हाईकोर्ट ने कहा, गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित कराए राज्य सरकार - दैनिक जागरण

हाईकोर्ट के जज महेश चन्द्र शर्मा ने अपने फैसले में कहा कि केन्द्र सरकार से गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित कराने में राज्य सरकार प्रयास करे। जयपुर, जागरण संवाददाता। पशुओं की खरीद-फरोख्त के बारे में केन्द्र सरकार के नए नोटिफिकेशन पर मद्रास हाईकोर्ट द्वारा लगाई गई चार सप्ताह की रोक के बाद राजस्थान हाईकोर्ट ने एक बड़ा फैसला सुनाया है। राजस्थान हाईकोर्ट के जज महेश चन्द्र शर्मा ने बुधवार को अपनी सेवानिवृति से पूर्व प्रदेश की बहुचर्चित हिंगोनिया गौशाला मामले में सुनवाई की। जज शर्मा ने अपने फैसले में कहा कि केन्द्र सरकार से गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित कराने में राज्य सरकार ...

जज ने कहा- गाय को राष्‍ट्रीय पशु घोषित करें - Daily Hindi News

जोधपुर (डेली हिंदी न्‍यूज़)। राजस्थान हाई कोर्ट के जज ने बुधवार को केंद्र और राज्य सरकार से गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने को कहा है। साथ ही उन्होंने कहा कि गाय को मारने वालों (गौवध) के लिए आजीवन कारावास की सजा सुनिश्चित की जानी चाहिए। कोर्ट ने गौवध पर 10 साल के कारावास की सजा को बढ़ाकर उम्रकैद करने का सुझाव दिया है। justice-sharma जज ने हिंगोनिया गौशाला मामले पर फैसला सुनाते हुए सरकार को यह सुझाव दिए। दरअसल, जयपुर के पास स्थित हिंगोनिया गोशाला के लचर प्रबंधन के खिलाफ एक याचिका दायर की गई थी। उसमें इस गौशाला की दुर्दशा पर सवाल उठाए गए थे। जस्टिस शर्मा की ओर से यह ...

राजस्थान उच्च न्यायालय ने दी सलाह…..गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित कराने का प्रयास किया जाये - ROYAL BULLETIN

जयपुर। राजस्थान उच्च न्यायालय के न्यायाधीश महेश चन्द्र शर्मा ने गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने के लिए राज्य सरकार से प्रयास करने के साथ गौ हत्यारों को आजीवन कारावास की सजा का प्रावधान करने की सिफारिश की है। जागो जनता सोसायटी की ओर से इस संबंध में दायर याचिका पर निर्णय देते हुए न्यायाधीश ने कहा है कि गाय को संविधान की धारा 48 एवं 51 ए (जी) के अन्तर्गत विधिक संरक्षण मिला हुआ है, जिससे यह अपेक्षा की जाती है कि गाय को यह अधिकार मिलना चाहिये। अदालत ने मुख्य सचिव एवं महाधिवक्ता को गाय का विधिक संरक्षक भी नियुक्त किया है। न्यायाधीश ने कहा है कि ये दोनों ...

मोर सेक्स नहीं करता-जस्टिस शर्मा - Chhattisgarh Khabar

नई दिल्ली | संवाददाता: राजस्थान हाईकोर्ट के जस्टिस महेश चंद्र शर्मा मोर के सेक्स संबंधी अपने बयान को लेकर सोशल मीडिया में ट्रेंड कर रहे हैं.अपनी सेवानिवृत्ति वाले दिन शर्मा ने जो फैसला दिया, उसकी तो चर्चा हो ही रही है, इसके अलावा मोर के सेक्स नहीं करने संबंधी उनके बयान पर भी मीडिया में चुटकियां ली जा रही हैं. बुधवार को राजस्थान हाई कोर्ट के जस्टिस महेश चंद्र शर्मा ने एक फैसले में कहा था कि गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए और गोहत्या करने वालों को आजीवन कारावास की सजा का प्रावधान किया जाना चाहिए. शर्मा ने यह फैसला उस दिन दिया, जब वे रिटायर हो रहे थे.

