सुर्खियां

लाइलाज नहीं है यह - नवभारत टाइम्स;

लाइलाज नहीं है यह - नवभारत टाइम्स

दैनिक भास्करलाइलाज नहीं है यहनवभारत टाइम्ससफेद दाग, यानी विटिलाइगो (vitiligo) को लेकर तरह-तरह के भ्रम हैं। लोग इसे लाइलाज बीमारी मानते हैं, जबकि डॉक्टरों के मुताबिक यह एक कॉस्मेटिक प्रॉब्लम है और इसका इलाज बहुत हद तक मुमकिन है। सफेद दाग को बढ़ने से रोकने और इसे ठीक करने के बारे में एक्सपर्ट्स से पूछकर पूरी जानकारी दे रही हैं प्रियंका सिंह. वर्ल्ड विटिलाइगो डे आज. एक्सपर्ट्स पैनल. डॉ. रोहित बत्रा, कंसल्टंट, विटिलाइगो स्पेशलिस्ट, सर गंगाराम हॉस्पिटल. डॉ. शुचींद्र सचदेवा, होम्योपैथिक एक्सपर्ट. डॉ. राजीव मेहता, सीनियर सायकायट्रिस्ट. डॉ. प्रताप चौहान, डायरेक्टर, जीवा आयुर्वेद. क्या है सफेद दाग. - यह एक ऑटो-इम्यून ...सर्जरी और दवा दोनों से ठीक हो सकता है सफेद दागअमर उजालासभी ४ समाचार लेख »

मच्छर के छोटे डंक और इससे होने वाले बड़े खतरे से बचना जरूरी : डॉ. जगदीप - दैनिक भास्कर;

मच्छर के छोटे डंक और इससे होने वाले बड़े खतरे से बचना जरूरी : डॉ. जगदीप - दैनिक भास्कर

दैनिक जागरणमच्छर के छोटे डंक और इससे होने वाले बड़े खतरे से बचना जरूरी : डॉ. जगदीपदैनिक भास्करनवांशहर| नजदीकीगांव किशनपुरा के सिविल अस्पताल में सिविल सर्जन डा. रीटा भारद्वाज जिला एपीडीसोलोजिस्ट डा. जगदीप की देखरेख में मलेरिया जागरुकता कैंप लगाया गया। एसएमओ डा. नरिंदर पाल शर्मा मुजफ्फरपुर पीएचसी की अगुवाई में इस कैंप में एएनएम सुरेखा रानी, एएनएम जसवंत कौर हैल्थ इंस्पेक्टर तरसेम लाल ने लोगों को बताया कि जहां पर पानी खड़ा रहता है वहां पर डेंगू का मच्छर तथा मलेरिया का मच्छर पनपता है। उन्होंने कहा कि छोटा डंक बड़ा खतरा संबंधी जानकारी दी। उन्होंने हर शुक्रवार को ड्राई डे को तौर पर मनाने के लिए प्रेरित किया। उन्होंने बताया कि अपने घरों, घरों के आसपास, ...स्कूली बच्चों को दी गई मलेरिया से बचाव की जानकारीदैनिक जागरणबोलबा में मलेरिया को लेकर जागरुकता कार्यक्रमHindustan हिंदीसभी १८ समाचार लेख »

हलके में न लें जानवरों के काटने की बात को : डॉ. अत्री - दैनिक जागरण;

हलके में न लें जानवरों के काटने की बात को : डॉ. अत्री - दैनिक जागरण

दैनिक जागरणहलके में न लें जानवरों के काटने की बात को : डॉ. अत्रीदैनिक जागरणजिला में जानवरों के इंसान को काटने के केसों में लगातार वृद्धि हो रही है। इसे लेकर सिविल अस्पताल प्रबंधन पूरी तरह से तैयार है। जानवरों के काटने का शिकार हुए लोगों को सिविल अस्पताल में एंटी रैबिज इंजेक्शन नि:शुल्क लगाए जाते हैं। यह बात सिविल अस्पताल के एमडी डॉ. एमएल अत्री ने शनिवार को जागरण के साथ एक विशेष भेंटवार्ता में कही। उन्होंने बताया कि पिछले पांच माह की बात करें तो जिले में 2366 लोग जानवर से कटने का शिकार हुए हैं। इन्हें अस्पताल की ओर से निशुल्क इंजेक्शन लगाए गए हैं। उन्होंने कहा कि जानवरो के काटने की बात को कई लोग हलके में लेते हैं जो गलत बात हैं। अगर ऐसी ...औषधि प्रशासन ने किया खुलासा, इन अस्पतालों की वैक्सीन नहीं है सुरक्षितPatrikaसभी १० समाचार लेख »

