जब गिर के जंगल में 12 शेरों के बीच बच्चे ने रोते हुए दुनिया में कदम रखा... - NDTV Khabar

अहमदाबाद: गुजरात के गिर के जंगल में यहां बसने वाले शेरों के कारण पूरी दुनिया में मशहूर हैं. लेकिन आधी रात के बाद गिर के जंगल में कुछ ऐसा हुआ जैसा पहले कभी नहीं हुआ. जंगल में 12 शेरों के बीच एक बच्चे ने रोते हुए दुनिया में कदम रखा. मंगूबेन मकवाना कभी भी 29 जून की रात नहीं भूल सकेंगी. एक तो प्रसव पीड़ा ऊपर से शेरों की दहशत. अमरेली जिले के इस सुदूरवर्ती गांव में गिर के जंगलों के पास से आधी रात में जब वे एक एंबुलेंस से अस्पताल जा रही थीं तभी एंबुलेंस को 12 शेरों ने घेर लिया. वाहन आगे नहीं बढ़ सका लेकिन प्रसव पीड़ा बढ़ती गई. करीब 20 मिनट तक ऐसे ही हालात बने रहे. इस दौरान '108' ...

महिला ने बच्चे को दिया जन्म, 12 शेरों ने घेर रखा था ऐम्बुलेंस - नवभारत टाइम्स

मंगूबेन मकवाना अपनी जिंदगी में कभी भी 29 जून की रात नहीं भूलेंगी। मंगूबेन ने इस रात अमरेली जिले के सुदुरवर्ती गांव में एक ऐम्बुलेंस में जब बच्चे को जन्म दिया, तब उनकी ऐम्बुलेंस को 12 शेर घेरे हुए थे। दरअसल, यह इलाका गिर के जंगल के पास है। 20 मिनट तक तकरीबन ऐसे ही हालात बने रहे। ऐम्बुलेंस में तैनात अस्पताल कर्मचारियों ने बेहद साहस दिखाया और प्रसव प्रक्रिया में मकवाना की मदद की। जबकि इस बीच में तीन नर शेरों समेत 12 शेर गाडी का रास्ता रोके हुए थे। अमरेली में '108 ' के आपातकालीन प्रबंधन कार्याधिकारी चेतन गाढे ने बताया कि यह घटना गुरुवार आधीर रात के बाद 2.30 बजे की है। उन्होंने ...

जंगल के राजा की निगरानी में बच्चे का जन्म, दर्जनभर शेरों ने रोक लिया था रास्ता - अमर उजाला

क्या होगा... जब प्रसव पीड़ा से कराह रही किसी महिला को शेरों के झुंड के बीच बच्चे को जन्म देना पड़े। यह सोचकर ही मन सिहर जाता है। लेकिन गुजरात के अमरेली के जाफराबाद तालुका के लुंसापुर गांव की 32 साल की मधुबेन मकवाना को इस हालात से गुजरना पड़ा। उनके लिए 29 जून कभी न भूलने वाली तारीख होगी। गिर के जंगल में रात के 2.30 बजे 12 शेरों के झुंड से घिरी एक एंबुलेंस में मधुबेन ने एक बच्चे को जन्म दिया। उनकी डिलीवरी किसी डॉक्टर ने नहीं बल्कि एंबुलेंस के टेक्नीशियन ने कराई। दरअसल, प्रसव पीड़ा शुरू होने के बाद महिला के घरवालों ने 108 नंबर पर आपातकालीन एंबुलेंस सेवा के लिए फोन किया।

12 शेरों के झुंड के बीच महिला की कराई डिलेवरी - खास खबर

अहमदाबाद। गुजरात में आश्चर्यचकित कर देने वाली एक घटना सामने आई है। करीब 12 शेरों के झुंड के बीच एक महिला ने बच्चे को जन्म दिया है। महिला को अस्पताल ले जाने के दौरान एम्बुलेंस को शेरों के झुंड ने घेर लिया और एम्बुलेंस आगे नहीं जा सकी। इस दौरान प्रसव पीड़ा से तड़प रही महिला की डिलेवरी एम्बुलेंस में ही करानी पड़ी। अमरेली के जाफराबाद तालुका में लुंसापुर गांव में बुधवार रात प्रसव पीड़ा शुरू होने के बाद महिला के घरवालों ने 108 नंबर पर आपातकालीन एम्बुलेंस सेवा को फोन किया। एम्बुलेंस महिला को लेकर अस्पताल जा रही थी, लेकिन गांव से कुछ दूर आगे जाने पर एम्बुलेंस के सामने ...