मोर ब्रह्मचारी है, इसलिए बनाया गया राष्ट्रीय पक्षी: जस्टिस शर्मा - Quint Hindi

गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने का सुझाव देने वाले राजस्थान हाईकोर्ट के जज महेश चंद्र शर्मा ने अब मोर पर एक अजीब सा बयान दिया है. उन्होंने कहा कि मोर को इसलिए राष्ट्रीय पक्षी बनाया गया, क्योंकि वो ब्रह्मचारी है. पत्रकारों से बातचीत के दौरान शर्मा ने कहा: मोर आजीवन ब्रह्मचारी है. वो कभी भी मोरनी के साथ सेक्स नहीं करता. उसके जो आंसू आते हैं, मोरनी उसे चुगकर गर्भवती होती है और मोर या मोरनी को जन्म देती है. मोर पंख को भगवान कृष्ण सिर पर रखते हैं, साधु संत भी इसका इस्तेमाल करते हैं. ठीक इसी तरह गाय के अंदर भी इतने गुण हैं कि उसे राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए.

हाई कोर्ट के जज ने कहा- मोर सेक्स नहीं करता, इसीलिए है राष्ट्रीय पक्षी - आज तक

देश में गोहत्या को लेकर जारी बहस के बीच राजस्थान हाई कोर्ट ने अहम सिफारिश की है. राजस्थान हाई कोर्ट के जस्टिस महेश चंद्र शर्मा ने एक फैसले में कहा कि गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए और गोहत्या करने वालों को आजीवन कारावास की सजा का प्रावधान किया जाना चाहिए. उनके इस फैसले की देश भर में चर्चा हो रही है. जस्टिस महेश चंद्र शर्मा आज ही रिटायर भी हो गए हैं. उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा- 'हमने मोर को राष्ट्रीय पक्षी क्यों घोषित किया. इसलिए क्योंकि मोर आजीवन ब्रह्मचारी रहता है. इसके जो आंसू आते हैं, मोरनी उसे चुग कर गर्भवती होती है. मोर कभी भी मोरनी के ...

गाय के बाद जज साहब बोले 'मोर', कहा- ब्रह्मचारी होने के कारण बनाया गया राष्ट्रीय पक्षी - Outlook Publishing (पंजीकरण)

“गाय को राष्ट्रीय पशु बनाने के बयान से चर्चा में आए राजस्थान हाईकोर्ट के जज महेश चंद्र शर्मा ने अब कहा कि मोर को इसलिए राष्ट्रीय पक्षी घोषित किया गया, क्योंकि वह ब्रह्मचारी होता है। बिना मैथुन क्रिया के ही मोर आपने आंसुओं से मोरनी को गर्भवती कर देता है। ” सीएनएन न्यूज18 ने दावा किया है कि राजस्थान हाईकोर्ट के जज महेश चंद्र शर्मा ने एक साक्षात्कार में यह बात कही है। शर्मा ने कहा है, “मोर ब्रह्मचारी पक्षी है! मोर मादा मोर के साथ कभी सेक्स नहीं करता है. मोरनी तो मोर के आंसू पीकर ही गर्भवती होती है।” Advertisement ...

राजस्थान हाई कोर्ट की सिफ़ारिश, गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाए ; जज ने फ़ैसले को बताया 'आत्मा की आवाज़' - Zee News हिन्दी

हाईकोर्ट ने सलाह दी है कि गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित कर दिया जाए और इसकी हत्या के लिए आजीवन कारावास की सजा हो. (तस्वीर के लिए साभार एएनआई). जयपुर: राजस्थान उच्च न्यायालय ने बुधवार (31 मई) को राज्य सरकार को निर्देश दिया कि वह केंद्र सरकार के साथ समन्वय में गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने के लिये आवश्यक कदम उठाये. न्यायमूर्ति महेश चंद शर्मा की एकल पीठ ने राज्य के मुख्य सचिव और महाधिवक्ता को गाय का कानूनी संरक्षक भी नियुक्त किया. आज (बुधवार, 31 मई) ही सेवानिवृत्त हो रहे न्यायधीश ने फैसला सुनाने के बाद कहा कि इस मामले पर उनका फैसला 'आत्मा की आवाज' है और 'गौ हत्या से ...

