महागठबंधन पर उठी उंगली, कांग्रेस ने किया इनकार - SpecialCoverageNews

आजमगढ़: कांग्रेस राष्ट्रीय सचिव राणा गोस्वामी का बड़ा बयान। उन्होंने यूपी में महागठबंधन से इनकार किया, कहा- कांग्रेस यूपी में अकेले चुनाव लड़ेगी, प्रशांत किशोर ने किससे क्या बात की ये उनका निजी मामला है। वहीं कांग्रेस वरिष्ठ उपाध्यक्ष राजेश मिश्रा ने कहा महागठबंधन मीडिया द्वारा छनकर आया, प्रशांत किशोर केवल चुनाव प्रचार के रणनीतिकार है। प्रशांत किशोर किससे मिले ये उनका निजी मामला है, प्रशांत किशोर हमारी पार्ट के नेता नहीं हैं, गठबंधन होता तो सिर्फ नेता बात करते। Loading.

अखिलेश से मिले प्रशांत, 150 सीटों पर चर्चा; पर यूपी कांग्रेस नेताओं को पता ही नहीं - दैनिक भास्कर

सूत्राें के मुताबिक, अखिलेश-प्रशांत की मीटिंग के बाद ये भी तय हुआ है कि अगली मीटिंग में सपा और कांग्रेस के कई बड़े नेता भी शामिल होंगे। (फाइल). लखनऊ. यूपी में महागठबंधन की संभावनाओं के बीच अखिलेश यादव और कांग्रेस स्‍ट्रैटजिस्‍ट प्रशांत किशोर के बीच 3 घंटे तक मीटिंग चली। बताया जा रहा है कि मीटिंग में गठबंधन और 150 सीटों को लेकर चर्चा हुई है। बैठक के बारे में प्रशांत ने फोन पर इतना ही कहा- ''मैं दिल्‍ली निकल चुका हूं।'' बता दें, इससे पहले अखिलेश ने प्रशांत किशोर को मीटिंग के लिए वक्त नहीं दिया था। ऐसे में, अब इस मीटिंग के बाद फिर से कयास लगने शुरू हो गए हैं कि कांग्रेस और ...

सपा-कांग्रेस गठबंधन चाहते हैं, तो कौन रोकेगा: अखिलेश - नवभारत टाइम्स

2017 विधानसभा चुनावों से पहले समाजवादी पार्टी और कांग्रेस में गठजोड़ की संभावनाएं बढ़ने लगी हैं। कांग्रेस के रणनीतिकार पीके और सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव की मुलाकात के बाद सीएम अखिलेश यादव ने भी इसके संकेत दिए। सीएम ने सोमवार को कहा कि अगर समाजवादी पार्टी और कांग्रेस गठबंधन चाहते हैं, तो कौन रोकेगा? हालांकि मुख्यमंत्री ने गठबंधन पर अपना रुख स्पष्ट करते हुए कहा कि इस पर वो अपनी बात पार्टी फोरम में रखेंगे। मुख्यमंत्री ने इससे पहले राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव से उनके आवास पर मुलाकात की। दोनों के बीच करीब एक घंटे तक बात चली। नफे-नुकसान का आकलन करने ...

अखिलेश से मिले प्रशांत किशोर, जल्द हो सकता है महागठबंधन! - पंजाब केसरी

लखनऊ: सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव के साथ मैराथन बैठक के एक दिन बाद कांग्रेस के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के साथ अकेले मुलाकात की। अटकलें हैं कि जनता परिवार से जुड़ी पार्टियों और कांग्रेस का महागठबंधन बनाया जाएगा ताकि भाजपा को सत्ता में आने से रोका जा सके। पीके ने अखिलेश से कई घंटे बातचीत की। समझा जाता है कि राज्य के अगले विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राजनीतिक हालात पर चर्चा हुई। उम्मीद है कि टिकट वितरण में मुख्यमंत्री की बात प्रमुखता से मानी जाएगी। ऐसे में पीके की उनसे बैठक महत्वपूर्ण मानी जा रही है। कौन जीतेगा और कौन ...