खसरा व रूबेला के खिलाफ अभियान 15 अगस्त से - दैनिक जागरण

खसरा व रूबेला के खिलाफ अभियान 15 अगस्त सेदैनिक जागरणकागड़ा जिले में खसरा व रूबेला से बच्चों के बचाव के लिए 15 अगस्त से 15 सितंबर के मध्य विशेष अभियान चलाया जाएगा। इस कार्यक्रम के अंतर्गत लगभग साढ़े पाच लाख बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा। अभियान के सफल कार्यान्वयन को लेकर शनिवार को उपायुक्त कार्यालय के सभागार में बैठक हुई। इसकी अध्यक्षता अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी मस्त राम भारद्वाज ने की। इस अवसर पर एडीएम ने उपस्थित अधिकारियों को इस विशेष अभियान को सफल बनाने के लिए मिलकर प्रयास करने को कहा। अभियान के दौरान 9 माह से 15 वर्ष की आयु के सभी बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा। सरकारी, गैरसरकारी स्कूलों, स्वास्थ्य ...15 वर्ष तक के बच्चों का होगा टीकाकरणअमर उजालासभी ४ समाचार लेख »

आधे मिनट में दूर होगा माइग्रेन का दर्द, पक्का और असरदार नुस्खा - पंजाब केसरी;

आधे मिनट में दूर होगा माइग्रेन का दर्द, पक्का और असरदार नुस्खा - पंजाब केसरी

पंजाब केसरीआधे मिनट में दूर होगा माइग्रेन का दर्द, पक्का और असरदार नुस्खापंजाब केसरीपंजाब केसरी (नानी मां के नुस्खे): माइग्रेन यानी सिर दर्द। यह दर्द अचानक से सिर के आधे भाग में होने लगता है, जिस वजह से रोगी को काफी मुश्किल की घड़ी से गुजरना पड़ता है। कई बार तो माइग्रेन का दर्द कुछ ही घंटों में ठीक हो जाता है लेकिन कई बार 2-3 दिन लगातार होता रहता है। बिजी लाइफ और भागदौड़ भरी जिंदगी में ज्यादातर लोग माइग्रेन के दर्द से परेशान रहते है। माइग्रेन से बचने के लिए लोग बहुत सी दवाइयों का सहारा लेते है, जिससे कोई फर्क नहीं पड़ता। ऐसे में आप कुछ घरेलू तरीके अपनाकर इस दर्द से राहत पा सकते है। माइग्रेन के कारण. - पर्याप्त नींद न लेना - ब्लड प्रैशर - तनाव - दर्दनिवारक ...माइग्रेन का दर्द दूर करने के असरदार घरेलू उपायSamachar Jagatये घरेलू नुस्खे मिनटों में खत्म कर देगा आपका सिर दर्दHindustan हिंदीसभी ३ समाचार लेख »

सेहत के लिए फायदेमंद हैं लाल टमाटर - MAYANK BULLETIN;

सेहत के लिए फायदेमंद हैं लाल टमाटर - MAYANK BULLETIN

MAYANK BULLETINसेहत के लिए फायदेमंद हैं लाल टमाटरMAYANK BULLETINसलाद में टमाटर की शोभा ही निराली लगती है इसलिए इसे सलाद की राजा कहा जाता है। सब्जी में टमाटर का स्वाद और सूप में टमाटर का स्वाद भी सभी को भाता है। स्वाद के साथ टमाटर बहुत लाभप्रद है सेहत के लिए भी। आइए जानें इसके लाभ:- कैंसर से बचाता है टमाटर:- एक रिसर्च के अनुसार सप्ताह में 10 टमाटर खाने से कैंसर का खतरा 45 प्रतिशत कम हो जाता है। सलाद में नियमित लाल टमाटर का सेवन करने से पेट के कैंसर का खतरा 60 प्रतिशत तक कम हो जाता है। टमाटर में लाइकोपीन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है जो कई प्रकार के कैंसर रोकने के लिए लाभप्रद है। गले का कैंसर और उससे बचाव ...और अधिक »

