सुर्खियां

  • मोदी सरकार में ज्योतिषियों पर लगा राहुकाल, चुनाव आयोग देगा ऐसी सजा! - Patrika

    मोदी सरकार में ज्योतिषियों पर लगा राहुकाल, चुनाव आयोग देगा ऐसी सजा! - Patrika;

    मध्यप्रदेश के अटेर और बांधवगढ़ में 9 अप्रैल को होने वाले विधानसभा में ज्योतिषी और विशेषज्ञ चुनावी भविष्यवाणी नहीं कर पाएंगे। ज्योतिषियों, टेरो कार्ड रीडर्स और विशेषज्ञों पर अब चुनाव आयोग ने रोक लगा दी है। भोपाल। मध्यप्रदेश के अटेर और बांधवगढ़ में 9 अप्रैल को होने वाले विधानसभा में ज्योतिषी और विशेषज्ञ चुनावी भविष्यवाणी नहीं कर पाएंगे। ज्योतिषियों, टेरो कार्ड रीडर्स और विशेषज्ञों पर अब चुनाव आयोग ने रोक लगा दी है। आयोग के इस फैसले से प्रदेश के ज्योतिषी नाराज हैं। उन्होंने अपनी स्वतंत्रता पर इसे हमला बताया है। चुनाव आयोग ने प्रत्याशियों और पार्टियों की ...और अधिक »

  • चुनाव आयोग ने ज्योतिषियों के साथ-साथ विशेषज्ञों की चुनावी भविष्यवाणी पर भी लगाई रोक - Nai Dunia

    चुनाव आयोग ने ज्योतिषियों के साथ-साथ विशेषज्ञों की चुनावी भविष्यवाणी पर भी लगाई रोक - Nai Dunia;

    नई दिल्ली। चुनाव में नेताओं और पार्टियों की जीत की भविष्यवाणी करने वाले ज्योतिषियों से चुनाव आयोग नाराज है। ने एक्जिट पोल के प्रसारण पर प्रतिबंध से बचने के लिए दिखाए जाने वाले ज्योतिषियों और टैरो कार्ड रीडरों की चुनावी भविष्यवाणी पर सख्त ऐतराज जताया है। आयोग ने अब इन ज्योतिषियों की चुनावी भविष्यवाणी पर भी रोक लगा दी है। चुनाव आयोग ने गुरुवार को इलेक्ट्रानिक और प्रिंट मीडिया दोनों का उल्लेख करते हुए कहा कि भविष्य के चुनावों में प्रतिबंधित काल में ज्योतिषियों के माध्यम से भी ऐसी खबरों का प्रसारण और प्रकाशन न किया जाए। ताकि स्वतंत्र, निष्पक्ष और ...और अधिक »

  • एक्जिट पोल पर सख्त हुआ चुनाव आयोग, लगाई भविष्यवाणी पर रोक - haribhoomi

    एक्जिट पोल पर सख्त हुआ चुनाव आयोग, लगाई भविष्यवाणी पर रोक - haribhoomi;

    निर्वाचन आयोग ने चुनावों के नतीजों के आने पहले की जाने वाली भविष्यवाणी पर रोक लगा दी है। आमतौर इस तरह की भविष्यवाणी विधानसभा, लोकसभा और स्थानीय निकायों के चुनावों में एक्जिट पोल के जरिए की जाती है। चुनाव आयोग ने गुरुवार को चुनाव के दौरान नतीजों को लेकर ज्योतिषी, टैरो कार्ड रीडर्स या फिर राजनीतिक पंडित की ओर से भविष्यवाणी करने और अनुमान जताने पर पूर्ण प्रतिबंध लगा दिया है। आयोग ने कहा कि अगर कोई भी चुनाव के दौरान एक्जिट पोल के जरिए भविष्यवाणी करेगा या फिर अनुमान लगाएगा, तो इसे चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन माना जाएगा और संबंधित व्यक्ति के खिलाफ ...और अधिक »

  • ज्योतिषियों से क्यों ख़फ़ा है चुनाव आयोग? - Webdunia Hindi

    ज्योतिषियों से क्यों ख़फ़ा है चुनाव आयोग? - Webdunia Hindi;

