समय पर नहीं पहुंची एम्बुलैंस, गर्भवती महिला ने तोड़ा दम - पंजाब केसरी

नेरवा: नेरवा अस्पताल से शिमला ले जाते समय एक गर्भवती महिला की रास्ते में मौत हो गई। जानकारी के अनुसार महिला पूनम (24) पत्नी सुरेश गांव छाछड़, डाकघर थरोच 8 माह से गर्भवती थी। बुधवार को उसकी तबीयत बिगडऩे पर उसके परिजन उसे अस्पताल लेकर आए। नेरवा में जब उसकी तबीयत में कोई सुधार नहीं हुआ तो उसे शिमला रैफर कर दिया गया। इसके बाद परिजनों ने उसे शिमला ले जाने हेतु 108 को एम्बुलैंस को सूचित किया परन्तु जब काफी समय तक एम्बुलैंस नहीं आई तो उसे एक निजी जीप में शिमला ले जाने की व्यवस्था की गई। इस दौरान चौपाल से 6 किलोमीटर आगे रियूणी पहुंचने पर एम्बुलैंस भी पंहुच गई व महिला को ...

चौपाल के अस्पतालों में न डॉक्टर, न सुविधाएं : मेहता - अमर उजाला

नेरवा (शिमला)। बीते विस चुनाव में चौपाल से भाजपा प्रत्याशी रह चुकी सीमा मेहता ने नेरवा से शिमला ले जाते समय एक गर्भवती महिला की मौत के लिए सरकार और चौपाल के कांग्रेस नेतृत्व को जिम्मेदार ठहराया है। मेहता ने कहा कि यदि अस्पताल में आवश्यक सुविधाएं होतीं तो यह गर्भवती महिला अकाल मौत का शिकार न बनती। गौरतलब है कि बुधवार को थरोच निवासी एक गर्भवती महिला पूनम की शिमला ले जाते रास्ते में मौत हो गई थी। मेहता ने कहा कि मुख्यमंत्री झूठी घोषणाएं करने में जुटे हैं, जबकि चौपाल में विकास कार्य पूरी तरह ठप पड़े हैं। अस्पतालों में न तो चिकित्सक हैं और न ही आवश्यक सुविधाएं ...

Big Question mark on health system in HP – बीच रास्ते में गर्भवती ने तोड़ा दम - HIMACHAL DASTAK

हिमाचल दस्तक, नेरवा।। नेरवा अस्पताल में पसरी अव्यवस्थाएं एक गर्भवती महिला पर भारी पड़ गई व उसकी शिमला ले जाते रास्ते में मृत्यु हो गई। जानकारी के मुताबिक पूनम,आयु 24 वर्ष, पत्नी सुरेश, गाँव छाछड़, डाकघर थरोच को आठ माह का गर्भ था। बुधवार को पूनम की तबियत बिगडऩे पर उसके परिजन उसे नेरवा अस्पताल लेकर आये। नेरवा में जब उसकी तबियत में सुधार नहीं हुआ तो पूनम को शिमला के लिए रेफर कर दिया गया। परिजनों ने उसे शिमला ले जाने हेतु 108 को फ़ोन किया,परन्तु जब काफी समय तक 108 नहीं आयी तो उसे एक निजी जीप में शिमला ले जाने की व्यवस्था की गई। दरअसल 108 कुत्ते के काटे एक अन्य मरीज को लेकर ...