This RSS feed URL is deprecated

बड़ी खबर : पीपीएफ और छोटी बचत जमा योजनाओं पर ब्याज दरों में कटौती का ऐलान, 1 अप्रैल से लागू - एनडीटीवी खबर

नई दिल्ली: नए वित्त वर्ष की शुरुआत कुछ सख्त तरीके से होती लग रही है. सरकार ने लोक भविष्य निधि (पीपीएफ) समेत लघु बचत जमा योजनाओं पर ब्याज दर 0.1 प्रतिशत घटा दी है. नई दरें एक अप्रैल से प्रभावी होने जा रही हैं. इसका सीधा सा अर्थ यह हुआ कि आपको अपने निम्नलिखित खातों व योजनाओं में जमा रकम पर 1 अप्रैल 2017 से कम ब्याज मिलेगा. न्यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (पीपीएफ), किसान विकास पत्र, सुकन्या समृद्धि खाता और सीनियर सिटीजन्स सेविंग्स स्कीम की मौजूदा ब्याज दरों पर यह कटौती लागू होगी. इस नए नियम के मुताबिक, पीपीएफ पर 7.9 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा, जबकि 31 मार्च तक यह 8 फीसदी की दर से मिला है. वहीं किसान विकास पत्र पर 7.6 फीसदी की ...और अधिक »

सरकार ने घटाई स्माल सेविंग स्कीम की ब्याज दर, जानिए आपके लिए कौन सी योजना बेहतर - दैनिक जागरण

नई दिल्ली: केंद्र सरकार ने छोटी बचत योजनाओ को लेकर आज एक बड़ा फैसला किया है। सरकार ने इन योजनाओ पर मिलने वाली ब्याज दर को 0.1 फीसद घटा दिया है। छोटी बचत योजनाओं में सुकन्या समृद्धि योजना, लोक भविष्य निधि (पीपीएफ), वरिष्ठ नागरिक जमा बचत योजना और किसान विकास पत्र आते हैं। आज हम आपको अपनी खबर के माध्यम से इन सभी के बारे में बताने की कोशिश करेंगे, आप खुद तय करें कि आपके लिए इनमें से किस योजना में निवेश करना बेहतर रहेगा। सुकन्या समृद्धि योजना: वित्त वर्ष 2017-18 की अप्रैल-जून तिमाही के लिए सुकन्या समृद्धि योजना समेत तमाम लघु बचत योजनाओं पर ब्याज दर में 0.1 फीसद की कटौती करने का फैसला किया है। वित्त मंत्रालय की अधिसूचना के अनुसार बालिकाओं के लिए ...और अधिक »

बैंकों में सेविंग्स नहीं रहीं आकर्षक, सरकार ने घटाईं ब्याज दरें - नवभारत टाइम्स

छोटी बचत करने वाले लोगों के लिए बुरी खबर है। नए वित्तीय वर्ष से बैंक डिपॉजिट पर ब्याज दरों में कटौती लागू हो जाएगी। केंद्र सरकार ने शुक्रवार को छोटी जमा बचत पर ब्याज दरों में कटौती कर दी है। सरकार ने रिटायरमेंट के बाद की सेविंग्स पर भी ब्याज दरों में कमी की घोषणा कर दी है। बैंक ऑफ इंडिया और बंधन बैंक जैसे बैंकों ने भी ब्याज दरों में कटौती की दिशा में कदम भी बढ़ा दिए हैं। बैंक जगत के बड़े लीडरों का भी मानना है कि सभी लेन्डर अगली तिमाही में ब्याज दरें घटाने का कदम उठा सकते हैं। इसके पीछे कर्ज की कम मांग को भी वजह बताया जा रहा है। फेडरल बैंक के मैनजिंग डायरेक्टर श्याम श्रीनिवासन ने कहा, 'यह निर्णय अकेले नहीं लिया गया है। यह क्रेडिट ग्रोथ और ...और अधिक »

सरकार ने स्मॉल सेविंग स्कीम पर ब्याज दरों में 0.1 प्रतिशत की कटौती की - Firstpost Hindi

