सुप्रीम कोर्ट: 'चाहे गर्मी की छुट्टियां खप जाएं लेकिन ट्रिपल तलाक पर फैसला होकर रहेगा' - The Lallantop

पाकिस्तान, बांग्लादेश जैसे कई इस्लामिक देशों में ट्रिपल तलाक बैन है, लेकिन भारत जैसे सेकुलर देश में ये जारी है. मुसलमानों की आबादी के मामले में भारत दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा देश है. यहां की 9 करोड़ मुस्लिम औरतें अपनी जिंदगी इस खौफ में गुजार रही हैं कि कहीं उन तक भी तीन-तलाक का साया न पहुंच जाए. हमारे पड़ोसी देशों पाकिस्तान और बांग्लादेश ने 1961 में ही तीन-तलाक पर प्रतिबंध लगा दिया था. अफगानिस्तान, जॉर्डन, मोरक्को, कुवैत एक सांस में ही बोले जाने वाले तीन तलाक पर रोक लगा चुका है. अल्जीरिया में तलाक बिना कोर्ट में गए नहीं लिया जा सकता है. ट्यूनीशिया में ...

तीन तलाक: 11 मई से संविधान पीठ में होगी सुनवाई - देशबन्धु

सर्वोच्च न्यायालय ने गुरुवार को कहा कि तीन तलाक, 'निकाह हलाला' और मुस्लिम समाज में बहुविवाह प्रथा के खिलाफ दायर एक याचिका पर संविधान पीठ 11 मई से सुनवाई शुरू करेगी। ... March 31,2017 01:13. तीन तलाक: 11 मई से संविधान पीठ में होगी सुनवाई. Three Divorce: hearing from May 11. देशबन्धु. नई दिल्ली| सर्वोच्च न्यायालय ने गुरुवार को कहा कि तीन तलाक, 'निकाह हलाला' और मुस्लिम समाज में बहुविवाह प्रथा के खिलाफ दायर एक याचिका पर संविधान पीठ 11 मई से सुनवाई शुरू करेगी। संविधान पीठ 11 और 12 मई को शुरुआती सुनवाई करेगा। प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति जे. एस. केहर और न्यायमूर्ति डी. वाई. चंद्रचूड़ ...

बदलेगा 67 साल का इतिहास, अब गर्मी की छुट्टियों में भी काम करेगा SC, सिब्बल-रोहतगी ने जताया विरोध - Youthens News

अब सुप्रीम कोर्ट के लिए गर्मियों की छुट्टियां एक पुरानी बात हो जाएगी। क्योंकि अब इसे समर वैकेशंस में भी काम करना पड़ेगा। दरअसल, सुप्रीम कोर्ट के जजों पर यह आरोप लगता रहा है कि लंबित मामलों की तादाद लगातार बढऩे के बावजूद वे लंबे समय तक गर्मियों की छुट्टी पर रहते हैं। हालांकि 67 साल के इतिहास में ये पहली बार सुप्रीम कोर्ट इस मामले को लेकर एक नई पहल करने वाली है। इन गर्मियों में पांच जजों वाली तीन बेंच नियमित रूप से हर दिन काम करेंगी और राष्ट्रीय महत्व से जुड़े मुद्दों का निपटारा करने की कोशिश करेंगी। वैसे तो सुप्रीम कोर्ट का 50 दिन लंबा समर ब्रेक हमेशा से ही ...

ट्रिपल तलाक पर जल्द सुनवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट के 15 जजों की छुट्टी कैंसिल - haribhoomi

नई दिल्ली. सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक, निकाह हलाला और मुस्लिमों में बहुविवाह के मामले को संवैधानिक पीठ को भेजा था। इस मामले की सुनवाई 11 मई को होगी जिसके लिए 15 जजों की गर्मी की छुट्टियां कैंसिल कर दी गई हैं। शीर्ष न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश जेएस खेहर ने बताया कि इस सुनवाई के लिए तीन अलग अलग संविधान पीठ के गठन को मंजूरी दे दी गई है। उन्होंने कहा कि अगर अब इन मामलों कि सुनवाई न करी गई तो बहुत देर हो जाएगी और इन मसलों का निपटारा नहीं हो पाएगा। मालूम हो कि गर्मी की छुट्टियों के दौरान दो सदस्यीय पीठ के बैठने की चलन रहा है लेकिन इस बार सुनवाई के चलते सुप्रीम कोर्ट ...

