चमत्कार! 13 घंटे नदी की तेजधारा में बहती रही वृद्धा, 80 किमी दूर बचाया गया - दैनिक जागरण

ताप्ती चौधरी लगातार 80 किलोमीटर तक पानी के बहाव के साथ बहती चली गईं तब जाकर किसी की उन पर नजर पड़ी। कोलकाता[ब्यूरो]। तेज बारिश से नदी में आई बाढ़ और उसमें एक वृद्धा बह गई। किसी ने उम्मीद भी नहीं की थी कि उफनती नदी में 13 घंटे और 80 किमी दूर तक बहने के बाद भी वह वृद्धा जिंदा बच जाएगी। लेकिन यह चमत्कार सच में हुआ है। घटना प.बंगाल के पूर्व वर्द्धमान जिले की है, जहां 62 वर्षीय महिला ताप्ती चौधरी 13 घंटे तक उफान मारती दामोदर नदी की तेजधार के साथ करीब 80 किलोमीटर दूर तक बहती रही और बच गई। ताप्ती चौधरी लगातार 80 किलोमीटर तक पानी के बहाव के साथ बहती चली गईं तब जाकर किसी की उन पर ...

बंगालः 13 घंटे उनती नदी में बहती रही वृद्धा, 80 किमी दूर बचाया गया - Raftaar

तेज बारिश से नदी में आई बाढ़ और उसमें एक वृद्धा बह गई। किसी ने उम्मीद भी नहीं की थी कि उफनती नदी में 13 घंटे और 80 किमी दूर तक बहने के बाद भी वह वृद्धा जिंदा बच जाएगी। लेकिन यह चमत्कार सच में हुआ है। घटना पबंगाल के पूर्व वर्द्धमान जिले की है जहां 62 वर्षीय महिला ताप्ती चौधरी 13 घंटे तक उफान मारती दामोदर नदी की तेजधार के साथ करीब 80 किलोमीटर दूर तक बहती रही और बच गई। ताप्ती चौधरी लगातार 80 किलोमीटर तक पानी के बहाव के साथ बहती चली गईं तब जाकर किसी की उन पर नजर पड़ी।पूर्व वर्द्धमान जिले की रहने वाली ताप्ती आंगनबाड़ी कर्मी हैं। वह शनिवार शाम को दामोदर नदी के उफान को देखने ...

बंगालः 13 घंटे उफनती नदी में बहती रही वृद्धा, 80 किमी दूर बचाया गया - Nai Dunia

कोलकाता। तेज बारिश से नदी में आई बाढ़ और उसमें एक वृद्धा बह गई। किसी ने उम्मीद भी नहीं की थी कि उफनती नदी में 13 घंटे और 80 किमी दूर तक बहने के बाद भी वह वृद्धा जिंदा बच जाएगी। लेकिन यह चमत्कार सच में हुआ है। घटना प.बंगाल के पूर्व वर्द्धमान जिले की है, जहां 62 वर्षीय महिला ताप्ती चौधरी 13 घंटे तक उफान मारती दामोदर नदी की तेजधार के साथ करीब 80 किलोमीटर दूर तक बहती रही और बच गई। ताप्ती चौधरी लगातार 80 किलोमीटर तक पानी के बहाव के साथ बहती चली गईं तब जाकर किसी की उन पर नजर पड़ी। पूर्व वर्द्धमान जिले की रहने वाली ताप्ती आंगनबाड़ी कर्मी हैं। वह शनिवार शाम को दामोदर नदी के ...

उफनती नदी में लकड़ी के सहारे 13 घंटे 80 KM तैरी ये महिला, अब तक हुईं 30 मौतें - दैनिक भास्कर

62 साल की ताप्ती देवी कभी तैराक नहीं रही हैं, पर जिंदगी जीतने के लिए वह 13 घंटे तक नदी में तैरती रहीं। Replay. Prev; |; View Again. उफनती नदी में लकड़ी के सहारे 13 घंटे 80 KM तैरी ये महिला, अब तक. +1और स्लाइड देखें. 62 साल की ताप्ती देवी कभी तैराक नहीं रही हैं। पूर्वी बर्धमान.62 साल की ताप्ती देवी कभी तैराक नहीं रही हैं, पर जिंदगी जीतने के लिए वह 13 घंटे तक नदी में तैरती रहीं। घटना पश्चिम बंगाल के बाढ़ प्रभावित पूर्वी बर्धमान जिले की है। यहां उफनती दामोदर नदी में ताप्ती बह गईं थीं। इसके बाद वह जान बचाने के लिए 80 किलोमीटर तक तैरती रहीं। बाढ़ से अब तक यहां हो चुकी हैं 30 मौतें. हुगली ...