सरकार ने पब्लिक प्रोविडेंट फंड किसान विकास पत्र और सुकन्या समृद्धि योजना जैसी स्मॉल सेविंग स्कीम पर ब्याज दर में 0.1 प्रतिशत की कटौती की है. यह कटौती वित्त वर्ष 2017-18 की अप्रैल-जून तिमाही के लिए की गयी है. इससे बैंक जमा दरों में कटौती कर सकते हैं. जनवरी-मार्च तिमाही के मुकाबले अप्रैल-जून अवधि के लिए इन सेविंग स्कीम पर ब्याज दर में 0.1 प्रतिशत की कटौती की गयी है. हालांकि बचत जमा पर सालाना 4 प्रतिशत ब्याज दर को बरकरार रखा गया है. Government reduces interest rate on Public Provident Fund (PPF) to 8.1% from 8.7%; and on Kisan Vikas Patra to 7.8% from 8.7%. — ANI (@ANI_news) March 18, 2016. पिछले साल अप्रैल से स्मॉल सेविंग स्कीम पर ब्याज दर में तिमाही आधार पर ब्याज दर में बदलाव ...और अधिक »

निवेशकों के लिए बुरी खबर, सरकार ने कम किया छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज - दैनिक जागरण

नई दिल्ली। नए वित्त वर्ष की शुरुआत से ठीक एक दिन पहले बड़ी खबर सामने आई है। सरकार ने छोटी बचत जमा पर ब्याज दर कम कर दी है। नए फैसले के मुताबिक छोटी बचत जमा पर ब्याज दर में 0.1 फीसद की कमी की गई है। यह कटौती वित्त वर्ष 2017-18 की अप्रैल-जून तिमाही के लिए की गई है। इससे बैंक जमा दरों में कटौती कर सकते हैं। हालांकि बचत जमा पर सालाना 4 प्रतिशत ब्याज दर को बरकरार रखा गया है। नया नियम 1 अप्रैल से ही अमल में आ जाएगा। इस तरह की स्कीम में पीपीएफ प्रमुखता से शामिल है। गौरतलब है कि साल 2016 के अक्टूबर महीने में भी छोटी बचत योजनाओं में इतनी ही कमी की गई थी। छोटी बचत योजनाओं में क्या कुछ शामिल: छोटी बचत योजनाओं में पब्लिक प्रॉविडंट फंड (पीपीएफ),किसान विकास पत्र ...और अधिक »

अब छोटी बचत स्कीमों पर भी ब्याज दरों में कटौती - Samachar Jagat

नई दिल्ली। सरकार छोटे बचत स्कीमों की ब्याज दरों में कटौती की है। इसके तहत सरकार ने पीपीएफ, किसान विकास पत्र, सुकन्या समृद्धि खाता और वरिष्ठ नागरिक बचत योजना में ब्याज दरों में कटौती करेगी। वित्त मंत्रालय की अधिसूचना के मुताबिक अप्रैल-जून तिमाही से इन स्कीमों की ब्याज दरों में 0.1 फीसदी की कटौती की गई है। सुकन्या समृद्धि स्कीम बच्चियों के लिए है, जिस पर 8.4 फीसदी वार्षिक ब्याज दर है। वित्त मंत्रालय ने कहा है कि नई ब्याज दर 2016-17 की चौथी तिमाही के लिए है जो एक अप्रैल 2017 से शुरू होगा। इसी तरह किसान विकास पत्र पर ब्याज दर 7.6 फीसदी हो जाएगी। पांच वर्षीय वरिष्ठ नागरिक बचत योजना पर 8.4 फीसदी और पांच वर्षीय नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट पर ब्याज दर 7.9 ...और अधिक »

सरकार ने छोटी बचत योजनाओं पर मिलने वाली ब्‍याज दर में की 0.10 फीसदी कटौती, नई दरें एक अप्रैल से होंगी लागू - IndiaTV Paisa

