बिलासपुर में टेमी फ्लू की दवा खत्म, वैक्सीन भी नहीं पहुंची - Nai Dunia

बिलासपुर। शहर में लगातार स्वाइन फ्लू के संदिग् मरीज मिल रहे हैं। वहीं टेमी फ्लू दवा खत्म होने से स्वास्थ्य विभाग सकते में आ गया है। इसके अलावा एंटी स्वाइन फ्लू वैक्सीन भी उपलब्ध नहीं कराई जा रही है। यदि मरीजों की संख्या में इजाफा होता है तो इलाज में दिक्कत हो सकती है। दो महीने से लगातार स्वाइन फ्लू के मरीज मिल रहे हैं। इसको देखते हुए स्वास्थ्य महकमे ने शासकीय अस्पतालों में टेमी फ्लू दवा की व्यवस्था की थी। लेकिन अब यह दवा खत्म हो चुकी है। वही डॉक्टरों का कहना है कि ठंड बढ़ने के साथ स्वाइन फ्लू के मरीजों के की संख्या भी बढ़ेगी। इसलिए दवा व वैक्सीन की अधिक ...

पुरुषों के मुकाबले महिलाएं एसएलई रोग से ज्यादा पीड़ित - देशबन्धु

भारत में हर 10 लाख लोगों में करीब 30 लोग सिस्टेमिक ल्यूपूस एरीथेमेटोसस (एसएलई) रोग से पीड़ित पाए जाते हैं... देशबन्धु. October 18,2017 05:33. Share: पुरुषों के मुकाबले महिलाएं एसएलई रोग से ज्यादा पीड़ित. health. Follow @deshbandhunews. देशबन्धु. नई दिल्ली। भारत में हर 10 लाख लोगों में करीब 30 लोग सिस्टेमिक ल्यूपूस एरीथेमेटोसस (एसएलई) रोग से पीड़ित पाए जाते हैं। महिलाओं में यह समस्या अधिक पाई जाती है। इस रोग से पीड़ित 10 महिलाओं के पीछे एक पुरुष ल्यूपस से पीड़ित मिलेगा। एसएलई को अक्सर नजरअंदाज कर दिया जाता है। जागरूकता की कमी के कारण, अक्सर चार साल बाद लोग इसके इलाज के बारे में ...

अखरोट खाने से शरीर को होते है ये फायदे - पलपल इंडिया

अखरोट खाने से सेहत को कई फायदे होते है, क्योकि अखरोट में विटामिन C, थियामिन, रिबोफ्लेविन, नियासिन, विटामिन B6, फोलेट, और विटामिन B12, E, K और विटामिन A मौजूद होने के साथ-साथ कुछ मात्रा में केरोटीनोइड्स भी होते हैं, साथ ही अखरोट में पोषक तत्व जैसे कैल्शियम, मैग्नीशियम, आयरन, फ़ास्फ़रोस, पोटेशियम, जिंक, कॉपर आदि भी मौजूद होते हैं, जो आपके शरीर को स्वस्थ बनाने के लिए जरुरी होते हैं. इसलिए आज हम आपको बताएंगे कि अखरोट खाने से हमारे शरीर को क्या-क्या फायदे होते है. अखरोट खाने से हमारा दिमाग स्वस्थ रहता है साथ ही अखरोट में बहुत अधिक मात्रा में ओमेगा-3 फैटी एसिड ...

दिमागी रोगों की दवाओं के लिए सुवेन को मिला सिंगापुर में पेटेंट - Zee News हिन्दी

दवा बनाने वाली कंपनी सुवेन लाइफ साइंसेज को मस्तिष्क के क्षय रोगों के इलाज की दवाओं के लिए सिंगापुर में पेंटेट मिला है. कंपनी को सिंगापुर में न्यू केमिकल एंटीटीज (एनसीई) के लिए यह पेटेंट मिला है जो कि 2033 तक वैध होगा. कंपनी ने बुधवार को यह जानकारी दी. भाषा | अंतिम अपडेट: Oct 18, 2017, 03:14 PM IST. कमेंट देखें |. दिमागी रोगों की दवाओं के लिए सुवेन को मिला सिंगापुर में पेटेंट. (फाइल फोटो). नई दिल्ली: दवा बनाने वाली कंपनी सुवेन लाइफ साइंसेज को मस्तिष्क के क्षय रोगों के इलाज की दवाओं के लिए सिंगापुर में पेंटेट मिला है. कंपनी को सिंगापुर में न्यू केमिकल एंटीटीज (एनसीई) के ...