गर्मी की छुट्टियों में काम करेगी SC, विरोध पर चीफ जस्टिस ने ऐसे कराया अटॉर्नी जनरल-सिब्बल को 'चुप' - India.com हिंदी

देश के 67 साल के इतिहास में पहली बार सुप्रीम कोर्ट एक नई पहल करने जा रहा है... By India.com Staff | Published: March 31, 2017 11:20 AM IST Email. 0 Shares. Facebook share; Twitter share; Share on Google+ · Share on Whatsapp. Comments. File Image. नई दिल्ली। देश के जजों पर आरोप लगता है कि हजारों की संख्या में लंबित मामले होने के बावजूद वह गर्मी की छुट्टियों पर रहते हैं। देश के 67 साल के इतिहास में पहली बार सुप्रीम कोर्ट एक नई पहल करने जा रहा है। 2017 की गर्मियों में पांच जजों की तीन बेंच नियमित रूप से हर दिन काम कर राष्ट्रीय महत्व से जुड़े मुद्दों को निपटाने का प्रयास करेगी। गर्मी की छुट्टियों में 50 दिन तक तक चलने ...

सुप्रीम कोर्ट के 15 जजों की समर छुट्टियां हुई कम, अहम मामलों की करनी होगी सुनवाई - Samachar Jagat

नई दिल्ली। पहली बार शायद सुप्रीम कोर्ट के जजों की गर्मी की छुट्टियों को काटा गया हैै। सुप्रीम कोर्ट में 15 जज अहम मामलों की सुनवाई करेंगे। इनमें से एक ट्रिपल तलाक का मामला, आधार और व्हाट्सएप से जुड़े विषय भी शामिल हैं। अब तक गर्मियों की छुट्टियों में दो जजों की एक बेंच सुनवाई के लिए उपलब्ध होती थी, लेकिन ऐसा पहली बार होगा जब 28 में से 15 जज अपनी छुट्टियां छोड़कर अदालत में मामलों की सुनवाई कर फैसले सुनाएंगे। जानकारी के अनुसार चीफ जस्टिस जेएस खेहर ने बाताया कि उन्होंने तीन अलग-अलग खंडपीठों का गठन किया है जो गर्मी की छुट्टियों में मामले को देखेगी। यह पीठ 11 मई ...

गर्मी की छुट्टियों में काम करेंगे सुप्रीम कोर्ट के जज - Sanjeevni Today

नई दिल्ली। कई सालो में पहली बार सुप्रीम कोर्ट के जजों की गर्मा की छुटि्टयां काट दी गई हैं। इस दौरान अब इन 15 जजों को अहम मामलों की सुनवाई करनी होगी। अब तक गर्मियों की छुटि्टयों में 2 जजों की एक बेंच सुनवाई के लिए उपलब्ध होती थी। जानकारी के मुताबिक चीफ जस्टिस जेएस खेहर ने गुरुवार को बाताया कि उन्होंने तीन अलग-अलग खंडपीठों का गठन किया है जो गर्मी की छुटि्टयों में मामले को देखेगी। टोंक रोड़,जयपुर में प्लाट खरीदने का सबसे सही समय, मात्र 2लाख में 100 गज का प्लाट,कॉल : 9314188188. यह पीठ 11 मई से शुरू होने वाली छुटि्टयों में काम करेगी और जरूरत होने पर शनिवार-रविवार को भी ...