    भारत के चुनाव आयोग ने कहा है कि चुनाव परिणामों को लेकर ज्योतिषियों, टैरो कार्ड रीडर, राजनीतिक विश्लेषकों और अन्य की भविष्यवाणियों या अनुमानों को प्रकाशित और प्रसारित नहीं किया जाना चाहिए। आयोग ने कहा है कि ऐसा करने वाले मीडिया संस्थानों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की जा सकती है। आयोग ने मीडिया से निषिद्ध अवधि के दौरान चुनाव परिणामों को लेकर ज्योतिषियों, टैरो कार्ड रीडर, राजनीतिक विश्लेषकों तथा अन्य की भविष्यवाणी या अनुमानों को प्रकाशित और प्रसारित करने से परहेज करने निर्देश फिर से जारी करते हुए कहा है कि यह जनप्रतिनिधित्व कानून का उल्लंघन माना जाएगा।और अधिक »

  • चुनाव पर की भविष्यवाणी तो उनकी खैर नहीं - लोकतेज

    नई दिल्ली ।देश में चुनाव का दौर आता हैं तो फिर न्यूज चैनल वाले एक्जिट पोल दिखाना शुरु कर देते है लेकिन आज कल ज्योतिषि भी चुनाव के परिणामों की भविष्यवाणी करने लग गए है।इस पर सख्त रुख अपनाते हुए चुनाव आयोग ने शुक्रवार को व्यवस्था दी कि जब एग्जिट पोलों के नतीजों को दिखाने पर पाबंदी है, तो ऐसे समय में ज्योतिषियों और टैरों रीडरों की ओर से चुनावी नतीजों की भविष्यवाणी करना कानून का उल्लंघन है। आयोग ने प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया दोनों से कहा कि वे भविष्य में स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं पारदर्शी चुनाव सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबंध की अवधि के दौरान ऐसे कार्यक्रमों ...और अधिक »

  • चुनाव आयोग ने Exit Poll, भविष्यवाणी पर लगाया बैन - Oneindia Hindi

    चुनाव आयोग ने Exit Poll, भविष्यवाणी पर लगाया बैन - Oneindia Hindi;

    निर्वाचन आयोग ने लोकसभा और स्थानीय निकायों के चुनावों के नतीजों के आने से पहले एक्जिट पोल, ज्योतिष, टैरो कार्ड रीडर्स आदि के माध्यम से भविष्यवाणी करने पर रोक लगा दी है। आयोग की इस कार्रवाई के बाद अब देश के राजनीतिक पंडित चुनाव नतीजों को लेकर भविष्यवाणी नहीं कर सकेंगे। चुनाव आयोग ने साफ कर दिया है कि प्रतिबंध के बाद भी यदि चुनाव नतीजों को लेकर भविष्यवाणी की जाती है या फिर इसका अनुमान लगाया जाता है तो इसे चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन माना जाएगा और संबंधित व्यक्ति के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जायेगी। 01:42. ग्रेटर नॉएडा पर राज्य सभा में बोली सुषमा स्वराज.और अधिक »

  • चुनाव आयोग सख्त, अगर चुनावी पंडितों ने पार्टी के हार-जीत की भविष्यवाणी की तो खैर नहीं - India.com हिंदी

    चुनाव आयोग सख्त, अगर चुनावी पंडितों ने पार्टी के हार-जीत की भविष्यवाणी की तो खैर नहीं - India.com हिंदी;

    प्रतिबंध की अवधि के भीतर चुनाव का संभावित परिणाम बताने वाले कार्यक्रमों का प्रसारण आर. पी. अधिनियम की धारा 126ए का उल्लंघन है। By Rajneesh Singh | Updated: March 31, 2017 11:29 AM IST Email. 0 Shares. Facebook share · Twitter share · Share on Google+ · Share on Whatsapp. Comments. pjimage (3). हाल ही में संपन्न हुए पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में कुछ मीडिया समूहों द्वारा निर्वाचन आयोग के दिशा-निर्देश का उल्लंघन करने के मामले को देखते हुए आयोग ने गुरूवार को एकबार फिर से निर्देश जारी कर मीडिया समूहों से भविष्य में ऐसा करने से बचने की सलाह दी है। आयोग ने एक निश्चित समय-सीमा तय करते हुए मीडिया ...और अधिक »