गजब! यहां शेरों ने घेर लिया गर्भवती महिला को और फिर किया ये सब ...... - Hari Boomi (कटूपहास) (प्रेस विज्ञप्ति)

अमरेली के जाफराबाद तालुका में लुंसापुर गांव के पास एक प्रेगनेंट महिला को लेकर जा रही एंबुलेंस को शेरों के एक झुंड ने घेर लिया। दरअसल प्रसव पीड़ा शुरू होने के बाद महिला के घरवालों ने 108 नंबर पर आपातकालीन एंबुलेंस सेवा को फोन किया था। बुधवार रात महिला को लेकर एंबुलेंस अस्पताल के लिए निकली, लेकिन गांव से 3 करीब किलोमीटर की दूरी पर ही उसका सामना शेरों के एक झुंड से हो गया। इस झुंड के करीब 11-12 शेर सड़क पर ही थे और उन्होंने एंबुलेंस को घेर लिया। शेरों के झुंड ने घेरी एंबुलेंस. 108 आपातकालीन एंबुलेंस सेवा के प्रमुख चेतन गढ़िया ने बताया कि शेरों के गाड़ी घेरने लेने के ...

गुजरात में 7 शेरों की दहाड़ के बीच बच्चे का जन्म - inKhabar

अहमदाबाद : क्या आप विश्वास करेंगे कि शेरों के झूंड के बीच किसी बच्चे को जन्म हुआ हो. जी हां, ये कोई फिल्मी कहानी नहीं है, बल्कि हकीकत है. एक महिला ने शेरों की दहाड़ के बीच में अपने बच्चे को जन्म दिया है. मामला अमरेली जिले का है, जहां जाफराबाद के पास लुड़सापुर की महिला विलासवेंन हिम्मतभाई मकवाना नामक की महिला ने एक बच्चे को जन्म दिया है. बताया जा रहा है कि कल देर शाम उसे प्रसव पीड़ा हुई, तभी परिजनों ने 108 सेवा की एंबुलेंस बुलाई और नजदीकी अस्पताल जाफराबाद के लिए रवाना किया. मगर बारिश होने के कारण बीच सड़क पर शेर आ गये और एंबुलेंस का रास्ता रोक लिया. इधर महिला की ...

शेरों के झुंड के बीच महिला ने दिया बच्चे को जन्म : गुजरात - Bharat Khabar

नई दिल्ली। शेरों के झुंड के बीच एक महिला ने दिया एक बच्चे को जन्म,आपको लग रहा होगा की यह खबर फिल्मी स्टोरी की में से एक होगी लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं है। यह खबर कुछ लोगों को हैरत में डाल देगी यह पूरी घटना गुजरात की है जहां पर एक गर्भवती महिला को लेकर जा रही एंबुलेंस को शेरों के झुंड ने घेर लिया। 108 आपातकालीन ऐंबुलेंस सेवा के अमरेली जिले के प्रमुख चेतन गढ़िया ने कहा की ऐंबुलेंस को रोककर शेरों को हटाने की कोशिश करी गयी लेकिन शेरों ने रास्ता नहीं छोड़ा। ऐसे में ऐम्बुलेंस स्टाफ ने गाड़ी के भीतर ही प्रसव कराने का निर्णय लिया,और डॉक्टरों से फोन पर मिल रहे निर्देशों के ...

12 शेर सामने खड़े थे उसी वक्त महिला ने बच्चे को दिया जन्म - News Trend India (प्रेस विज्ञप्ति)

नई दिल्ली: शेर का नाम सुनकर अच्छे अच्छों की हालत खराब हो जाती है। और अगर सामने 12 खूंखार शेर खड़े हों तो सोच सकते हैं किसी इंसान की क्या हालत होगी। लेकिन गुजरात में एक ऐसी घटना हुई है जिसमें प्रसव पीड़ा से तड़पती महिला ने इन्हीं 12 शेरों के सामने बच्चे को जन्म दिया। ये घटना गुजरात में अमरेली के जाफराबाद तालुका में लुंसापुर गांव की है। इस गांव में महिला को जब प्रसव पीड़ा शुरु हुआ तो घरवालों ने 108 नंबर पर एंबलेस सेवा को फोन किया। एंबुलेंस आ भी गई। जिसके बाद महिला को एंबुलेंस में लेकर गांव से अस्पताल की तरफ निकला। लेकिन बीच रास्ते में एंबलेंस का आगे बढ़ना मुश्किल ...

12 शेरों के बीच महिला ने दिया बच्चे को जन्म - Oneindia Hindi

नई दिल्ली। शेरों के झुंड के बीच महिला ने दिया बच्चे को जन्म, ये कोई फिल्मी कहानी नहीं है बल्कि सच्ची घटना है। हैरत में डाल देने वाली ये घटना गुजरात की है जहां प्रेगनेंट महिला को लेकर जा रही एंबुलेंस को शेरों के झुंड ने घेर लिया। 12 शेरों के बीच महिला ने दिया बच्चे को जन्म. गुजरात के अमरेली के जाफराबाद तालुका के लुंसापुर गांव में बुधवार को घरवालों ने महिला को प्रसव पीड़ा शुरू होने के बाद 108 नंबर पर फोन मिलाया। जिसके बाद एंबुलेंस आई और महिला को अस्पताल के लिए लेकर जा रही थी। तभी रास्ते में गांव से करीब तीन किलोमीटर की दूरी पर एंबुलेंस को शेरों के झुंड ने घेर लिया।