13 घंटे बाढ़ के पानी में तैरकर बची बुजुर्ग महिला - Jansatta

बाढ़ प्रभावित वर्धमान जिले में उफनती दामोदर नदी में 62 वर्षीय ताप्ती चौधरी ने 13 घंटे तक पानी में तैरते रहकर अपनी जान बचाई। Author जनसत्ता वर्धमान | August 1, 2017 04:30 am. 116. Shares. Facebook · Twitter · Google Plus · Whatsapp. असम में लगातार बारिश के बाद आई बाढ़ से लगभग 13,000 लोग प्रभावित हुए हैं। पश्चिम बंगाल बाढ़ प्रभावित वर्धमान जिले में उफनती दामोदर नदी में 62 वर्षीय ताप्ती चौधरी ने 13 घंटे तक पानी में तैरते रहकर अपनी जान बचाई। ताप्ती लगातार 80 किलोमीटर तक तैरती रहीं, तब जाकर किसी की उन पर नजर पड़ी।पूर्वी वर्धमान जिले के कालीबाजार की निवासी ताप्ती आंगनवाड़ी में कर्मचारी हैं।

चमत्‍कार! 13 घंटे तक नदी में बहती रही महिला, 80 किलोमीटर बाद निकाली गई जिंदा - Inext Live

बाढ़ के पानी से दुर्घटनावश गिर गई थीं दामोदर नदी में। लोग मान रहे करिश्‍मा। Related News. चमत्‍कार! 13 घंटे तक नदी में बहती रही महिला, 80 किलोमीटर बाद निकाली गई जिंदा · पीछे हटने के बाद फिर आगे बढ़ने लगी गंगा · पानी में डूबा आधा हिंदुस्‍तान, बारिश से चारों तरफ कोहराम · सड़क पर दिखने लगा आक्रोश · बाढ़ की चपेट में देश का नॉर्थ-ईस्ट हिस्सा, असम में 44 की मौत. KOLKATA - JNN): नदी की धारा में बही 62 वर्षीय बुजुर्ग महिला को 13 घंटे बाद सुरक्षित निकाला गया है। नदी की धारा में वह 80 किलोमीटर दूर तक बह गई थी। महिला की जिस तरह से जान बची है, लोग उसे किसी करिश्मे से कम नहीं मान रहे हैं।

नदी में 13 घंटे तक बहती रही बुजुर्ग, 80 किमी दूर बचाया गया - दैनिक जागरण

ताप्ती लगातार 80 किलोमीटर तक पानी के बहाव के साथ बहती चली गईं, तब जाकर किसी की उन पर नजर पड़ी। कोलकाता, जागरण न्यूज नेटवर्क। जाको राखे साइयां मार सके न कोय, यह कहावत एक बार फिर चरितार्थ हुई है। यह घटना पश्चिम बंगाल के पूर्व व‌र्द्धमान जिले की है, जहां 62 वर्षीय महिला ताप्ती चौधरी 13 घंटे तक उफान मारती दामोदर नदी की तेजधार के साथ करीब 80 किलोमीटर दूर तक बहती रही और बच गई। ताप्ती लगातार 80 किलोमीटर तक पानी के बहाव के साथ बहती चली गईं, तब जाकर किसी की उन पर नजर पड़ी। पूर्व व‌र्द्धमान जिले के कालीबाजार की रहने वाली ताप्ती आंगनबाड़ी कर्मी हैं। वह शनिवार शाम को कौतूहल के चलते ...

बंगाल में बाढ़ में बही 62 साल की बुजुर्ग ने 13 घंटे तैरकर बचाई जान - दैनिक भास्कर

ताप्ती चौधरी बाढ़ से उफनती दमोदर नदी को देखने गई थीं, लेकिन उसमें गिरकर बह गईं। Replay. Prev; |; View Again. बंगाल में बाढ़ में बही 62 साल की बुजुर्ग ने 13 घंटे तैरकर बचाई जान,. +1और स्लाइड देखें. पश्चिमी मिदनापुर जिले में कई इलाके बाढ़ में डूब गए हैं। बर्धमान. वेस्ट बंगाल के बर्धमान जिले में 62 साल की ताप्ती चौधरी बाढ़ के पानी में बहने के बाद 13 घंटे तैरकर अपनी जान बचाने में कामयाब रहीं। घटना दामोदर नदी में घटी। ताप्ती को घटना वाली जगह से करीब 80 किलोमीटर दूर रेस्क्यू करके निकाला गया। चीखीं, लेकिन मौके पर कोई नहीं था... - ईस्ट बर्धमान जिले के कालीबाजार की रहने वाली ताप्ती एक ...

बाढ़ में 13 घंटे डूबती-तैरती रही 61 साल की महिला, बची जान! - News18 इंडिया

61 साल की उम्र में आप कितनी देर तक तैर सकते हैं. इसका जवाब असल जिंदगी में देना बिल्कुल आसान नहीं. लेकिन पश्चिम बंगाल की बाढ़ में एक वृद्धा ने ऐसी मिसाल बनाई है कि कोई भी उसके जज्बे को सलाम करेगा. हालांकि भाग्य ने भी उसका पूरा साथ दिया इस महिला का नाम ताप्ति देवी चौधरी है. वो आंगनबाड़ी कार्यकर्ता हैं. पूर्वी बर्द्धमान जिले के कालीबाजार की रहने वाली हैं. दामोदर नदी की बाढ़ देखने गई थी ताप्ति दामोदर नदीं में आई बाढ़ देखने गईं थीं. इसी दौरान घाट पर उनका पैर फिसला. वह पानी में चली गई. बहाव तेज था. मदद के लिए आवाज दी तो बचाने के लिए कोई आसपास नहीं था. शाम होने के कारण ...