UP: महागठबंधन को लेकर दुविधा में अखिलेश, दिए गोलमटोल जवाब - इंडिलिंक्स

लखनऊ. 3 नवंबर को रथ यात्रा के दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव द्वारा गठबंधन की बात कहने के बाद से ही।उत्तर प्रदेश की राजनीति में कांग्रस और सपा के बीच गठबंधन को लेकर अटकलें तेज हो गई है। लेकिन आज अखिलेश ने गठबंधन के उन तमाम अटकलों पर यह कहते हुए विराम लगा दिया कि इसका फैसला नेताजी ( मुलायम ) करेंगे। गोल-मटोल बातें करते दिखे अखिलेश. वैसे तो अखिलेश ने इस महागठबंधन को लेकर कुछ भी खुल कर नहीं कहा, लेकिन इस मामले में वो गोल-मटोल बाते करते जरुर नजर आए। उनका कहना है कि महागठबंधन को लेकर पार्टी फोरम में चर्चा होना चाहिए। हालांकि अखिलेश ने कहा कि इस मामले में उनकी ...

पारिवारिक कलह और महत्वाकांक्षा के टकराव में बिखर गई समाजवादी पार्टी : पा के सामने ही डूब रही सपा! - Chauthi Duniya (प्रेस विज्ञप्ति)

paa मुलायम परिवार में महत्वाकांक्षा के टकराव ने समाजवादी पार्टी को तहस-नहस करके रख दिया. समाजवादी पार्टी का विभाजन तो हो चुका, तलवारें तो चल चुकीं, बस युद्ध की औपचारिक मुनादी नहीं हुई. समाजवादी पार्टी के रजत जयंती समारोह के बहिष्कार की औपचारिक घोषणा ने अखिलेश यादव और उनके समर्थकों के पार्टी से अलग होने की सनद पहले ही दे दी थी. फिर बाद के अप्रत्याशित और अनापेक्षित घटनाक्रम ने कसर पूरी कर दी. कुछ ही दिनों के अंतराल में सपा के राष्ट्र्रीय महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव तक पार्टी से निकाल दिए गए. उसके पहले एमएलसी उदयवीर सिंह निकाले गए थे. फिर मंच पर शिवपाल और अखिलेश ...

गठबंधन पर फैसला पार्टी अध्‍यक्ष मुलायम ही लेंगे : अखिलेश - KhabarFast News

लखनऊ : उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने लंबे समय से चल रही महागठबंधन की खबरों के बीच अखिलेश यादव ने अपना पक्ष रखा है। उन्‍होंने पार्टी के मुखिया मुलायम सिंह यादव के साथ करीब एक घंटे तक मुलाकात की। इसके बाद वो अखिलेश यादव परिवहन मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति के पिता के निधन पर शोक जताने उनके घर पर भी गए। उत्तर प्रदेश में सत्ता पर काबिज रहने की जुगत में लगी समाजवादी पार्टी को गठबंधन या फिर महागठबंधन से जरा भी परहेज नहीं है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी इस मामले में अपना नजरिया स्पष्ट कर दिया। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी के गठबंधन या फिर ...

सपा-कांग्रेस चाहेंगे तो कौन रोकेगा गठबंधन-अखिलेश - खास खबर

लखनऊ। सीएम अखिलेश यादव ने कहा है कि यदि समाजवादी पार्टी और कांग्रेस गठबंधन चाहते हैं तो कौन रोकेगा। उन्होंने कहा है कि गठबंधन पर जो भी बात करनी होगी, उसे पार्टी फोरम पर करेंगे। सपा के रजत जयंती समारोह पर प्रशांत किशोर और तमाम राजनीतिक दलों के नेताओं की मुलाकात हुई थी। इन नेताओं की मुलाकात सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव,अखिलेश यादव और शिवपाल यादव से भी हुई थी। सूबे के मुखिया अखिलेश यादव और सपा मुखिया मुलायम सिंह की 45 मिनट तक मीटिंग मुलायम सिंह के आवास पर सम्पन हुई है, मीटिंग के बाद सीएम अखिलेश अपने ही सरकार के परिवहन मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति से ...