प्रेग्नेंसी में पैरासिटामोल, बच्चे को हो सकते हैं ये नुकसान! - ABP News;

प्रेग्नेंसी में पैरासिटामोल, बच्चे को हो सकते हैं ये नुकसान! - ABP News

ABP Newsप्रेग्नेंसी में पैरासिटामोल, बच्चे को हो सकते हैं ये नुकसान!ABP Newsनई दिल्लीः बुखार के दौरान आमतौर पर लोग पेनकिलर पैरासिटामोल का इस्तेमाल करते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं प्रेग्नेंसी में पैरासिटामोल लेना बच्चे के लिए खतरनाक हो सकता है. ये हम नहीं कह रहे बल्कि हाल ही में आई रिसर्च में ये बात सामने आई है. क्या कहती है रिसर्च- रिसर्च के मुताबिक, यदि महिलाएं प्रेग्नेंसी के दौरान पैरासिटामोल लेती हैं तो भ्रूण की सेक्स इच्‍छाओं बिहेवियर पर इफेक्‍ट पड़ता है. रिसर्च में पाया गया कि प्रेग्नेंसी में पैरासिटामोल के सेवन से ना सिर्फ भ्रूण की बड़े होकर सेक्स इच्छाएं इफेक्ट होती हैं बल्कि उसका व्यवहार भी आक्रामक होता है. क्या कहते हैं ...गर्भावस्था में पैरासिटामोल लेने से हो सकता है यह खतराEenaduIndia Hindiसभी २ समाचार लेख »

चीनी का अधिक सेवन देता है इन बीमारियों को बुलावा - पंजाब केसरी;

चीनी का अधिक सेवन देता है इन बीमारियों को बुलावा - पंजाब केसरी

पंजाब केसरीचीनी का अधिक सेवन देता है इन बीमारियों को बुलावापंजाब केसरीपंजाब केसरी (सेहत) : मीठा खाना सभी को पसंद होता है। अक्सर लोग खाने के बाद कुछ मीठा खाना चाहते हैं। ऐसे में वे थोड़ी-सी चीनी या गुड़ ही खा लेते है। इसके अलावा मीठी चाय, कॉफी और दूध का भी सेवन करते हैं जिससे शरीर में अधिक मात्रा में मीठा चला जाता है। मीठे में चाहे चीनी हो या गुड़ सभी में एक समान कैलोरी होती है जो शरीर में अधिक मात्रा में जाकर नुकसान पहुंचाती है। ज्यादा मीठा खाने से डायबिटीज की समस्या तो होती ही है, साथ में और भी कई तरह की शारीरिक परेशानियां पैदा होती हैं। झुर्रियों की समस्या जब अधिक मात्रा में चीनी का सेवन किया जाता है तो यह खून के साथ घुल कर ...चीनी का अधिक सेवन हानिकारकSanjeevni Todayसभी ३ समाचार लेख »

जांच में पहला मरीज ही स्वाइन फ्लू से पीड़ित - दैनिक जागरण;