केरल खुद करेगा एंटी रैबीज टीके का विकास,कुत्तों के खौफ से मिलेगी आजादी - दैनिक जागरण

राज्य पशुपालन विभाग के अंतर्गत आने वाले इंस्टीट्यूट ऑफ एनिमल हेल्थ एंड वेटरनेरी बायोलॉजिकल्स (आइएएच एंड वीबी) एंटी रैबीज टीका विकसित करेगा। तिरुअनंतपुरम (प्रेट्र)। देश भर में कुत्तों के काटने की विकराल होती समस्या के बीच केरल सरकार ने इससे निपटने के लिए अनूठा कदम उठाने की घोषणा की है। दक्षिणी राज्य ने अपने खर्च पर एंटी रैबीज टीका विकसित करने का फैसला किया है। इस पर तकरीबन 150 करोड़ रुपये खर्च आने का अनुमान है। केरल अपने संसाधनों के बूते टीका विकसित करने वाला देश का शायद पहला राज्य होगा। इंसान और जानवरों के लिए अलग-अलग प्रयोगशालाओं में एक साथ ही टीका विकसित ...

पुरुषों को भी होता है ब्रेस्ट कैंसर, ये हैं वजहें - नवभारत टाइम्स

माना जाता है कि ब्रेस्ट कैंसर सिर्फ महिलाओं को होता है क्योंकि पुरुषों के पास ब्रेस्ट नहीं होते। लेकिन सच्चाई यह है कि पुरुषों के पास ब्रेस्ट टीशू यानी स्तन ऊतक होते हैं। इसलिए उन्हें भी ब्रेस्ट कैंसर हो सकता है। पुरुषों में ब्रेस्ट कैंसर एक दुर्लभ रोग है और यह सभी तरह के ब्रेस्ट कैंसर का सिर्फ 1 प्रतिशत है। इस बारे में पुरुषों को कुछ अजीब होने का संदेह कम ही रहता है। मर्द भी कम सतर्कता दिखाते हैं, जो उन्हें ब्रेस्ट कैंसर की आशंका से परे कर देता है और वे नियमित कराई जाने वाली जांच-पड़ताल को दरकिनार कर देते हैं।

डेंगू के मरीजों की संख्या 100 से पार - पंजाब केसरी

मोगा (संदीप): मोगा में डेंगू का प्रकोप लगातार बढ़ता ही जा रहा है। यह आंकड़ा स्वास्थ्य विभाग के रिकार्ड अनुसार 100 की संख्या से पार हो गया। जिला स्तरीय सिविल अस्पताल के ब्लड बैंक में मंगलवार को 27 के लगभग संदिग्ध मरीजों के किए डेंगू टैस्टों में और 11 मरीजों के डेंगू पीड़ित होने की पुष्टि हुई है। सोमवार सायं तक पिछले सप्ताह से कुल 200 के करीब संदिग्ध मरीजों के किए डेंगू टैस्ट दौरान पीड़ित मरीजों की संख्या 92 दर्ज की गई थी, जो मंगलवार को 11 नए मरीजों के सामने आने से 103 पहुंच गई है। तापमान में गिरावट, डेंगू फैलने का कारण : सिविल सर्जन इस संबंधी सिविल सर्जन डा. मंजीत ...

हवा में नमी से बढ़े एलर्जी के मरीज - Nai Dunia

पिछले 2 दिन में मौसम में आ रहे बदलाव के बाद वायुमंडल में नमी आ गई है। ऐसे में एलर्जी के मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है। वहीं सांस रोगियों की भी परेशानी बढ़ी है। मौसम अचानक ठंडा और गर्म हो रहा है। ऐसे में वायरल-बुखार के मरीज भी बढ़े रहे हैं। डॉक्टर लोगों को कुछ सावधियां बरतने के सुझाव दे रहे हैं। अंचल के तापमान में पिछले 2 दिन से लगातार उतार-चढ़ाव हो रहा है। मौसम के बार-बार ठंडा-गर्म होने से खांसी, जुकाम और बुखार के मरीजों की संख्या बढ़ी है। अस्पताल में लगभग एक फिजीशियन के पास सुबह और शाम की ओपीडी मिलाकर 300-450 मरीज वायरल के पहुंच रहे हैं। डॉक्टरों की मानें तो ...