  • चुनाव आयोग ने कहा- चुनाव परिणामों की भविष्यवाणी करना गैरकानूनी - Oneindia Hindi

    चुनाव आयोग ने कहा- चुनाव परिणामों की भविष्यवाणी करना गैरकानूनी - Oneindia Hindi;

    आयोग ने कुछ टीवी चैनलों पर चुनाव के समय चलाए गए एग्जिट पोल और सियासी गुणा-गणित को गलत करार दिया और कहा कि यह सीधे तौर पर कानून का उल्लंघन है। By: Brajesh Mishra. Published: Friday, March 31, 2017, 10:31 [IST]. Subscribe to Oneindia Hindi. नई दिल्ली। चुनाव आयोग ने चुनाव परिणाम आने से पहले होने वाले एग्जिट पोल और राजनीतिक विश्लेषणों को गैरकानूनी करार दिया है। आयोग ने कहा कि चुनाव परिणामों की भविष्यवाणी करना पूरी तरह गलत है ऐसा करना जनप्रितिनिधित्व अधिनियम की धारा 126ए का उल्लंघन है। चुनाव आयोग ने कहा- चुनाव परिणामों की भविष्यवाणी करना गैरकानूनी. Popular Videos · केंद्रीय मंत्री ने ...और अधिक »

  • तो क्या ज्योतिषी और राजनीतिक विश्लेषक एक जैसे होते हैं? - आईचौक

    तो क्या ज्योतिषी और राजनीतिक विश्लेषक एक जैसे होते हैं? - आईचौक;

    सबसे चर्चितों में राजस्थान के ही एक ज्योतिषी का नाम आता है जिन्होंने एक मंत्री के राष्ट्रपति बनने की भविष्यवाणी कर रखी है. संयोग की बात है कि राष्ट्रपति चुनाव भी जल्द ही होने वाले हैं - और ये उस ज्योतिषी के लिए परीक्षा की घड़ी होगी. 90. सियासत. | 5-मिनट में पढ़ें | 31-03-2017. आईचौक · @iChowk · Share. चुनाव आयोग की नजर में ज्योतिषी, टैरो कार्ड रीडर और चुनाव विश्लेषक सब के सब एक जैसे हैं. आयोग को एक ज्योतिषी की भविष्यवाणी पर भी उतना ही विश्वास या अविश्वास है जितना राजनीति के जानकार किसी चुनाव विश्लेषक पर. शायद इसीलिए आयोग चुनाव प्रक्रिया के दौरान एक साथ सभी पर पाबंदी ...और अधिक »

  • जानिए आखिर ज्योतिषियों, टैरो कार्ड रीडर्स से क्यों नाराज है चुनाव आयोग - Firstpost Hindi

    जानिए आखिर ज्योतिषियों, टैरो कार्ड रीडर्स से क्यों नाराज है चुनाव आयोग - Firstpost Hindi;

    चुनाव आयोग ने वोटिंग खत्म होने के पहले से माडिया से ज्योतिषियों, टैरो कार्ड रीडर, राजनीतिक विश्लेषकों और अन्य दूसरी भविष्यवाणियों या अनुमानों को प्रकाशित और प्रसारित न करने के लिए कहा है. सभी अखबारों और न्यूज चैनलों के लिए जारी की गई एडवाइजरी में चुनाव आयोग ने कहा है कि इस तरह की भविष्यवाणी या अनुमान जनप्रतिनिधित्व कानून की धारा 126 ए की भावना के खिलाफ है. इसलिए आने वाले चुनावों में इसे प्रकाशित/प्रसारित करने से परहेज करें. कानून की धारा 126 ए मीडिया को वोटिंग के 48 घंटे पहले से लेकर जब तक वोटिंग खत्म नहीं हो जाती, तब तक एग्जिट पोल दिखाने से प्रतिबंधित ...और अधिक »