कांग्रेस से प्रशांत किशोर की हो सकती है छुट्टी ! - Bihar Khoj Khabar (प्रेस विज्ञप्ति)

prashant-kishor प्रधानमंत्री मोदी के चुनाव रणनीतिकार के रूप में चर्चित रहे प्रशांत किशोर कांग्रेस के साथ रहेंगे या नहीं इस बात का फैसला आज हो सकता है। खबर के मुताबिक प्रशांत किशोर के साथ उत्तर प्रदेश और पंजाब के नेताओं की जम नहीं रही है। आज दिल्ली में कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक भी होनी है माना जा रहा है कि उसमें भी ये मामला उठ सकता है। कांग्रेसी सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस के रणनीतिकार प्रशांत किशोर पर छुट्टी की तलवार लटक रही है। बताया जा रहा है कि प्रशांत किशोर से उत्तरप्रदेश और पंजाब के नेता नाराज हैं और कांग्रेस प्रशांत किशोर को चुनाव प्रचार प्रभारी के पद से ...

कांग्रेस अध्यक्ष के तौर सोनिया गांधी का कार्यकाल एक साल के लिए बढ़ा - inKhabar

नई दिल्ली. कांग्रेस की कार्यसमिति की बैठक में आज कई फैसले लिए गए हैं जिसमें पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी के कार्यकाल को एक साल के लिए बढ़ा दिया गया है. इसके साथ ही इस बात की भी अटकले खत्म हो गई हैं कि राहुल गांधी को जल्द ही पार्टी की कमान सौंपी जाएगी. वहीं एक अफवाह इस बात की भी थी कि रणनीतिकार प्रशांत किशोर को यूपी चुनाव अभियान से हटाया जा सकता है. लेकिन सूत्रों के मुताबिक खबर आ रही है कि खुद राहुल गांधी ने देवरिया से दिल्ली की यात्रा के कार्यक्रम के लिए पीके की तारीफ की है मतलब साफ है कि यूपी सहित 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की रणनीतिकार ...

उत्तर प्रदेश: गठबंधन पर प्रशांत किशोर की सक्रियता को कंग्रेसियों ने दिखाया आइना - Catch हिन्दी

विधानसभा चुनावों के लिए नियुक्त किए गए कांग्रेस के रणनीतिकार देश की इस सबसे पुरानी पार्टी में टिक पाएंगे, अब ऐसा कहना मुश्किल हो रहा है. उनके ख़िलाफ उत्तर प्रदेश के कांग्रेसी नेताओं से लेकर पंजाब तक में नाराज़गी का असर साफ़ देखा जा सकता है. समाजवादी पार्टी के 25वें स्थापना दिवस समारोह के कुछ घंटे पहले यूपी के सीएम अखिलेश यादव कांग्रेस पार्टी के चुनाव रणनीतिकार प्रशांत किशोर से लखनऊ में एक फाइव स्टार होटल में मिले. इसके बाद कांग्रेस और सपा को लेकर अटकलें जोरों पर हैं कि वे यूपी के महत्वपूर्ण विधानसभा चुनावों से पहले बिहार जैसा महागठबंधन करने जा रहे हैं.