जांच में पहला मरीज ही स्वाइन फ्लू से पीड़ित - दैनिक जागरण

दैनिक जागरणजांच में पहला मरीज ही स्वाइन फ्लू से पीड़ितदैनिक जागरणमेरठ : दो दिन पहले बुखार से पीड़ित हुए एक व्यक्ति में स्वाइन फ्लू के लक्षण मिले हैं। मेडिकल कालेज में. मेरठ : दो दिन पहले बुखार से पीड़ित हुए एक व्यक्ति में स्वाइन फ्लू के लक्षण मिले हैं। मेडिकल कालेज में स्वाइन फ्लू की जांच के लिए बायोलॉजी विभाग में लैब बनाई गई है। लैब के पहले दिन पहला रोगी ही जांच में स्वाइन फ्लू से पीड़ित निकला। लालकुर्ती निवासी महेंद्र सिंह दो दिन पहले खांसी-बुखार से पीड़ित हो गया था। परिजनों ने हालत बिगड़ने पर रोगी को धनवंतरी अस्पताल में भर्ती कराया। हालत में सुधार नहीं होने पर परिजन लाला लाजपत राय मेडिकल कालेज लेकर पहुंचे। उधर, मेडिकल कालेज ...स्वाइन फ्लू का मरीज मिला, मेडिकल में मचा हड़कंपPatrikaएयर कंडीशन कहीं स्वाइन फ्लू का नहीं दे जाए दर्दअमर उजालासभी ४ समाचार लेख »

पिता की देखभाल बच्चों में मोटापा रोकने में मददगार - EenaduIndia Hindi;

पिता की देखभाल बच्चों में मोटापा रोकने में मददगार - EenaduIndia Hindi

EenaduIndia Hindiपिता की देखभाल बच्चों में मोटापा रोकने में मददगारEenaduIndia Hindiबच्चों की देखभाल में पिता की भूमिका दो से चार साल की उम्र के बीच उनमें मोटापा रोकने में मददगार हो सकती है। एक नए शोध में पाया गया है कि बच्चों को नहलाने, कपड़े पहनाने तथा कहीं बाहर ले जाने या उनके साथ खेलने में पिता की भूमिका बच्चों में मोटापे के जोखिम को काफी हद तक दूर करता है। यह शोध अमेरिका के मैरीलैंड राज्य में बाल्टीमोर शहर स्थित जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय में किया गया। विश्वविद्यालय के जॉन हॉपकिंस ब्लूमबर्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ से संबद्ध प्रमुख शोधकर्ता मिशेल वांग ने कहा, "बढ़ते बच्चों के विकास में पिता की भूमिक बेहद अहम होती है। हमारे शोध से पता ...और अधिक »

पालक खाने से होंगे चौंकाने वाले फायदे - Sabguru News;

पालक खाने से होंगे चौंकाने वाले फायदे - Sabguru News

Sabguru Newsपालक खाने से होंगे चौंकाने वाले फायदेSabguru Newsपालक एक ऐसी सब्जी हैं जो सेहत के लिए बहुत लाभकारी होती हैं। कई लोगों को पालक पसंद नहीं आता हैं खासकर बच्चो को। लेकिन पालक में आयरन भरपूर मात्रा में पाया जाता हैं। उसी के साथ पालक में कैल्शियम, मैग्नीशियम, आयरन तथा विटामिन ए, बी, सी आदि भी बहुत अधिक पाया जाता है। बच्चों के विकास के लिये ये पोषक तत्व बेहद जरूरी है। आइये जानते है पालक बच्चों के लिये कैसे फायदेमंद है-. करेले के अनेकों फायदे तो नुकसान भी. *हड्डियों के लिए कैल्शियम, मैग्नेश्यिम और फोस्‍फोरस से भरपूर पालक फायदेमंद है। यह हड्डियों को मजबूत बनाता है। इसके अलावा पालक विटामिन 'के' का एक बहुत अच्छा स्रोत है, ...और अधिक »

दिल्ली के अस्पतालों को डेंगू और चिकनगुनिया से निपटने के लिए बेड की संख्या बढ़ाने के निर्देश - नवभारत टाइम्स;

दिल्ली के अस्पतालों को डेंगू और चिकनगुनिया से निपटने के लिए बेड की संख्या बढ़ाने के निर्देश - नवभारत टाइम्स