र‍िटायर होने से पहले जज ने कहा- गाय को राष्‍ट्रीय पशु घोषित करें, ऑर्डर में ग‍िनाए गोमूत्र के 11 फायदे - Jansatta

Declare cow as national animal: दरअसल, जयपुर के पास स्थित हिंगोनिया गोशाला के लचर प्रबंधन के खिलाफ एक याचिका दायर की गई थी। उसमें इस गौशाला की दुर्दशा पर सवाल उठाए गए थे। जस्टिस शर्मा की ओर से यह सुझाव रिटायर होने से पहले दिए गए। Author जनसत्ता ऑनलाइन जोधपुर | May 31, 2017 22:11 pm. 1.5K. Shares. Facebook · Twitter · Google Plus · Whatsapp. राजस्थान हाई कोर्ट ने गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने का सुझाव दिया। (प्रतीकात्मक तस्वीर). राजस्थान हाई कोर्ट के जज ने बुधवार को केंद्र और राज्य सरकार से गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने को कहा है। साथ ही उन्होंने कहा कि गाय को मारने वालों (गौवध) के लिए ...

अदालत नेे हिंगोनिया गौशाला मामले की सुनवाई के दौरान यह निर्देश दिया। पिछले साल जयपुर की सरकारी गौशाला में सौ से ज्यादा गायों की मौत हो गयी थी। - नवभारत टाइम्स

Hindi News »; india »; the court gave this direction during the hearing of the hingonia gaushala case. last year more than 100 cows died in the official cowshed in jaipur. अदालत नेे हिंगोनिया गौशाला मामले की सुनवाई के दौरान यह निर्देश दिया। पिछले साल जयपुर की सरकारी गौशाला में सौ से ज्यादा गायों की मौत हो गयी थी। (यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।) भाषा | Updated: May 31, 2017, 09:10PM IST. और जानें: EU | Chicago. पीठ ने किसी भी शख्स या लोगों के समूह को गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने के लिये अदालत में जनहित याचिका दायर करने की स्वतंत्रता भी दी है।

गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने का सुझाव देने वाले जज ने कहा- मोर कभी सेक्स नहीं करता - एनडीटीवी खबर

जस्टिस महेश चंद्र शर्मा ने कहा कि मोर ब्रह्मचारी है, इसलिए भगवान कृष्ण अपने सिर पर मोरपंख लगाते हैं. हर्षा कुमारी सिंह की रिपोर्ट, सुनील कुमार सिरीज द्वारा संपादित, अंतिम अपडेट: बुधवार मई 31, 2017 09:06 PM IST. ईमेल करें. टिप्पणियां. गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने का सुझाव देने वाले जज ने कहा- मोर कभी. राजस्थान हाईकोर्ट के जज महेश चंद्र शर्मा ने गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने का सुझाव दिया. खास बातें. जस्टिस महेश चंद्र शर्मा ने कहा- मोर आजीवन ब्रह्मचारी होता है; 'मोर के आंसू चुगकर गर्भवती होती है मोरनी'; 'गाय के अंदर भी कई सारे दिव्य गुण हैं'. जयपुर: राजस्थान हाईकोर्ट के ...

क्या मोदी मानेंगे अदालत की बात, हाईकोर्ट बोला गाय को राष्ट्रीय पशु बनाओ… - janman tv

बहुचर्चित हिंगोनिया गौशाला के मामले में सुनवाई करते हुए राजस्थान हाईकोर्ट ने एक अहम बात कही है. राजस्थान हाईकोर्ट ने कहा है कि सरकार गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित कराए. इतना ही नहीं, राजस्थान हाईकोर्ट ने गोकसी करने वालों पर शिकंजा कसने के लिए उनकी सजा को और अधिक कड़ा बनाने की बात भी कही है. हाईकोर्ट ने कहा है कि गोकसी करने वालों को आजीवन कारावास की सजा दिए जाने के प्रावधान को सरकार को कानून में शामिल करवाना चाहिए. 7 साल से चल रहा है केस. Advertisement. हिंगोनिया गौशाला का मामला कोर्ट में पिछले 7 सालों से चल रहा है. अब 7 साल बात राजस्थान हाईकोर्ट ने इस मामले में ...