सुप्रीम कोर्ट सख्त: पहली बार 15 जजों की गर्मी छुट्टी कटी, जानिए क्यों - Hindustan हिंदी

संवैधानिक महत्व से जुड़े तीन मामलों की जल्द सुनावाई के लिए पहली बार सुप्रीम कोर्ट के कम से कम 15 जजों की आगामी गर्मी की छुट्टियां काट दी गई हैं। 67 साल के इतिहास में पहली बार इन गर्मियों में पांच जजों वाली तीन बेंच नियमित रूप से हर दिन काम करेगी और राष्ट्रीय महत्व से जुड़े मुद्दों का निपटारा करने की कोशिश करेगी। इन तीन मामलों में से एक मुस्लिमों में होने वाले तीन तलाक, निकाह हलाला और बहुविवाह से संबंधित है। भारत के मुख्य न्यायाधीश जेएस खेहर ने गुरुवार को बताया कि उन्होंने तीन अलग संविधान खंडपीठ बनाई हैं जो गर्मी की छुट्टियों में मामले को देखेंगी। उन्होंने ...

सुप्रीम कोर्ट के 15 जजों को पहली बार नहीं मिलेगी गर्मी की छुट्टी, शनि और रविवार को भी करेंगे प्रमुख मामलों की सुनवाई - प्रभात खबर

नयी दिल्ली : इस साल गर्मी की छुट्टियों को लेकर पहली बार ऐसा हो रहा है कि देश की शीर्ष अदालत सुप्रीम कोर्ट के करीब 15 न्यायाधीशों को अवकाश नहीं दिया जायेगा. भारत के मुख्य न्यायाधीश न्यायमूर्ति जेएस केहर ने इन न्यायाधीशों से कहा कि उन्होंने तीन अलग संविधान खंडपीठ बनायी है, जो गर्मी की छुट्टियों में मामले को देखेंगी. उन्होंने कहा कि संविधान पीठ 11 मई से इन परंपराओं को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई करेगी. मुख्य न्यायाधीश जेएस केहर और न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने कहा कि कई लंबित मामले से भावनाएं जुड़ी हैं और पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ ...

पहली बार SC के 15 जजों की छुट्टियां कटी, करेंगे अहम मामलों की सुनवाई - Patrika

देश में लंबित पड़े अहम मामलो कों देखते हुए पहली बारउच्चतम न्यायालय के 15 जजों की गर्मियों की छुट्टियां काटी गई हैं। संवैधानिक महत्व से जुड़े तीन मामलों की सुनावाई के लिए प्रधान न्यायाधिश जेएस खेहर ने यह कदम उठाया है। इनमें से एक मामला तीन तलाक, निकाह हलाला और बहुविवाह से संबंधित है। नई दिल्ली। देश में लंबित पड़े अहम मामलो कों देखते हुए पहली बारउच्चतम न्यायालय के 15 जजों की गर्मियों की छुट्टियां काटी गई हैं। संवैधानिक महत्व से जुड़े तीन मामलों की सुनावाई के लिए प्रधान न्यायाधिश जेएस खेहर ने यह कदम उठाया है। इनमें से एक मामला तीन तलाक, निकाह हलाला और ...

तीन तलाक पर इंसाफ की आस में छलके आतिया के आंसू - दैनिक जागरण

सहारनपुर की आतिया का मसला कल सुप्रीम कोर्ट ने संविधान पीठ के हवाले कर दिया। अब मामले की सुनवाई 11 मई से शुरू होगी। सहारनपुर (जेएनएन)। तीन तलाक के मामले में खुलकर सामने आने वाली सहारनपुर की आतिया का मसला कल सुप्रीम कोर्ट ने संविधान पीठ के हवाले कर दिया। अब मामले की सुनवाई 11 मई से शुरू होगी। इस आदेश पर आतिया साबरी जज्बाती हो गई। इंसाफ की आस में उनकी आंखें भर आई। तीन तलाक का दंश झेल रही आतिया ने इस बाबत कोर्ट में याचिका दायर की थी। कल कोर्ट में सुनवाई थी, लेकिन तबीयत खराब होने की वजह से वह कोर्ट नहीं जा सकीं। यह भी पढ़ें: SC ने तीन तलाक का मसला संवैधानिक पीठ को ...