देशबन्धुदिल्ली के अस्पतालों को डेंगू और चिकनगुनिया से निपटने के लिए बेड की संख्या बढ़ाने के निर्देशनवभारत टाइम्स(यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।) भाषा | Updated: Jun 23, 2017, 09:15PM IST. नयी दिल्ली, 23 जून :भाषा: दिल्ली सरकार ने सरकारी और निजी अस्पतालों तथा नर्संिग होम्स को डेंगू और चिकनगुनिया के फैलने की आशंका के मद्देनजर अगले छह महीनों के लिए बेड की क्षमता में 20 प्रतिशत तक की वृद्धि करने के आज निर्देश जारी किए। स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि इस वर्ष राष्ट्रीय राजधानी में डेंगू के 50 और चिकनगुनिया के 105 मामले दर्ज किए गए हैं। सरकार ने एस्पीरिन और ब्रूफेन जैसी नॉनस्टीरियोइडल एंटी इनफ्लैमैटरी दवाओं पर ...दिल्ली : डेंगू, चिकनगुनिया के 155 मामले दर्ज, अस्पतालों में किए गए हैं व्यापक प्रबंधदेशबन्धुसभी ४ समाचार लेख »

रोजाना पीएं हींग का पानी और फिर देखें कमाल - पंजाब केसरी;

रोजाना पीएं हींग का पानी और फिर देखें कमाल - पंजाब केसरी

पंजाब केसरीरोजाना पीएं हींग का पानी और फिर देखें कमालपंजाब केसरीपंजाब केसरी (सेहत) : सभी लोगों को छोटी-मोटी शारीरिक परेशानियां लगी ही रहती हैं। डायबिटीज, ब्लड प्रैशर, एसिडिटी और जोड़ों में दर्द होना आम समस्या है जो लगभग सभी लोगों में देखने को मिलती हैं। इन सब के लिए लोग कई तरह की दवाओं का सेवन करते हैं जिससे किडनी को नुकसान होता है। ऐसे में इन छोटी-मोटी बीमारियों से निजात दिलाने के लिए गुनगुने पानी में चुटकी भर हींग मिलाकर पीना चाहिए जिससे शरीर को कई फायदे होते हैं। आइए जानिए हींग का पानी पीने के फायदों के बारे में. 1. एसिडिटी गतल खान-पान की वजह से लोगों में एसिडिटी की समस्या आम देखने को मिलती है। ऐसे में हर रोज सुबह ...रोजाना हींग का पानी पीने से मिलता है कई समस्याओं से छुटकाराSamachar Jagatरोज पिएं एक गिलास हींग का पानी, मिलेंगे ये 10 फायदेदैनिक भास्करसभी ३ समाचार लेख »

इन 5 वजहों से दुल्हन को करना चाहिए पपीते का सेवन - पंजाब केसरी;

इन 5 वजहों से दुल्हन को करना चाहिए पपीते का सेवन - पंजाब केसरी

पंजाब केसरीइन 5 वजहों से दुल्हन को करना चाहिए पपीते का सेवनपंजाब केसरीपंजाब केसरी (ब्यूटी) : पपीता गुणों से भरपूर है। इसे सूपर फूड भी कहा जाता है। यह पेट का ख्याल रखने के साथ-साथ त्वचा की खूबसूरती को भी बढ़ाता है। वैसे तो हर लड़की चाहती है कि वो सुंदर लगे लेकिन अपनी शादी के दिन सबसे खूबसूरत दिखना चाहती है। एेसे में अपनी डाइट में पपीते का इस्तेमाल करें। यह न ही अपकी त्वचा की चमक बढाएगा बल्कि अपकी बाॅडी को भी फिट रखेगा। आइए जाने इसके फायदे। 1.त्वचा चमकाएं पपीता त्वचा में निखार लाता है और चेहरे को चमकदार बनाता है। 2. टैनिंग इसके नियमित सेवन से त्वचा फ्रेश रहती है। यह टैनिंग को दूर करने में भी मदद करता है। 3. डेड स्किन इसके गूदे को निकाल कर चेहरे ...जानिए पपीता से होने वाले फायदेदेशबन्धुसभी ६ समाचार लेख »

सात लाख से ज्यादा बच्चों को पिलाई जाएगी पोलियो की दवा - Patrika;