राजस्थान हाइकोर्ट के जज बोले, मोर आजीवन रहता है ब्रह्मचारी इसीलिए राष्ट्रीय पक्षी - Oneindia Hindi

नई दिल्ली। एक सुनवाई के दौरान गाय को राष्ट्रीय पशु बनाए जाने का सुझाव देने वाले राजस्थान हाई कोर्ट के जज महेश चंद्र शर्मा ने गाय और मोर को लेकर बताया है कि मोर राष्ट्रीय पक्षी क्यों है और गाय को क्यों राष्ट्रीय पशु क्यों बनाना चाहिए। क्यों बनना चाहिए गाय को राष्ट्रीय पशु. Related Videos · IPL 2017: RCB vs GL ,सुरेश रैना की टीम में शामिल हुआ अंजान खिलाड़ी 02:28 · IPL 2017: RCB vs GL ,सुरेश रैना की टीम में शामिल हुआ अंजान खिलाड़ी · आईपीएल टीमों द्वारा बनाये गये 5 सबसे छोटे स्कोर 01:42 · आईपीएल टीमों द्वारा बनाये गये 5 सबसे छोटे स्कोर · तीन तलाक से मुक्ति पाने के लिए मुस्लिम ...

गाय को राष्ट्रीय पशु बनाने का फैसला देने वाले जज की मोर के बारे में चौंकाने वाली राय - Firstpost Hindi

राजस्थान हाई कोर्ट के जज महेश चंद्र शर्मा ने एक जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए बुधवार को सरकार से गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने का आग्रह किया है. जज ने अपने फैसले में कहा है कि गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए. कोर्ट ने गोवंश की हत्या पर सजा को बढ़ाकर आजीवन कैद किए जाने की बात भी कही है. राजस्थान कोर्ट ने ये बातें एक जनहित याचिका की सुनवाई के दौरान कही है. गाय की सुरक्षा को लेकर याचिका दाखिल की गई थी. जिस पर कोर्ट में सुनवाई चल रही थी. क्या है जज साहब के अंतरात्मा की आवाज? फैसले के बाद सीएनएन-न्यूज18 से बात करते हुए जज ने कहा कि उन्होंने यह फैसला हिंदू ...

Detail: गाय को राष्ट्रीय पशु बनाने में सरकार को हो सकती है ये दिक्कत! - ABP News

नई दिल्ली: केरल में कैमरे पर गाय काटने के बड़े कांड के बीच राजस्थान हाईकोर्ट ने सरकार ने ऐसा सुझाव दे दिया है जिसने गोरक्षकों का दिल बाग बाग कर दिया है. राजस्थान हाईकोर्ट में राजस्थान की हिंगोनिया गोशाला से जुड़े मामले की सुनवाई करते हुए सरकार को सुझाव दे दिया कि गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित कर देना चाहिए. इतना ही नहीं कोर्ट ने कहा है कि जो गोवध करे उसकी सजा उम्रकैद कर देनी चाहिए. हाईकोर्ट के सामने जागो जनता सोसायटी की याचिका आई थी जिसने हिंनगोनिया गोशाला में गायों की मौत को लेकर कोर्ट का दरवाजा खड़खटाया था. राजस्थान हाई कोर्ट के जज जस्टिस महेश चंद्र ...

राजस्थान हाईकोर्ट के जज बोले- मोर ब्रह्मचारी है, इसलिए बनाया गया राष्ट्रीय पक्षी - News18 इंडिया

गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने का सुझाव देने वाले राजस्थान हाईकोर्ट के जज महेश चंद्र शर्मा ने अब मोर पर अजीब बयान दिया है. उन्होंने कहा कि मोर को इसलिए राष्ट्रीय पक्षी बनाया गया, क्योंकि वह (मोर) ब्रह्मचारी है. जस्टिस महेश चंद्र शर्मा ने सीएनएन-न्यूज18 को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में कहा, 'मोर ब्रह्मचारी पक्षी है और वह मादा मोर के साथ कभी सेक्स नहीं करता है. मोरनी तो मोर के आंसू पीकर गर्भवती होती है. यहां तक कि भगवान श्रीकृष्ण भी अपने सिर पर मोर का पंख लगाते थे.' इससे पहले बुधवार को जस्टिस शर्मा ने सुझाव दिया कि गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए. उन्होंने ...

