Shop With US Online NewsJS

This RSS feed URL is deprecated

'मोर सेक्स नहीं करता, इसलिए राष्ट्रीय पक्षी' बोले राजस्थान हाई कोर्ट के जज! - Zee News हिन्दी

नई दिल्ली: राष्ट्रीय पक्षी मोर को लेकर विवाद उठ खड़ा हुआ है. राजस्थान हाईकोर्ट के जज जस्टिस महेश चंद शर्मा ने कहा है कि मोर सेक्स नहीं करता है, वह ब्रह्मचारी रहता है, इसलिए राष्ट्रीय पक्षी है.गौरतलब है कि जज जस्टिस महेश चंद शर्मा ने गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने का सुझाव दिया है. जस्टिस शर्मा की बेंच ने हिंगोनिया गोशाला में गायों की मौतों के 7 साल पुराने केस की सुनवाई की. इस दौरान उन्होंने कहा कि राज्य सरकार केंद्र से को-ऑर्डिनेट कर गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित कराने की कोशिश करे. बेंच ने यह भी कहा कि गोहत्या की सजा बढ़ाकर उम्रकैद की जाए, अभी यह 3 साल है. मीडिया ...और अधिक »

मोर सेक्स नहीं करते : राजस्थान के जज की टिप्पणी ने ट्विटर पर उठाया बवंडर - एनडीटीवी खबर

ट्विटर पर ऐसे संदेशों की बाढ़ आ गई, जिन्होंने जानकारी दी कि वास्तविकता यह है कि मोर और मोरनी भी शेष सभी प्राणियों की ही तरह प्रजनन करते हैं, और कुछ यूज़रों ने अपने तर्क को सिद्ध करने के लिए वीडियो तक पोस्ट कर डाले... Written by: विवेक रस्तोगी, Updated: 1 जून, 2017 9:56 AM. Share. ईमेल करें. टिप्पणियां. मोर सेक्स नहीं करते : राजस्थान के जज की टिप्पणी ने ट्विटर पर उठाया बवंडर. राजस्थान हाईकोर्ट के जज महेशचंद्र शर्मा ने बुधवार को अजीबोगरीब टिप्पणी में कहा था, 'मोर सेक्स नहीं करते...' नई दिल्ली: राजस्थान हाईकोर्ट के जज महेशचंद्र शर्मा ने अपनी सेवा के अंतिम दिन अजीबोगरीब टिप्पणी करते ...और अधिक »

'ब्रह्मचारी' मोर हुआ वायरल, ट्विटर ने जमकर बहाए 'आंसू' - Firstpost Hindi

राजस्थान हाईकोर्ट के जज महेशचंद्र शर्मा ने एक अजीबोगरीब टिप्पणी करते हुए कहा, 'मोर राष्ट्रीय पक्षी इसलिए है क्योंकि वह सेक्स नहीं करते, वह आजीवन ब्रह्मचारी रहते हैं.' बस इसके बाद तो सोशल मीडिया साइट्स पर हंगामा हो गया. दरअसल, राजस्थान हाईकोर्ट के जज महेशचंद्र शर्मा ने पहले भी सुझाव दिया था कि गाय को भारत के राष्ट्रीय पशु का दर्जा दे दिया जाना चाहिए. अब अपने इसी सुझाव पर तर्क देते हुए उन्होंने गाय की तुलना 'मोर' से की, और दोनों प्राणियों की प्रजाति को 'पवित्र' बताया.और अधिक »

मोर सहवास करता है या नहीं, जानिए पक्षी वैज्ञानी क्‍या बोल रहे? - दैनिक जागरण

इंदौर/कोलकाता, नईदुनिया। राजस्थान हाई कोर्ट के जस्टिस महेशचंद्र शर्मा के मोर पर दिए बयान को पक्षी वैज्ञानियों ने गलत बताया है। जस्टिस शर्मा ने बुधवार को कहा था कि मोर आजीवन ब्रह्मचारी होता है। उसके आंसू को चुगकर मोरनी गर्भवती होती है। इस बात को पशु चिकित्सा महाविद्यालय महू के प्रोफेसर डॉ. संदीप नानावटी ने पूरी तरह भ्रामक और गलत बताया। प्रोफेसर डॉ. संदीप नानावटी ने कहा कि यह अवैज्ञानिक और असत्य है। बगैर संसर्ग (सेक्स) के मोरनी बच्चों को जन्म नहीं दे सकती। वास्तविकता यह है कि मोर शर्मिला पक्षी है, इसलिए वह एकांत मिलने पर ही सहवास करता है। यही वजह है कि लोगों में यह ...और अधिक »

गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने का सुझाव देने वाले जज ने कहा- मोर कभी सेक्स नहीं करता - एनडीटीवी खबर

जयपुर: राजस्थान हाईकोर्ट के जिस जज ने बुधवार को गाय को राष्ट्रीय पशु बनाने का सुझाव दिया, उन्होंने राष्ट्रीय पक्षी मोर के बारे में एक अलग ही नजरिया पेश किया. जस्टिस महेश चंद्र शर्मा ने कहा, 'जो मोर है, ये आजीवन ब्रह्मचारी होता है. वह कभी भी मोरनी के साथ सेक्स नहीं करता. इसके जो आंसू आते हैं, मोरनी उसे चुगकर गर्भवती होती है और मोर या मोरनी को जन्म देती है.' उन्होंने कहा कि मोर ब्रह्मचारी है, इसलिए भगवान कृष्ण अपने सिर पर मोरपंख लगाते हैं. गाय के अंदर भी कई सारे दिव्य गुण हैं, जिन्हें देखते हुए इसे राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए.' गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने का ...और अधिक »

