड़ा व्यापारियों ने तीन दिन की हड़ताल के बाद शुक्रवार को भारत बंद से दूरी बनाए रखी। व्यापारियों-दुकानदारों ने सुबह बाजार के बीच हवन कर जीएसटी मसले पर सरकार को सद्बुद्धि देने की भगवान से प्रार्थना की और दुकानें खोली। दुकानें खुलने के चलते तीन दिन बाद बाजारों में रौनक लौटी। दो जुलाई के शादी मुहूर्त के लिए लोग खरीदारी करने उमड़े। वहीं कपड़ा व्यापारियों, दुकानदारों ने दोपहर बाद डीसी को प्रधानमंत्री के नाम ज्ञापन सौंपकर जीएसटी के सरलीकरण की मांग रखी। भिवानी ...

जानियें कहां के व्यापारियों ने नहीं दिया बंद को समर्थन - Patrika

जीएसटी को लेकर शुक्रवार को व्यापारियों के देशव्यापी बंद का असर सराफा छोड़कर कहीं नहीं दिखा। कुछेक दुकानदारों ने प्रतिष्ठान बंद रखकर विरोध किया। शाजापुर. जीएसटी को लेकर शुक्रवार को व्यापारियों के देशव्यापी बंद का असर सराफा छोड़कर कहीं नहीं दिखा। कुछेक दुकानदारों ने प्रतिष्ठान बंद रखकर विरोध किया। एक देश एक टैक्स प्रणाली को लेकर किसी के पास भी पूर्ण जानकारी नहीं होने से असमंजस है। अधिकांश व्यापारी तो ये ही समझ नहीं पाए कि उनके लिए जीएसटी अच्छा रहेगा या नुकसानदायक। इसी बीच व्यापारियों ने राष्ट्रव्यापी आह्वान के तहत 30 जून को देश बंद का आह्वान कर दिया।

सड़क पर उतरे व्यापारी, बंद का मिला-जुला असर - दैनिक जागरण

जासं, इलाहाबाद : पूरे देश में एक कर प्रणाली जीएसटी की खामियों को लेकर प्रयाग नगरी में व्यापारिक संगठनों की ओर से बंद के आह्वान का मिला-जुला असर रहा। विभिन्न व्यापारिक संगठनों के पदाधिकारी वस्तुओं पर टैक्स की दरों को कम करने के लिए सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन किया। चौक और सिविल लाइंस में व्यापारियों ने सभा करके अपना आक्रोश प्रकट किया। सिविल लाइंस में दुकानों को बंद कराया। शहर के अन्य बाजारों में अधिकांश दुकानें खुली रहीं। एक जुलाई से पूरे देश में जीएसटी लागू हो रहा है। जीएसटी की कमियों को लेकर शुक्रवार को व्यापारिक संगठनों ने प्रदर्शन किया। प्रयाग व्यापार ...

दो घंटे बंद के बाद खुल गए बाजार - अमर उजाला

गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) के खिलाफ शुक्रवार को बाजार बंद का मिला जुला असर रहा है। शहर और सीपरी बाजार पूरी तरह बंद रहे, लेकिन दो-तीन घंटे बाद कई दुकानें खुल गईं। सदर बाजार और अन्य बाजारों में बंद का आंशिक असर ही देखा गया। बंद के दौरान व्यापारियों ने प्रधानमंत्री को संबोधित एक ज्ञापन नगर मजिस्ट्रेट को सौंपा। शुक्रवार को उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के आह्वान पर थोक वस्त्र व्यापार मंडल, गल्ला व्यापार मंडल, जनरल मर्चेंट एसोसिएशन, रसबहार व्यापार मंडल, सीपरी बाजार व्यापार महासमिति, सुभाष मार्केट व्यापार मंडल, आजाद गंज व्यापार मंडल, सनातन व्यापार मंडल ...

