अदालत ने फ्रांसीसी वाणिज्य दूतावास के निलंबित अधिकारी को बलात्कार के आरोप से बरी किया - नवभारत टाइम्स

बेंगलुरू, आठ अप्रैल :: शहर की एक अदालत ने आज यहां फ्रांसीसी वाणिज्य दूतावास के एक निलंबित अधिकारी को अपनी नाबालिग बेटी के साथ बलात्कार के आरोप से बरी करते हुए कहा कि उन्हें गलत तरीके से फंसाया गया और वह निर्दोष है। विशेष अदालत के न्यायाधीश बी एस रेखा ने कहा कि ऐसा कोई सबूत नहीं है जिससे साबित किया जा सके कि मजुरियेर पास्कल ने अपराध को अंजाम दिया। चूंकि डीएनए जांच नकारात्मक पायी गयी इसलिए वह निर्दोष हैं। पास्कल से अलग रह रही उसकी पत्नी सुजा जोंस मजुरियेर ने पास्कल पर अपनी नाबालिग बेटी के साथ अप्राकृतिक अपराध को अंजाम देने का मामला दर्ज करने के लिए अदालत ...

साढ़े तीन साल की बेटी से रेप के आरोपी पूर्व फ्रेंच डिप्लोमैट बरी - आज तक

भारत में फ्रांस के पूर्व राजनयिक पास्कल मजोरियर पर उनकी पत्नी ने ही अपनी साढ़े तीन साल की बेटी से रेप करने का सनसनीखेज आरोप लगाया था. लेकिन इस मामले में बुधवार को बंगलुरु की एक स्थानीय अदालत ने डिप्लोमैट को बरी कर दिया. सेशन कोर्ट जज ने कहा कि इस मामले में पास्कल को दोषी साबित करने के लिए पर्याप्त साक्ष्य नहीं पाए गए हैं. यह हाई प्रोफाइल मामला साल 2012 का है. कोर्ट में सुनवाई के दौरान 44 वर्षीय पास्कल मजोरियर और उनकी 42 वर्षीय पत्नी सुजा जोन्स मौजूद थीं. सुजा ने जून 2012 में यह आरोप लगाया था कि पास्कल ने उनकी बेटी का रेप किया. सुजा जोन्स केरल की रहने वाली हैं.

बेटी के रेप के आरोप से बरी हुए फ्रांस के पूर्व राजनयिक पास्कल - नवभारत टाइम्स

बेंगलुरु कोर्ट ने फ्रांस के पूर्व राजनयिक पास्कल मजूरियर को अपनी 3 साल की बेटी का रेप करने के आरोप से बरी कर दिया है। अदालत ने 2012 के केस में यह फैसला बुधवार को सुनाया। गौरतलब है कि फ्रांस के वाणिज्य दूतावास कार्यालय के तत्कालीन उप प्रमुख मजूरियर के खिलाफ उनकी भारतीय पत्नी सुजा जोंस ने IPC की धारा 376 के तहत एक FIR फाइल की थी। पति द्वारा अपनी नाबालिग बेटी का रेप किये जाने की उनकी शिकायत पर 3 दिन बाद 19 जून 2012 को मजूरियर को गिरफ्तार किया गया था। सुजा केरल की रहने वाली हैं। French diplomat Pascal Mazurier acquitted by Bengaluru court. He was accused of raping his 3 yr old daughter.

फ्रांसीसी राजनयिक को बेंगलुरु कोर्ट ने किया बरी, तीन साल की बेटी के बलात्कार का था आरोप - Jansatta

फ्रांसीसी राजनयिक पास्कल माजूरिया को बेंगलुरु कोर्ट ने बरी कर दिया है। उनपर तीन साल की अपनी बेटी के बलात्कार का आरोप था। उनपर 2012 में ही यह आरोप उनकी पत्नी ने ही लगाया था। पास्कल अपनी सफाई में बार-बार कहते रहे थे कि वह बेगुनाह हैं और उनकी पत्नी क्रिमिनल हैं जो कि उनको फंसा रही हैं। बुधवार (19 अप्रैल) को बरी होने के बाद पास्कल ने कहा कि उनको काफी खुशी है। हालांकि, अभी मामला हाई कोर्ट में लेकर जाने की बात कही गई है। बेंगलुरु की सेशन कोर्ट को पास्कल के खिलाफ कोई सबूत नहीं मिला। पास्कल की पत्नी का नाम सुजा है। सुजा ने पास्कल पर आरोप लगाते हुए फ्रांसीसी राजदूत को ...