सुको के 15 जजों की गर्मी छुट्टी कटी, 11 मई से संविधान पीठ में होगी सुनवाई - पलपल इंडिया

नयी दिल्ली. पहली बार सुप्रीम कोर्ट के कम से कम 15 जजों की आगामी गर्मी की छुट्टियां काट दी गई हैं ताकि वह संवैधानिक महत्व से जुड़े तीन मामलों की सुनावाई कर सकें. इन तीन मामलों में से एक मुस्लिमों में होने वाले तीन तलाक, निकाह हलाला और बहुविवाह से संबंधित है. भारत के मुख्य न्यायाधीश जेएस खेहर ने गुरुवार को बताया कि उन्होंने तीन अलग संविधान खंडपीठ बनाई हैं जो गर्मी की छुट्टियों में मामले को देखेंगी. उन्होंने कहा कि संविधान पीठ 11 मई से इन परंपराओं को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई करेगी. सुप्रीम कोर्ट ने इस मसले पर 2015 में संज्ञान लिया था. कोर्ट ने कहा कि ...

तीन तलाक पर सुनवाई के लिए समर ब्रेक में भी खुलेगा सुप्रीम कोर्ट, जज 11 मई से लगातार करेंगे सुनवाई - Angwaal News

नई दिल्लीः तीन तलाक मामले की अहमियत को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला लिया है। चीफ जस्टिस जेएस खेहर के अनुसार इस बार सुप्रीम कोर्ट के 15 जज गर्मियों की छुट्टियों पर भी काम करेंगे और तीन तलाक मामले की सुनवाई करेंगे। इसके अलावा मुस्लिमों के व्यक्तिगत कानूनों के तहत बहुविवाह सहित संवैधानिक महत्व के तीन अन्य मामलों की भी सुनवाई इसी समर ब्रेक के दौरान होगा। इन सभी मामलों पर संविधान पीठ 11 मई से सुनवाई करेगी। 28 में से 15 जज करेंगे काम. इस बार के समर ब्रेक में काम करने के लिए 5-5 जजों वाली 3 संविधान पीठ बनाई गई हैं, जो इन मामलों की सुनवाई करेंगी। आमतौर पर ...

पहली बार सुप्रीम कोर्ट के 15 जजों की गर्मी छुट्टी कटी, सीजेआई ने अहम मामलों की सुनवाई करने को कहा - Jansatta

पहली बार सुप्रीम कोर्ट के कम से कम 15 जजों की आगामी गर्मी की छुट्टियां काट दी गई हैं ताकि वह संवैधानिक महत्व से जुड़े तीन मामलों की सुनावाई कर सकें। इन तीन मामलों में से एक मुस्लिमों में होने वाले तीन तलाक, निकाह हलाला और बहुविवाह से संबंधित है। भारत के मुख्य न्यायाधीश जेएस खेहर ने गुरुवार को बताया कि उन्होंने तीन अलग संविधान खंडपीठ बनाई हैं जो गर्मी की छुट्टियों में मामले को देखेंगी। उन्होंने कहा कि संविधान पीठ 11 मई से इन परंपराओं को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुनवाई करेगी। प्रधान न्यायाधीश जेएस खेहर और न्यायमूर्ति डीवाई चंद्रचूड़ की पीठ ने कहा कि कई ...

'तीन तलाक पर अब सुनवाई नहीं हुई तो फिर हो जाएगी देर..' SC के 15 जजों की छुट्टी कैंसिल - अमर उजाला

तीन तलाक और मुस्लिमों की व्यक्तिगत कानूनों के तहत बहुविवाह सहित संवैधानिक महत्व के तीन मामलों के लिए पहली बार 15 जज गर्मी की छुट्टियों में सुनवाई करेंगे। इन तीनों मामलों पर संविधान पीठ 11 मई से सुनवाई करेगी। Sponsored Links Sponsored Links · Promoted Links Promoted Links. You May Like. PrebioThrive Supplement · Warning: Don't Use Probiotics Before You See ThisPrebioThrive Supplement. Undo. EverQuote Insurance Quotes · Mountain View, California: This Brilliant Company Is Disrupting a $200 Billion IndustryEverQuote Insurance Quotes. Undo. by Taboola by Taboola. चीफ जस्टिस न्यायमूर्ति जेएस खेहर ने गुरुवार को बताया कि गर्मी की छुट्टियों में तीन ...