जीएसटी ः शंका और समस्याएं बरकरार पर बाजार तैयार - अमर उजाला

जीएसटी को लेकर डीएम को ज्ञापन देने पहुंचे सुरक्षा फोरम के व्यापारी। PC: अमर उजाला ब्यूरो. तीन राज्यों की सीमा पर बसे सहारनपुर में गुड्स एंड सर्विस टैक्स (जीएसटी) लागू होने का सबसे ज्यादा असर पड़ने की संभावना है। इसकी वजह यह है कि हरियाणा और उत्तराखंड में वैट की दर कम होने के चलते यहां के लोग ज्यादातर खरीदारी उन्हीं राज्यों से करते आ रहे हैं। कि जीएसटी से यहां के लोगों में खरीदारी के प्रति नजरिया बदलेगा। बहरहाल एक जुलाई से लागू होने जा रही इस नई व्यवस्था में फल, सब्जियां, दालें, गेहूं, चावल आदि टैक्स फ्री हैं जबकि चिप्स, बिस्किट, मक्खन, चाय और कॉफी पर ऊंची दर के टैक्स ...

कहीं बंद तो कहीं खुली दुकानें - अमर उजाला

जीएसटी के विरोध में व्यापारी संगठनों द्वारा शुक्रवार को बुलाए गए महाबंद का जिले में मिला-जुला असर रहा। करीब 80 फीसदी दुकानदारों ने कारोबार किया। वहीं, कानपुर देहात जिला उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल ने कलेक्ट्रेट में प्रदर्शन कर जीएसटी का विरोध किया। साथ ही जाटिल प्रावधानों को व्यवहारिक बनाए जाने की मांग कर केंद्रीय वित्त मंत्री को संबोधित ज्ञापन एडीएम वित्त को सौंपा। अकबरपुर कोतवाली थाना क्षेत्र में शुक्रवार सुबह तो दुकानें बंद रही, लेकिन दोपहर के बाद अधिकांश दुकानों के शटर उठ गए। सिर्फ कुछ कपड़ा कारोबारियों ने दुकानें बंद रखकर विरोध जताया। इधर, जिला ...

जीएसटी के विरोध में बंद रहे भोपाल के बाजार - Jansatta

केंद्र सरकार द्वारा एक जुलाई से लागू किए जा रहे वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) की विसंगतियों और जटिलताओं के विरोध में मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के प्रमुख बाजार और अनेक कारोबारी संस्थान शुक्रवार को बंद रहे। Author एजंसी भोपाल | July 1, 2017 01:08 am. 94. Shares. Facebook · Twitter · Google Plus · Whatsapp. केंद्र सरकार द्वारा एक जुलाई से लागू किए जा रहे वस्तु और सेवा कर (जीएसटी) की विसंगतियों और जटिलताओं के विरोध में मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल के प्रमुख बाजार और अनेक कारोबारी संस्थान शुक्रवार को बंद रहे। इससे करोड़ों रुपए का दैनिक व्यवसाय ठप हो गया। बाजार सूत्रों ने बताया कि एक ...

जीएसटी के विरोध में मेन बाजार बंद, व्यापारियों ने जुलूस निकाल किया हंगामा - अमर उजाला

जीएसटी के विरोध में शुक्रवार को शहर के अधिकतर बाजार बंद रखे गए। व्यापारियों ने कपड़ा टेक्स फ्री करने के अलावा जीएसटी की जटिल प्रक्रिया को सरल करने और पुराने स्टॉक के लिए समय दिए जाने की मांग की। व्यापारियों ने इन मांगों को मनवाने के लिए बाजारों में जुलूस निकाला और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। शहर की सबसे पुरानी कच्चे क्वार्टर मार्केट के बंद रहने से लोग खरीदारी के लिए कई घंटों तक घूमते रहे। दोपहर बाद बाजार खुलने के बाद लोग खरीदारी के लिए पहुंचे। वहीं जिला व्यापार मंडल के पदाधिकारियों पर कुछ व्यापारियों ने दोगली नीति अपनाते हुए बाजार खुलवाने का आरोप लगाया।