यूपी चुनाव: मुलायम से फिर मिले प्रशान्त किशोर, तेज हुई महागठबंधन की अटकलें - ABP News

लखनऊ: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले महागठबंधन की कवायद के बीच कांग्रेस के लिये काम कर रहे चुनावी रणनीतिकार प्रशान्त किशोर ने आज एसपी मुखिया मुलायम सिंह यादव से एक बार फिर मुलाकात करके हलचलें बढ़ा दी हैं. आज मुलायम से मिले प्रशान्त किशोर. प्रशान्त किशोर (पीके) से जुड़े करीबी सूत्रों ने बताया कि पीके ने आज एसपी सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव से मुलाकात की. दोनों के बीच लंबी बातचीत हुई. माना जा रहा है कि इस दौरान महागठबंधन बनाने पर बातचीत हुई. प्रशान्त किशोर की इस मुलाकात से प्रदेश में एसपी, उसके साथ गठबंधन के इच्छुक दलों जेडीयू, आरएलडी, आरजेडी और कांग्रेस का ...

जनता परिवार की भी उम्मीद बनें मुख्यमंत्री अखिलेश यादव - अमर उजाला

रजत जयंती मना रही समाजवादी पार्टी में बैनर-पोस्टर-होर्र्डिंग्स में चेहरे भले ही पुराने हों, लेकिन उसके नारे बदल गए हैं। लोकसभा चुनाव के दौरान 'मन से हैं मुलायम, इरादे लोहा हैं' नारे को पीछे छोड़ते हुए इस बार 'काम बोलता है देश-प्रदेश में अखिलेश का काम बोलता है' का नारा युवा सपाइयों के दिलो-दिमाग पर छाया हुआ है। दरअसल, सपा ही नहीं शनिवार को जुटे पुराने जनता परिवार के लिए भी सत्ता की उम्मीदों का केंद्र अखिलेश ही बन गए हैं। पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा से शरद यादव और लालू यादव से अजित सिंह तक, सभी ने अखिलेश और उनकी सरकार के कामकाज को लेकर जैसी तारीफें कीं, वह यही ...

महागठबंधन की पहल मजबूत हुई : मुलायम सिंह यादव को कमान देने पर सभी सहमत - एनडीटीवी खबर

लखनऊ: बिहार विधानसभा चुनाव से ऐन पहले हुई गलती को सुधारते हुए उत्तर प्रदेश में नई सियासी इबारत लिखने के लिए सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी (सपा) द्वारा आयोजित रजत जयंती समारोह रूपी 'मेगा पॉलिटिकल शो' में महागठबंधन की नींव पड़ती नजर आई. लगभग सभी समाजवादी तथा चरणसिंहवादी नेता एक बार फिर सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव को इस गठजोड़ की कमान देने पर रजामंद दिखे. उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश के साथ-साथ देश की सियासत में भी नई हलचल पैदा करने के मकसद से आयोजित इस समारोह में उपस्थित वरिष्ठ नेता वर्ष 2017 के प्रदेश विधानसभा चुनाव के साथ-साथ साल 2019 के लोकसभा ...

क्या खत्म होगा कांग्रेस और प्रशांत किशोर का साथ ! - ABP News

नई दिल्ली: क्या प्रशांत किशोर और कांग्रेस के बीच सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. ये सवाल इसलिए उठ रहा है क्योंकि कांग्रेस के कई बड़े नेता प्रशांत किशोर के काम करने के तरीके से खासे नाराज है. चर्चा है कि चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर और कांग्रेस पार्टी का साथ कभी भी खत्म हो सकता है. हालांकि कांग्रेस औऱ पीके यानि प्रशांत किशोर के करीबी सूत्र दोनों इस बात से इन्कार कर रहे हैं. प्रशांत किशोर को लेकर कांग्रेस में विरोध-सूत्र. दरअसल इन चर्चाओं की वजह कांग्रेस में प्रशांत किशोर को लेकर अंदर ही अंदर मुखर होता विरोध है. कांग्रेस के कई बड़े छोटे नेता शुरू से ही प्रशांत किशोर के ...