खाली पेट न खाएं ये 7 फूड, खतरे में पड़ सकती है जान! - ऑनलीमाईहेल्थ

आपकी शारीरिक क्रियाकलाप इस बात पर निर्भर करती है कि आप अपने दिन की शुरुआत कैसे करते हैं। दरअलस, सुबह ही वो समय है, जब यह तय होता है कि पूरे दिन आपकी मनोस्थिति कैसी रहने वाली है या आप कितने एक्ट‍िव रहेंगे। इसलिए सुबह पौष्टिक चीजों का सेवन करना चाहिए। लेकिन खाली पेट कौन सी चीजें खानी चाहिए और क्‍या नहीं। हम आपको बता रहे हैं यहां 7 चीजें बताई जा रही हैं, जिन्हें भूलकर भी खाली पेट में नहीं खाना चाहिए। केला. केले को भी खाली पेट नहीं खाना चाहिए। खाली पेट केला खाने से शरीर में मैग्नीशियम की मात्रा काफी बढ़ जाती है जिसकी वजह से शरीर में कैल्शियम और मैग्नीशियम की ...

रात में बिस्तर पर मचाना है धमाल तो अपनाय के 2 आसान घरेलु उपाय - Bulletin of India Hindi

आज हम आप को बताने जा रहे है की अगर आप को भी सेक्स का मजा लेना है और बिस्तर पर दम दिखाना है है तो करे ये आसान उपाय जिससे होंगे आप को बहुत सारे फायदे दूध और खजूर की अगर बात करें तो, दोंनो ही हमारे शरीर के लिये किसी अमृत से कम नहीं हैं। यदि बात करें खजूर की तो अरब देशों में पैदा होने वाला स्वादिष्ट खजूर एक पौ‍ष्‍टिक मेवा है. खजूर में 60 से 70 प्रतिशत तक शर्करा होती है। इसमें आयरन, कैल्‍शिम, पोटेशियम, मैग्नीशियम, फास्फोरस, मैंगनीज, तांबा आदि जैसे पोषक तत्‍व भरे पड़े रहते हैं। आप इस बात को जान कर हैरान हो जाएंग कि अगर अकेले खजूर में इतने फायदे होते हैं तो अगर इसे दूध के साथ पका कर ...

सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर एंटी रैबीज का इंजेक्शन ना होने से नाराज लोगो ने सीएचसी केन्द्र पर जमकर हंगामा काटा - अखंड भारत

तम्बौर/सीतापुर (ब्यूरो)- सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर एंटी रैबीज का इंजेक्शन ना होने से नाराज लोगो ने सीएचसी केन्द्र पर जमकर हंगामा काटा गया। कई दिनों से स्वास्थ्य केन्द्र पर बिसवां खुर्द के लोग के चक्कर काट रहे थे। क्षेत्र के बिसवां खुर्द के करीब दो दर्जन लोगो के पागल सियार व कुत्तो के काटने से तम्बौर सीएचसी केन्द्र पर एन्टी रैबीज का इंजेक्शन लगाने के लिए कई दिनों से चक्कर काट रहे थे। स्वास्थ्य केन्द्र पर बीते कई माह से रैबीज के इंजेक्शन ना होने से मरीज वापस लौट रहे थे। मंगलवार की दोपहर को बिसवां खुर्द के किशुलाल, रवि, सुमन देवी, पूनम, शीलू शबीना, कमालुद्दीन सीता, ...

स्वाइन फ्लू के 5, डेंगू के 2 और एक चिकनगुनिया पॉजीटिव मरीज मिला - दैनिक भास्कर

एक बार फिर से स्वाइन फ्लू, डेंगू और चिकनगुनिया की चपेट में लोग आने लगे हैं। अभी तक 19 लोगों के स्वाइन फ्लू के सैंपल... स्वाइन फ्लू के 5, डेंगू के 2 और एक चिकनगुनिया पॉजीटिव मरीज मिला. एक बार फिर से स्वाइन फ्लू, डेंगू और चिकनगुनिया की चपेट में लोग आने लगे हैं। अभी तक 19 लोगों के स्वाइन फ्लू के सैंपल लिए जा चुके हैं जिनमें से 7 की मौत हो चुकी है। 5 और नए मामले सामने आए हैं। इसी तरह पिछले 5 दिनों में दो डेंगू के मरीज मिले हैं तो वहीं एक को चिकनगुनिया पॉजीटिव पाया गया है। एक बार फिर से स्वाइन फ्लू के 5 नए मरीज सामने आए हैं। इनमें से सबसे अधिक श्यामपुर क्षेत्र के हैं। अहमदपुर के ...