'मोर ब्रह्मचारी है' गाय को राष्ट्रीय पशु बनाने की राय देने वाले जज की चौंकाने वाली सोच - Firstpost Hindi

राजस्थान हाई कोर्ट के जज महेश चंद्र शर्मा ने एक जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए बुधवार को सरकार से गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने का आग्रह किया है. जज ने अपने फैसले में कहा है कि गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित किया जाना चाहिए. कोर्ट ने गोवंश की हत्या पर सजा को बढ़ाकर आजीवन कैद किए जाने की बात भी कही है. राजस्थान कोर्ट ने ये बातें एक जनहित याचिका की सुनवाई के दौरान कही है. गाय की सुरक्षा को लेकर याचिका दाखिल की गई थी. जिस पर कोर्ट में सुनवाई चल रही थी. क्या है जज साहब के अंतरात्मा की आवाज? फैसले के बाद सीएनएन-न्यूज18 से बात करते हुए जज ने कहा कि उन्होंने यह फैसला हिंदू ...और अधिक »

मोर विवाद में जस्टिस गांगुली भी कूदे, कहा ब्रह्मचारी नहीं होता मोर - Firstpost Hindi

राजस्थान हाई कोर्ट से बुधवार को रिटायर हुए जस्टिस महेश चंद्र शर्मा के मोर को ब्रह्मचारी बताने वाले बयान को सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज ए के गांगुली ने सिरे से खारिज कर दिया. जस्टिस गांगुली ने कहा कि मोर ब्रह्मचारी नहीं होता बल्कि अन्य पक्षियों की तरह ही मोरनी को रिझाता है. उन्होंने कहा कि जस्टिस शर्मा का यह बयान पूरी तरह अवैज्ञानिक है. 'मैंने खुद सुनी हैं मोरनी को आकर्षित करने वाली आवाजें'. सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज ने कहा, 'मैंने दिल्ली के तुगलग रोड में मोरों को एक-दूसरे को आकर्षित करने वाली आवाजें निकालते सुना है. उस वक्त मैं सुप्रीम कोर्ट का जज था.' ...और अधिक »

जज साहब बोले- मोर कभी नहीं करता सेक्‍स, व‍िशेषज्ञ कह रहे- पंख फैला कर मोरनी को लुभाता है और सहवास करता है - Jansatta

मोर के सहवास संबंधी मामले में असलियत कुछ और ही है। विज्ञान से लेकर इंटरनेट भी जज साहब के इस तर्क और तथ्य को दुरुस्त करता है। मोर भी बाकी पक्षियों की तरह ही सहवास करते हैं. Author जनसत्ता ऑनलाइन June 1, 2017 15:50 pm. 1K. Shares. Share · Next. राजस्थान हाईकोर्ट के जज महेश चंद्र शर्मा ने मोर को ब्रह्मचारी बताया और कहा था कि मोरनी उसके आंसुओं से गर्भ धारण करती है। जबकि हकीकत कुछ और है। (फोटो सोर्सः यूट्यूब). मोर 'ब्रह्मचारी' होता है या नहीं। यह सवाल इनदिनों राजस्थान हाईकोर्ट के एक जज के कारण सुर्खियों में है। बुधवार को उन्होंने कहा था कि मोर सहवास नहीं करता। वह ब्रह्मचारी होता है।और अधिक »

HC जज के बयान पर ट्विंकल ने ली चुटकी बोलीं, जंगल में मोर नाचा किसने देखा - आज तक

राजस्थान हाईकोर्ट के जज जस्ट‍िस महेंद्र शर्मा ने बुधवार को राष्ट्रीय पक्षी मोर को लेकर एक बड़ा ही अजीब बयान दिया. उनका कहना है कि मोर सेक्स नहीं करते. क्योंकि मोर ब्रह्मचारी होता है. उनके इस बयान को ट्विटर पर खूब ट्रोल किया जा रहा है जिसमें बॉलीवुड सेलेब्स भी जमकर ट्वीट कर रहे हैं. बॉलीवुड एक्ट्रेस टर्न राइटर ट्विंकल खन्ना ने जस्टिस महेंद्र शर्मा के बयान पर चुटकी लेते हुए कहा कि 'जंगल में मोर नाचा किसने देखा.' हेमा मालिनी होतीं मेरी मम्मी तो बेहतर होता: ट्विंकल खन्ना ...और अधिक »

राजस्थान HC के पूर्व जज बोले, मोरनी आंसुओं से होती है गर्भवती, इसके लिए वैज्ञानिक प्रमाण जरूरी नहीं - Hindustan हिंदी

मोर के बारे में बयान देकर खबरों में आने वाले राजस्थान हाईकोर्ट के पूर्व जस्टिस महेश चंद्र शर्मा ने गुरुवार को एक इंटरव्यू में कहा कि उनके सिद्धांत को वैज्ञानिक सबूत नहीं चाहिए क्योंकि ये धार्मिक ग्रंथों में लिखा हुआ है। हमारे सहयोगी अखबार हिन्दुस्तान टाइम्स को दिए एक्सक्लूसिव इंटरव्यू में शर्मा ने कहा कि सभी हिन्दू धार्मिक किताबों में मोर को अविवाहित बताया गया है। जयपुर में अपने आवास पर दिए साक्षात्कार में उन्होंने बताया कि भगवत पुराण में मोर के सेक्स न करने का संदर्भ दिया गया है। ये भी पढ़ें: केंद्र से राजस्थान HC: गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करे सरकार, ...और अधिक »