राजस्थान HC के जज ने गाय की तरह मोर को भी बताया पवित्र, कहा- मोर के आंसू पीकर मोरनी होती है गर्भवती - India.com हिंदी

जयपुर। राजस्थान हाई कोर्ट के जज महेश चंद्र शर्मा ने गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने के लिए केंद्र सरकार से अनुशंसा की है. बुधवार को मीडिया से बात करते हुए अपने इस फैसले को उन्होंने अंतरात्मा की आवाज बताया. जस्टिस शर्मा आज ही रिटायर हो गए और संभवतः यह उनका आखिरी फैसला है. उन्होंने कहा कि नेपाल एक हिंदू राष्ट्र है और उसने गाय को अपना राष्ट्रीय पशु घोषित किया है. भारत सरकार से भी उम्मीद है कि वह गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करे. उन्होंने तमाम वेदों का हवाला देते हुए कहा कि गाय में दैवीय गुण होते हैं. मोरनी आंसू पीने से होती है गर्भवती. जस्टिस शर्मा ने कहा कि भारत का ...

राजस्थान हाईकोर्ट के जज बोले- मोर सेक्स नहीं करता इसलिए राष्ट्रीय पक्षी - अमर उजाला

गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करवाने का सुझाव देने वाले राजस्थान हाई कोर्ट के जज महेश चंद्रा शर्मा ने अपने इस सुझाव के पीछे तर्क दिया है। बुधवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान शर्मा ने कहा- 'जो मोर है, ये आजीवन ब्रह्मचारी है। वह कभी भी मोरनी के साथ सेक्स नहीं करता। इसके जो आंसू आते हैं, मोरनी उसे चुगकर गर्भवती होती है। मोर या मोरनी को जन्म देती है।' उन्होंने कहा 'गाय के अंदर कई सारे गुण हैं जिनको देखते हुए राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए।' एक और उदाहरण देते हुआ शर्मा ने कहा कि 'नेपाल एक हिंदू राष्ट्र है जिसने गाय को अपना राष्ट्रीय पशु घोषित किया है। उम्मीद है हमारे ...

गाय हो राष्ट्रीय पशु, गौवध पर उम्रकैद- राजस्थान हाईकोर्ट - लल्लूराम न्यूज़

जयपुर। देश में गौवध को लेकर रार मचा हुआ है. उसी बीच राजस्थान हाईकोर्ट ने सरकार से गौवध पर रोक लगाने के साथ ही गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित किए जाने का सुझाव दिया है. इसके साथ ही न्यायालय ने गौवध पर सजा को बढ़ाकर उम्र कैद किए जाने का भी सुझाव दिया है. दरअसल कोर्ट ने हिंगोनिया गौशाला मामले पर फैसला सुनाते हुए सरकार को यह सुझाव दिया है. जयपुर के पास स्थित हिंगोनिया गोशाला के लचर प्रबंधन के खिलाफ एक याचिका दायर की गई थी. उसमें इस गोशाला की दुर्दशा पर सवाल उठाए गए थे. वहां के कुप्रबंधन के खिलाफ की गई याचिका पर कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए यह टिप्‍पणियां की. राजस्थान ...

राजस्थानHC ने कहा-राष्ट्रीय पशु घोषित हो गाय, केरल HC ने कहा-पशुवध बैन नहीं - खास खबर

नई दिल्ली। जयपुर में राजस्थान हाईकोर्ट ने केन्द्र सरकार से गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने की सिफारिश की है। साथ ही कानूनों में बदलाव कर गोहत्या के मामले में आजीवन कारावास की सजा की सिफारिश की है। दूसरी ओर मवेशियों के वध से संबंधित केंद्र सरकार के नए नियम पर केरल हाईकोर्ट ने हस्तक्षेप करने से इनकार कर दिया है। दरअसल राजस्थान हाईकोर्ट में हिंगोनिया गौशाला में गायों की मौतों के मामले में सुनवाई चल रही थी। कोर्ट ने मामले की सुनवाई करते हुए अफसरों को गौशालाओं पर हर तीन माह पर रिपोर्ट तैयार करने के निर्देश दिए। साथ ही हाईकोर्ट ने अफसरों को हर माह गौशालाओं का ...