शहर के सभी मुख्य चौराहों के बाद अब एंट्री प्वाइंट्स पर भी होगी तीसरी आंख की नजर - दैनिक भास्कर

कहतेहैं कि इंसान समाज के लिए कुछ अच्छा करने का ठान ले, तो कुछ भी असंभव नहीं है। नवांशहर के एसएचओ सिटी ने भी कुछ ऐसा ही करके दिखाया है। नवांशहर पंजाब का ही नहीं शायद देश का पहले ऐसा जिला मुख्यालय होगा, जो बिना सरकारी मदद के एक पुलिस अफसर की कोशिशों से इलेक्ट्रानिक सर्विलांस पर गया है। ऐसा नहीं कि ये एक बार में ही संभव हो गया। उन्होंने पहले भी दो बार नवांशहर को इलेक्ट्रानिक सर्विलांस पर लाने की कोशिश की, लेकिन उनकी बदली होती, तो पूरा सिस्टम चौपट हो जाता। वह फिर जीरो से काम पर जुट जाते। एक साल पहले शहर में 50 जगहों पर करीब 85 कैमरे लगे, तो आईजी इनका उद्घाटन करने आए।

शहर में लगे सीसीटीवी कैमरे हुए बीमार - दैनिक जागरण

जिला पुलिस ने आपराधिक वारदातों पर अंकुश लगाने के लिए शहर के प्रमुख बाजारों, चौक-चौराहों आदि पर व्यापारियों की मदद से सीसीटीवी कैमरे लगवाए हैं। पैसे तो पुलिस ने जैसे तैसे व्यापारी वर्ग से खर्च करवा दिए हैं, लेकिन उन कैमरों की मेंटीनेंस व समय-समय पर उनकी निगरानी बारे कोई ठोस कदम न उठाए जाने के चलते अधिकांश जगहों पर कैमरों ने काम करना बंद कर दिया है। इसके चलते शहर में लूटपाट और छीना झपटी करने वालों के हौसले बुलंद हो गए हैं। बता दें कि फाजिल्का पुलिस ने पुलिस-पब्लिक पार्टनरशिप में शहर के प्रमुख बाजारों व चौक-चौराहों पर क्लोज सर्किट टीवी कैमरे लगवाए थे। व्यापारी वर्ग ...