महिलाओं के लिए घातक है जहरीली हवा, स्तन कैंसर तक का खतरा - पंजाब केसरी

इस मौसम में बहने वाली जहरीली हवा हर किसी के लिए नुकसानदेह है और खासतौर पर दिल्ली और राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में वाहनों से निकलने वाले धुंए, पड़ोसी राज्यों में धान की पराली जलाने से होने वाले प्रदूषण के साथ ही दीवाली के मौके पर होने वाली आतिशबाजी बच्चों और बुजुर्गों के लिए तो घातक है ही, महिलाओं के लिए भी काफी नुकसानदेह है। विशेषज्ञों का दावा है कि इस प्रदूषण से स्तन कैंसर तक हो सकता है। इस मौसम में वायु प्रदूषण अब बड़ा चिंता का कारण बन चुकी है। पिछले दिनों उच्चतम न्यायालय द्वारा एनसीआर में पटाखों की बिक्री पर रोक लगाए जाने की पृष्ठभूमि में यह बहस और तेज ...

इंग्लैंड के अस्पतालों में 'सुपर साइज' चॉकलेट की बिक्री पर प्रतिबंध - पंजाब केसरी

लंदन: इंग्लैंड की राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवाएं (एनएचएस) ने मोटापे की बढ़ती महामारी को रोकने के लिए अस्पताल की दुकानों, कैंटीन और वेंडिंग मशीन पर 'सुपर साइज' के चॉकलेट बार पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है। स्वास्थ्य निकाय के हवाले से बताया गया कि अस्पतालों में बिकने वाली मिठाई और चॉकलेट 250 कैलोरी या फिर उससे कम होनी चाहिए और पहले से पैक चटपटे खाने और सैंडविच में वसा की मात्रा प्रत्येक 100 ग्राम पर 5 ग्राम से अधिक नहीं होनी चाहिए। NHS कर्मचारियों को भी अस्वास्थ्यकर भोजन से निपटने के लिए कदम के हिस्से के रूप में लक्षित किया जा रहा है, जिसमें रात के समय ड्यूटी ...

कैंसर से पीड़ित इस बुजुर्ग ने कहा- 'मैं अब कभी भी सरकारी अस्पताल नहीं जाऊंगा' - News18 इंडिया

हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर और मंडी जिला की सीमा पर बसे जाहू गांव के 69 वर्षीय गिरीश चंद्र को तीन वर्ष पहले बाएं बाजू के नीचे छाती के पास एक गिलटी हो गई थी. आईजीएमसी से बहुत धक्के खाने के बाद उन्होंने एक निजी अस्पताल की शरण ली. अब वे पूरी तरह स्वस्थ महसूस कर रहे हैं. यहां उनकी दर्दनाक दास्तां साझा की जा रही है. गिरीश ने स्वास्थ्य केंद्र में उपचार करवाया लेकिन उन्हें कोई लाभ नहीं मिला. फिर हमीरपुर के जिला अस्पताल गए लेकिन वहां से भी सिर्फ दर्द निवारक दवाएं ही मिली, लेकिन राहत नहीं. इसके बाद डॉक्टर ने शिमला या टांडा जाने की सलाह दी. आईआरडीपी परिवार से संबंध रखने वाले ...

समय पूर्व जन्मे बच्चे को हो सकती हैं ये दिक्कतें - ABP News

समय से पहले जन्मे शिशुओं को बाद में चीजों को पहचानने, निर्णय लेने और कई तरह की अन्य व्यावहारिक कठिनाइयों के जोखिम से गुजरना पड़ सकता है. By: एजेंसी | Last Updated: Tuesday, 17 October 2017 8:35 AM. Share. Long term health effects of premature birth. नई दिल्ली: प्री-टर्म यानी समय से पहले जन्मे शिशुओं को बाद में चीजों को पहचानने, निर्णय लेने और कई तरह की अन्य व्यावहारिक कठिनाइयों के जोखिम से गुजरना पड़ सकता है. यहां तक कि समय पूर्व जन्मे शिशुओं को ध्यान केंद्रित करने में दिक्कत हो सकती है. इस समस्या को अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर (एडीएचडी) कहा जाता है. ऐसे बच्चों को स्कूल में ...

