सुर्खियां

रमजान में विधायक ने की 24 घंटे बिजली आपूर्ति की मांग - दैनिक जागरण;

रमजान में विधायक ने की 24 घंटे बिजली आपूर्ति की मांग - दैनिक जागरण

दैनिक जागरणरमजान में विधायक ने की 24 घंटे बिजली आपूर्ति की मांगदैनिक जागरणकिशनगंज । कोचाधामन विधायक मुजाहिद आलम ने रमजान में 24 घंटे बिजली आपूर्ति की मांग किए। जिला पदाधिकार. किशनगंज । कोचाधामन विधायक मुजाहिद आलम ने रमजान में 24 घंटे बिजली आपूर्ति की मांग किए। जिला पदाधिकारी सहित कार्यपालक अभियंता, विद्युत आपूर्ति प्रमंडल, किशनगंज को ज्ञापांक सौंपा। माननीय मुख्यमंत्री, बिहार सरकार पटना को और प्रधान सचिव, विद्युत विभाग बिहार सरकार, पटना को पत्रचार किए। 27 मई 2017 से मुसलमानों का महत्वपूर्ण पर्व रमजान शुरू हो रहा है, जो एक माह तक चलेगा।रमजान पर्व के दौरान रोजेदार रात भर इफ्तार, तरावीह, सेहरी का एहतमाम करते हैं। किशनगंज जिला ...और अधिक »

विधायक ने की बिजली कटौती नहीं करने की मांग - दैनिक जागरण;

विधायक ने की बिजली कटौती नहीं करने की मांग - दैनिक जागरण

दैनिक जागरणविधायक ने की बिजली कटौती नहीं करने की मांगदैनिक जागरणकिशनगंज। स्थानीय कांग्रेस विधायक सह विधानसभा सचेतक डॉ. मो. जावेद आजाद ने शनिवार को रमजानु. किशनगंज। स्थानीय कांग्रेस विधायक सह विधानसभा सचेतक डॉ. मो. जावेद आजाद ने शनिवार को रमजानुल मुबारक के महीना में शाम छह बजे से रात 11 बजे तक तथा रात एक बजे से सुबह पांच बजे तक पूरे जिले में बिजली की कटौती नहीं किए जाने को लेकर एक पत्र लिख जिलाधिकारी पंकज दीक्षित को ध्यानाकृष्ट कराया है। ताकि रोजेदारों को इफ्तार, सेहरी व रात को इबादत करने में सहूलियत हो सके। मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर ...और अधिक »

रमजान रूहानी और जिस्मानी तौर पर खुद को पाक करने का है, महीना - पलपल इंडिया;

रमजान रूहानी और जिस्मानी तौर पर खुद को पाक करने का है, महीना - पलपल इंडिया

पलपल इंडियारमजान रूहानी और जिस्मानी तौर पर खुद को पाक करने का है, महीनापलपल इंडियाइस्लाम में रमजान को रूहानी और जिस्मानी रूप से शुद्ध होने का महीना माना जाता है. इससे आप संयम और अनुशासन भी सीखते हैं. चलिए जानते हैं रमजान के बारे में कुछ अहम बातें. इस्लामी कैलेंडर का नौवां महीने रमजान है जिसे अरबी भाषा में रमादान कहते हैं. यह दुनिया भर के मुसलमानों के लिए सबसे पवित्र महीना है. इसे सब्र यानी संयम को मजबूत करने और बुरी आदतों को छोड़ने का जरिया भी माना जाता है. लूनर कैलेंडर के अनुसार नौवें महीने यानी रमजान को 610 ईसवी में पैगंबर मोहम्मद पर कुरान प्रकट होने के बाद मुसलमानों के लिए पवित्र घोषित किया गया था. तभी से दुनिया भर के मुसलमान पहली बार ...और अधिक »