मुलायम के बाद अखिलेश से मिलकर क्या गुल खिला रहे हैं कांग्रेस के पीके - अमर उजाला

प्रदेश में भाजपा विरोधी महागठबंधन बनाने की कोशिशें परवान चढ़ती दिख रही हैं। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के साथ कांग्रेस के रणनीतिकार प्रशांत किशोर की सोमवार को पौने दो घंटे की बैठक के बाद ऐसे दावे किए जा रहे हैं। पीके ने अपना राजनीतिक आंकलन सीएम के समक्ष रखा। माना जाता है कि अखिलेश ने भी उनकी बातों में दिलचस्पी दिखाई । पीके से मिलने से पहले अखिलेश ने मुलायम सिंह से लंबी गुफ्तगू की थी। तर्क यह है कि मुलायम सिंह 2017 के चुनाव में भाजपा विरोधी वोटों का बिखराव रोकना चाहते हैं। कौमी एकता दल के विलय और रालोद के सकारात्मक संकेतों के बाद कांग्रेस के रणनीतिकार से ...

आलेख : बदहाल कांग्रेस की मुश्किल डगर - प्रदीप सिंह - Nai Dunia

पुरानी पीढ़ी नई पीढ़ी के लिए आसानी से जगह खाली नहीं करती। बात परिवार की हो तो भी। नब्बे साल की उम्र में एम. करुणानिधि कह रहे हैं कि अभी वह अपने पुत्र को पार्टी की बागडोर नहीं सौपेंगे। पंजाब में प्रकाश सिंह बादल के इशारे का सुखबीर बादल दस साल से इंतजार कर रहे हैं। मुलायम सिंह यादव ने दरियादिली दिखाई तो आज पछता भले ना रहे हों, पर हालात से बहुत प्रसन्न् तो नहीं ही हैं। देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस यथास्थिति से बाहर निकलने को तैयार नहीं लगती। पार्टी बढ़ने के बजाय दिनोंदिन घट रही है। सोनिया गांधी बेटे राहुल के लिए अध्यक्ष पद छोड़ने को आतुर हैं, पर राहुल तैयार नहीं ...

गठबंधन की कवायद आखिरी दौर में - Naya India

up लखनऊ। सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव और मुख्यमंत्री अखिलेश के बीच 45 मिनट की मुलाकात। इसके बाद कांग्रेस पार्टी के रणनीतिकार प्रशांत किशोर के साथ बैठक और फिर अखिलेश का अपने ही सरकार के परिवहन मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति से उनके घर मिलने जाना। राजधानी लखनऊ की ये तीन सियासी गतिविधियां यह साफ इशारा करती हैं कि उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले राज्य विधानसभा चुनाव से पहले प्रदेश में कोई बड़ा चुनावी महागठबंधन जल्द शक्ल ले सकता है। अब तक किसी गठबंधन से परहेज रखने वाले मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी आज इसे लेकर सकारात्मक संकेत दिया। पिछले दो दिन से ...

अखिलेश-पीके में लंबी गुफ्तगू से यूपी में बड़े सियासी समीकरण के संकेत - Sabguru News

लखनऊ। विधानसभा चुनाव के मद्देनजर उत्तर प्रदेश में बड़े राजनीतिक समीकरण के संकेत मिलने लगे हैं। प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और कांग्रेस के चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर के बीच सोमवार को करीब तीन घंटे लंबी गुफ्तगू हुई है। हालांकि अखिलेश और प्रशांत किशोर (पीके) के बीच हुई इस मैराथन बैठक किस मुद्दे को लेकर थी, इसका कोई आधिकारिक बयान अभी नहीं आया है, लेकिन इस गुफ्तगू के बाद राजधानी में सियासी अटकलें तेज हो गयी हैं। गौरतलब है कि प्रशान्त किशोर सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव से भी हाल ही में दो बार लम्बी बैठक कर चुके हैं। सूत्रों का कहना है कि ये बैठकें चुनाव ...