SC के 15 जजों को नहीं मिलेगा समर ब्रेक, ट्रिपल तलाक समेत 3 केस की सुनवाई - दैनिक भास्कर

ये पहली बार है कि समर ब्रेक में 15 जज किसी मामले की सुनवाई और फैसले की तैयारी करेंगे। (फाइल). नई दिल्ली. पहली बार सुप्रीम कोर्ट के 15 जजों को गर्मी की छुट्टियां नहीं मिलेंगी। इस दौरान ट्रिपल तलाक और मुस्लिम पर्सनल लॉ के तहत एक से ज्यादा शादियां समेत 3 अहम मामलों की सुनवाई होगी। चीफ जस्टिस जेएस खेहर ने गुरुवार को कहा कि उन्होंने समर ब्रेक के दौरान 3 बेंच को मंजूरी दे दी है। पहली बार इतने जजों की छुट्टियां कैंसल... - 'द इंडियन एक्सप्रेस' की खबर के मुताबिक, हर बार गर्मियों की छुट्टियों को दौरान 2 जजों की बेंच मामलों पर सुनवाई करती है। - ये पहली बार है कि समर ब्रेक में 15 जज ...

संविधान सम्मत - Patrika

अनेक मुस्लिम देशों में 'तीन तलाक' का चलन समाप्त हो चुका है तो भारत में क्यों नहीं? ऐेसे कई सवाल हैं जिनका जवाब दोनों पक्षों की तरफ से आना जरूरी है. तीन तलाक के मामले को संविधान पीठ के सुपुर्द कर सुप्रीम कोर्ट ने संविधान सम्मत काम किया है। मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के विरोध के बीच अनेक मुस्लिम महिला संगठन तथा तीन तलाक से पीडि़त महिलाएं विरोध में उतर आई हैं। सुप्रीम कोर्ट ने 11 मई से मामले की सुनवाई का फैसला किया है। मामला संवेदनशील है लिहाजा पांच सदस्यीय संविधान पीठ तमाम पहलुओं पर विचार करेगी। मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड समेत अनेक मुस्लिम संगठन धर्म से जुड़े ...

तीन तलाक सही या गलत, पांच सदस्यीय संविधान पीठ तय करेगी - Samay Live

सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ 11 मई से तीन तलाक पर सुनवाई करेगी. सभी संबंधित पक्षों से इस मामले में चार हफ्ते में जवाब दाखिल करने को कहा गया है. निकाह हलाला और बहुविवाह पर भी सुनवाई होगी. विभिन्न याचिकाओं के जरिए इन प्रथाओं को चुनौती दी गई है. चीफ जस्टिस जगदीश सिंह खेहर और जस्टिस धनंजय चंद्रचूड़ की बेंच ने कहा कि गर्मियों की छुट्टियों में संविधान पीठ मामले में सुनवाई करेगी. यह अहम मामला है और भावनाओं से जुड़ा है. केंद्र सरकार का तर्क : केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में दायर अर्जी में पूछा है कि एक ही बार में तीन तलाक (तलाके-बिद्दत), निकाह हलाला और बहुविवाह प्रथा ...

ट्रिपल तलाक को सुलझाने का यह सही वक्त, नहीं तो अटका रहेगा मामला - Patrika

ट्रिपल तलाक मामले पर सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक पीठ 11 मई से सुनवाई करेगी। गर्मी की छुट्टियों में पांच जजों की पीठ सुनवाई करेगी। कोर्ट ने कहा कि यह मसला गंभीर है और इसे टाला नहीं जा सकता. नई दिल्ली. ट्रिपल तलाक मामले पर सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक पीठ 11 मई से सुनवाई करेगी। गर्मी की छुट्टियों में पांच जजों की पीठ सुनवाई करेगी। कोर्ट ने कहा कि यह मसला गंभीर है और इसे टाला नहीं जा सकता। मुख्य न्यायाधीश जस्टिस खेहर ने कहा कि यही वक्त है कि मामले में सुनवाई पूरी की जाए। फिर कोई यह नहीं कह पाएगा कि मामले की जल्द सुनवाई हो, क्योंकि फिर बरसों तक यह मामला अटका रहेगा।