केंद्र सरकार ने शुक्रवार को छोटी बचत योजनाओं जैसे पीपीएफ समेत स्मॉल सेविंग्स डिपॉजिट्स की ब्याज दर 0.1 फीसदी घटा दी है। नई दरें एक अप्रैल से लागू होंगी। Ankit Tyagi [Updated:31 Mar 2017, 1:16 PM IST]. सरकार ने छोटी बचत योजनाओं पर मिलने वाली ब्‍याज दर में की 0.10 फीसदी कटौती, नई दरें एक अप्रैल से होंगी लागू. नई दिल्‍ली। छोटी बचत योजनाओं पर मिलने वाले ब्‍याज में एक बार फि‍र कटौती हो गई है। केंद्र सरकार ने शुक्रवार को पीपीएफ समेत स्मॉल सेविंग्स डिपॉजिट्स की ब्याज दर 0.1 फीसदी घटा दी है। नई दरें एक अप्रैल से लागू होंगी। मंत्रालय ने 2016-17 की चौथी तिमाही के लिए ब्याज दरों को अधिसूचित करते हुए कहा, सरकार के निर्णय के आधार पर लघु बचत जमा योजनाओं पर ब्याज दरों को ...और अधिक »

PPF सहित छोटी बचत स्कीमों पर ब्याज दर घटी - Nai Dunia

नई दिल्ली। सरकार ने पीपीएफ, किसान विकास पत्र और सुकन्या समृद्धि जैसी छोटी बचत स्कीमों पर ब्याज दरें घटा दी हैं। अप्रैल-जून तिमाही के लिए इनमें 0.1 फीसद की कटौती की गई है। यह कदम बैंकों को भी अपनी जमा दरों को घटाने के लिए हवा देगा। फिलहाल सेविंग डिपॉजिट पर चार फीसद ब्याज बना रहेगा। बीते साल अप्रैल से छोटी बचत स्कीमों की ब्याज दरें तिमाही आधार पर संशोधित की जाती हैं। वित्त मंत्रालय की ओर से जारी अधिसूचना के मुताबिक पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (पीपीएफ) स्कीम से अब 7.9 फीसद की दर से ब्याज मिलेगा। यह पांच साल वाले नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (एनएससी) के जितना होगा। दोनों स्कीमों से अब तक आठ फीसद की दर से ब्याज मिलता था। किसान विकास पत्र (केवीपी) में ...और अधिक »

पीपीएफ की ब्याज दर 40 साल के निचले स्तर पर - दैनिक जागरण

नई दिल्ली: केंद्र सरकार की ओर से शुक्रवार को छोटी बचत योजनाओं पर मिलने वाली ब्याज दर को 0.1 फीसद घटा दिया गया है। नई दरें 1 अप्रैल 2017 से ही लागू हो जाएंगी। इस संशोधन के बाद, लोकप्रिय पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (पीपीएफ) पर मिलने वाली ब्याज दर 7.9 फीसद हो जाएगी। राष्ट्रीय बचत संस्थान के मुताबिक यह बीते 40 सालों के इतिहास में सबसे निचला स्तर है। आपको बता दें कि 31 मार्च तक पीपीएफ पर मिलने वाली ब्याज दर 8 फीसद थी। छोटी बचत योजनाओं पर अब नई दर: सुकन्या समृद्धि योजना: वित्त वर्ष 2017-18 की अप्रैल-जून तिमाही के लिए सुकन्या समृद्धि योजना समेत तमाम लघु बचत योजनाओं पर ब्याज दर में 0.1 फीसद की कटौती करने का फैसला किया है। वित्त मंत्रालय की अधिसूचना के अनुसार ...और अधिक »

छोटी बचत योजनाओं पर मिलेगा कम ब्याज - Deutsche Welle

भारत सरकार ने पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (पीपीएफ), किसान विकास पत्र, सुकन्या समृद्धि खाता और सीनियर सेविंग्स स्कीम जैसी छोटी बचत योजनाओं की ब्याज दरों में 0.1 फीसदी की कटौती की है. नई ब्याज दरें 1 अप्रैल से लागू होंगी. Symbolbild - indische Rupie (Getty Images). वित्त मंत्रालय की अधिसूचना के मुताबिक एक अप्रैल को लागू हो रहे इस नये नियम के बाद पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (पीपीएफ) और पांच वर्ष की मियाद वाले नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट पर 7.9 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा. इन दोनों योजनाओं पर अब तक 8 फीसदी की दर से ब्याज मिल रहा था. सुकन्या समृद्धि खाता योजना में भी ब्याज दर 8.5 फीसदी से घटकर 8.4 फीसदी किया गया है. वहीं किसान विकास पत्र पर 7.6 फीसदी की दर से ब्याज ...और अधिक »