सात लाख से ज्यादा बच्चों को पिलाई जाएगी पोलियो की दवा - Patrika

Patrikaसात लाख से ज्यादा बच्चों को पिलाई जाएगी पोलियो की दवाPatrikaबरेली। तीन जुलाई से शुरू हो रहे पोलियो अभियान को सफल बनाने की तैयारियां शुरू हो गयी हैं। जिलाधिकारी डॉक्टर पिंकी जोवेल ने शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभागार में जिला स्वास्थ्य समिति, मिशन इन्द्रधनुष तथा पल्स पोलियो टास्क फोर्स की समीक्षा कर अफसरों को जरूरी दिशा निर्देश दिए। पांच से सात जुलाई तक चलेगा अभियान. पोलियो अभियान की समीक्षा में बताया गया कि दो जुलाई को बूथ डे मनाया जायेगा। इसके बाद पांच से सात जुलाई तक घर-घर जाकर पोलियो वैक्सीन पिलायी जायेगी। शून्य से पांच से साल के कुल सात लाख 35 हजार बच्चों पालियो वैक्सीन पिलाने का लक्ष्य है। जिसमें से ...पोलियो अभियान का नहीं तैयार माइक्रोप्लानInext Liveलापरवाह आशाओं पर होगी कार्रवाई: डीएमअमर उजालासभी ३ समाचार लेख »

बच्चे को स्तनपान कराने से मां का दिल के दौरे का जोखिम होता है कम - NDTV Khabar;

बच्चे को स्तनपान कराने से मां का दिल के दौरे का जोखिम होता है कम - NDTV Khabar

NDTV Khabarबच्चे को स्तनपान कराने से मां का दिल के दौरे का जोखिम होता है कमNDTV Khabarएक नए शोध में पता चला है कि स्तनपान महिलाओं में दिल का दौरा और स्ट्रोक के जोखिम को कम करता है. इंडो-एशियन न्यूज़ सर्विस की रिपोर्ट, अंतिम अपडेट: शुक्रवार जून 23, 2017 01:31 PM IST. Share. ईमेल करें. टिप्पणियां. बच्चे को स्तनपान कराने से मां का दिल के दौरे का जोखिम होता है कम. लंदन: बच्चे के लिए मां का दूध अमृत समान होता है, इससे बच्चे को पोषण के साथ रोगों से लड़ने की ताकत मिलती है. हालांकि स्तनपान केवल बच्चे के लिए नहीं, बल्कि मां के लिए भी फायदेमंद होता है. एक नए शोध में पता चला है कि स्तनपान महिलाओं में दिल का दौरा और स्ट्रोक के जोखिम को कम करता है. नए शोध के मुताबिक, ...ब्रेस्टफीडिंग से महिलाओं में दिल के दौरे का जोखिम कमनवभारत टाइम्ससभी ३ समाचार लेख »

पुरुषों की इन आदतों से कम होती हैं उनकी मर्दानगी! - Samachar Jagat;

पुरुषों की इन आदतों से कम होती हैं उनकी मर्दानगी! - Samachar Jagat

Samachar Jagatपुरुषों की इन आदतों से कम होती हैं उनकी मर्दानगी!Samachar Jagatइन्टरनेट डेस्क। आधुनिक समय में जहां एक और व्यक्ति के पास सभी सुख उपलब्ध हैं। लेकिन बदलते रहन-सहन की वजह से महिलाएं गर्भ नहीं धारण कर पाती हैं। यह समस्या आजकल आम हो गई हैं। जिसकी वजह ना केवल महिलाएं है बल्कि पुरुष भी हो सकते हैं। यह देखने में आया है कि कुछ गलत आदतों की वजह से पुरुषों में शुक्राणुओं की कमी पाई जाती हैं। यह जाने-अनजाने में हो जाता हैं। आइए जानिए पुरूषों की ऐसी ही कुछ बुरी आदतों के बारे में... अगर आपको शराब, सिगरेट या किसी तरह का नशा करने की आदत हैं। तो आप शरीर में स्ट्रैस हार्मोन का स्तर काफी बढ़ जाता हैं। इसका सीधा असर शुक्राणुओं पर पड़ता है।मर्दों की ये आदतें घटा सकती है उनकी मर्दानगीपंजाब केसरीसभी २ समाचार लेख »