कई रोगों को दूर करता है तुलसी वाला दूध - नवभारत टाइम्स

एनबीटी : तुलसी का पौधा एक ऐसा पौधा है जो हर घर के आंगन में पाया जाता है। सर्दी-जुकाम होने पर अक्सर घर के बड़े बुजर्ग कहते हैं कि तुलसी वाली चाय बना कर पी लो। लेकिन क्या आप जानते हैं कि अगर सुबह खाली पेट तुलसी वाला दूध पिया जाए तो ये हमारे शरीर के लिए बहुत फायदेमंद होता है। तुलसी में कई औषधीय गुण पाए जाते है। जैसे टैनिन, लिनोलिक एसिड ,ग्लाइकोसाइड। तो आइए जानते हैं कि तुलसी वाला दूध पीने से हमें और क्या फायदे मिलते हैं। सांस संबंधी रोगों में लाभदायक : तुलसी और दूध में एंटी-बैक्टीरियल गुणों के कारण सांस संबंधी बीमारी में राहत मिलती है। इसके अलावा तुलसी वाला दूध ...

इन उपायों से की जा सकती है कुपोषण की रोकथाम - ABP News

आंकड़े बताते हैं कि पोषण की कमी का नतीजा होता है बाल कुपोषण और ऐसे बच्चे इंफेक्शन के आसानी से शिकार हो जाते हैं. By: एजेंसी | Last Updated: Tuesday, 17 October 2017 8:09 AM. Share. What can be done to overcome problems of hunger and malnutrition in India? नई दिल्ली: भारत में पांच वर्ष से कम आयु के 21 प्रतिशत बच्चे कुपोषण के शिकार हैं. देश में बाल कुपोषण 1998-2002 के बीच 17.1 प्रतिशत था, जो 2012-16 के बीच बढ़कर 21 प्रतिशत हो गया. दुनिया के पैमाने पर यह काफी ऊपर है. एक रिपोर्ट के मुताबिक, पिछले 25 सालों से भारत ने इस आंकड़े पर ध्यान नहीं दिया और न ही इस स्थिति को ठीक करने की दिशा में कोई उल्लेखनीय प्रगति ...

हवा में नमी से बढ़े एलर्जी के मरीज - Nai Dunia

पिछले 2 दिन में मौसम में आ रहे बदलाव के बाद वायुमंडल में नमी आ गई है। ऐसे में एलर्जी के मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है। वहीं सांस रोगियों की भी परेशानी बढ़ी है। मौसम अचानक ठंडा और गर्म हो रहा है। ऐसे में वायरल-बुखार के मरीज भी बढ़े रहे हैं। डॉक्टर लोगों को कुछ सावधियां बरतने के सुझाव दे रहे हैं। अंचल के तापमान में पिछले 2 दिन से लगातार उतार-चढ़ाव हो रहा है। मौसम के बार-बार ठंडा-गर्म होने से खांसी, जुकाम और बुखार के मरीजों की संख्या बढ़ी है। अस्पताल में लगभग एक फिजीशियन के पास सुबह और शाम की ओपीडी मिलाकर 300-450 मरीज वायरल के पहुंच रहे हैं। डॉक्टरों की मानें तो ...

इंग्लैंड के अस्पतालों की कैंटिनों में अब नहीं मिलेगी 'सुपर साइज चॉकलेट बार' - NDTV Khabar

पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड का कहना है कि मोटापे को नियंत्रित करने में अस्पतालों की महत्वपूर्ण भूमिका होती है न कि नतीजों से निपटने में. IANS, Updated: 17 अक्टूबर, 2017 1:26 AM. Share. ईमेल करें. टिप्पणियां. इंग्लैंड के अस्पतालों की कैंटिनों में अब नहीं मिलेगी 'सुपर साइज चॉकलेट बार'. इंग्लैंड में मोटापे की समस्या लगातार पढ़ती जा रही है. लंदन: इंग्लैंड की राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवाएं (एनएचएस) ने मोटापे की बढ़ती महामारी को रोकने के लिए अस्पताल की दुकानों, कैंटिन और वेंडिंग मशीन पर 'सुपर साइज' के चॉकलेट बार पर प्रतिबंध लगाएगी. स्वास्थ्य निकाय के हवाले से बताया गया कि अस्पतालों ...