जीएसटी के विरोध में सड़क पर उतरे व्यापारी - दैनिक जागरण

श्रावस्ती : शुक्रवार को जीएसटी के प्रावधानों को व्यापार विरोधी करार देते हुए जिले के व्यापारी विरोध में सड़क पर उतर आए। व्यापारियों ने दुकानें बंद कर एक जुलाई से लागू केंद्र सरकार के नए माल एवं सेवाकर का विरोध किया। हड़ताल के चलते भिनगा व इकौना नगरों में करोड़ों रूपये का लेन-देन प्रभावित हुआ। ग्राहकों को निराश लौटना पड़ा। हड़ताल से दवा की दुकानें अलग रहीं, इससे मरीजों को राहत रही। उद्योग व्यापार मंडल के आह्वान पर भारत बंद के तहत व्यापारियों ने कारोबार बंद कर जीएसटी का विरोध जताया। आंदोलन के चलते आटोमोबाइल, सराफा, किराना, आयल मिल व राइस मिल, इलेक्ट्रानिक्स, ...

जीएसटी के विरोध में बंद बेअसर - अमर उजाला

उरई। जीएसटी के विरोध में जिले में बाजार बंदी बेअसर रही। जिला मुख्यालय पर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल की अगुवाई में व्यापारियों ने बाजार बंद कराकर सभा की। फिर जीएसटी की प्रतीकात्मक अर्थी के साथ जुलूस निकाला और केंद्रीय वित्त मंत्री का पुतला फूंका। प्रदर्शनकारियों के हटते ही दुकानें खुलने लगीं। दोपहर बाद तक जिले मुख्यालय के सभी बाजारों की दुकानें खुल गईं। जीएसटी के विरोध में प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल ने शुक्रवार को बाजार बंद का आह्वान किया था। प्रांतीय महामंत्री दिलीप सेठ, भगवती शरण, अनिल बहुगणा, गोविंद मुरारी गुप्ता, संदीप, हरिओम ...

तमिलनाडु में बंद का मिलाजुला असर - Patrika

चेन्नई।जीएसटी कानून के कड़े प्रावधानों के विरोध में विभिन्न व्यापारिक संगठनों की ओर से शुक्रवार को प्रस्तावित भारत बंद का तमिलनाडु में मिला-जुला असर दिखा। महानगर चेन्नई में सुबह के समय अधिकांश दुकानें बंद थी लेकिन दोपहर होते होते कई दुकानें खुल चुकी थी। जीसटी में कथित विसंगतियों को दूर करने की मांग को लेकर व्यापारियों ने बंद आहूत किया था। हिन्दी बाहुल्य इलाके साहुकारपेट इलाके में गोविन्दप्पा नायकन स्ट्रीट, काशी चेट्टी स्ट्रीट, नारायण मुदली स्ट्रीट, मिन्ट स्ट्रीट, एनएससी बोस रोड, गोडावण स्ट्रीट, आदियप्पा नायकन स्ट्रीट, स्ट्रोटन मुथैया मुदली स्ट्रीट ...

जीएसटी के विरोध में बंद रहे प्रतिष्ठान - अमर उजाला

जौनपुर। जीएसटी के विरोध में शहर के अधिकतर व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रहे। व्यापारियों ने जुलूस निकालकर जीएसटी का विरोध कर इसके वर्तमान स्वरूप में बदलाव की मांग उठाई। मांगों से संबोधित ज्ञापन प्रशासन को सौंपा। व्यापारी नेताओं ने कहा कि जीएसटी का स्वागत है लेकिन इसमें सुधार की भी जरूरत है। सत्तादल के नेताओं की भी दुकाने बंद रही। जौनपुर उद्योग व्यापार मंडल की कोतवाली चौराहे पर हुई सभा में अध्यक्ष दिनेश टंडन ने कहा कि जीएसटी के वर्तमान स्वरूप से लघु उद्योग, हथकरघा, हाट बाजार खत्म हो जाएगें। इस मौके पर बनवारी लाल गुप्त, रवि मिंगलानी, राजनाथ गुप्त, रामकुमार, राधेरमण ...