माता-पिता का साया उठने के बाद बच्ची ने की खुदकुशी - प्रभात खबर;

माता-पिता का साया उठने के बाद बच्ची ने की खुदकुशी - प्रभात खबर

प्रभात खबरमाता-पिता का साया उठने के बाद बच्ची ने की खुदकुशीप्रभात खबरकोलकाता. बचपन में होश संभालने के पहले ही माता-पिता का साया छिनने के बाद गुरुवार को नौ वर्षीय एक बच्ची ने फांसी लगा कर खुदकुशी कर ली. घटना बेहला इलाके के सत्येन राय रोड की है. पुलिस के मुताबिक, उसके मामा ने बेहला थाने की पुलिस को इसकी सूचना दी. उसके गले में चोट का निशान मौजूद था. इसके बाद उसे विद्यासागर स्टेट जनरल अस्पताल ले जाया गया. वहां चिकित्सकों ने बच्ची को मृत घोषित कर दिया. पुलिस को उसके कमरे से एक जला हुआ ओढ़ना मिला है. प्राथमिक जांच में पता चला कि नौ वर्षीय किशोरी के माता-पिता के साथ उसे भी एड्स की बीमारी थी. जनवरी में उसकी मां का देहांत हुआ था.और अधिक »

नीम और शहद के इस्तेमाल से करे अपनी स्किन की सभी समस्याओ का इलाज - News Track;

नीम और शहद के इस्तेमाल से करे अपनी स्किन की सभी समस्याओ का इलाज - News Track

News Trackनीम और शहद के इस्तेमाल से करे अपनी स्किन की सभी समस्याओ का इलाजNews Trackस्किन के लिए नीम का इस्तेमाल बहुत फायदेमंद होता है.नीम के इस्तेमाल से स्किन से सम्बंधित सभी समस्याओ से छुटकारा पाया जा सकता है.पर अगर आप नीम के साथ थोड़ा सा शहद मिला लेती है तो त्वचा संबंधी समस्याओं से छुटकारा आसानी से मिल सकता है.आइये जानते है की कैसे नीम और शहद के इस्तेमाल से अपनी स्किन को खूबसूरत बनाया जा सकता है. 3-4 नीम के पत्ते, 1 चम्मच शहद. नीम को अपने चेहरे पर इस्तेमाल करने के लिए सबसे पहले नीम के पत्तों को 20 मिनट के लिए पानी में भीहाकर रख दे. अब इन पत्तो को निकाल कर पीस ले.अब इस पिसे हुए नीम के पत्तो में थोड़ा सा शहद भी मिला दें. आपका पेस्ट तैयार है,अब इस ...चेहरे की रौनक बढ़ानी है तो अपनाएं चावल का फेसपैकHindi Khabarसभी ३ समाचार लेख »

शादी है करीब, तो खाना शुरू कर दें पपीता - EenaduIndia Hindi;

शादी है करीब, तो खाना शुरू कर दें पपीता - EenaduIndia Hindi

EenaduIndia Hindiशादी है करीब, तो खाना शुरू कर दें पपीताEenaduIndia Hindiशादी का अगला सीजन करीब आ रहा है, ऐसे में हर लड़की की ख्वाहिश होती है कि वह अपनी जिंदगी के सबसे खास दिन सबसे खूबसूरत दिखे और खुशी महसूस करे। पपीते के इस्तेमाल व सेवन से आप चमकदार त्वचा पा सकती हैं, जो आपकी खूबसूरती निखारेगा। फिटपास की आहार व पोषण विशेषज्ञ मेहर राजपूत ने पपीता से होने वाले फायदे के बारे में ये जानकारियां दी हैं : -स्वस्थ शरीर व छरहरी काया के लिए शादी होने तक करीब एक महीना रोज दो कटोरी पपीता खाएं। इस फल में पपाइन नाम का एंजाइम होता है जो भोजन को तेजी से पचाता है, चयापचय सुधारता है और वजन कम कर काया छरहरी बनाता है। रोजाना 55 कैलोरी वाले पपीते का सेवन ...और अधिक »